Thursday, Oct 28 2021 | Time 11:46 Hrs(IST)
image
बिजनेस


पाथेय ने डिजो वायर्स एंड केबल से मिलाया हाथ

नयी दिल्ली 25 सितंबर (वार्ता) ठोस कचारा प्रबंधन क्षेत्र में कार्यकर गैर-लाभकारी संगठन पीपल्स एसोसिएशन फॉर टोटल हेल्प एंड यूथ अप्लॉज (पाथेय) ने अब बिजली के क्षेत्र में प्रवेश कर रहा है और सोलर केबल्स, वायर्स और अन्य उत्पादों के निर्माण, विपणन और वितरण के लिए डिजो वायर्स एंड केबल के साथ हाथ मिलाया है।
संगठन के रजत जयंती के अवसर पर आज यहां आयोजित एक कार्यक्रम में पाथेय के संस्थापक गिरीजेश चौबे ने कहा कि कचरे को धन-बायोगैस, बिजली, सीएनजी और उर्वरक में बदलने में उनका संगठन पहले से कार्यरत है। संगठन भारत के ठोस अपशिष्ट प्रबंधन के तरीके को बदल रहा है और अब 14 राज्यों को एक उन्नत प्रबंधन प्रणाली प्रदान करता है। इसने द्वारका, गोयला डेयरी त नांगल डेयरी में अपनी जैव-अपशिष्ट आधारित सीएनजी उत्पादन इकाई एवं कानपुर कैंट में, एक डीजल उत्पादन इकाई स्थापित की है।
उन्हाेंने कहा कि संगठन की योजना अन्य राज्यों में भी ऐसी इकाइयां स्थापित करने की है। उन्होंने कहा, “पिछले 25 वर्षों में, हमने शिक्षा, स्वास्थ्य, पर्यावरण और उद्यमिता के क्षेत्र में कई मील के पत्थर हासिल किए हैं। अब तक छूट रहे राज्यों के लिए हमारे कुशल और आधुनिक ठोस अपशिष्ट प्रबंधन और स्वच्छ पर्यावरण कार्यक्रम का विस्तार करके पर्यावरण की सुरक्षा के लिए नई पहल के साथ एक यात्रा शुरू होती है। हम 2022 तक अन्य 10 राज्यों तक पहुंचने की उम्मीद करते हैं। अपशिष्ट प्रबंधन के साथ, संगठन का उद्देश्य समग्र सामुदायिक विकास के लिए पर्यावरण, कृषि,रोजगार, स्वास्थ्य, शिक्षा और संस्कृति को बढ़ावा देना है।''
शेखर
वार्ता
More News
image