Monday, Apr 15 2024 | Time 15:51 Hrs(IST)
image
बिजनेस


वैश्विक एजेंसियों ने बढ़ाये भारत के विकास अनुमान: रिपोर्ट

नयी दिल्ली 20 फरवरी (वार्ता) सरकार ने आज कहा कि वित्त वर्ष 2024 की दूसरी तिमाही में उम्मीद से बेहतर प्रदर्शन और वित्त वर्ष 24 के लिए 7 प्रतिशत से अधिक विकास अनुमान से उत्साहित होकर कई वैश्विक एजेंसियों ने भारत के विकास अनुमान को बढ़ाया है।
वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग द्वारा मासिक रिपोर्ट में यह बात कही गयी है। इसमे कहा गया है कि यह चल रही भू-राजनीतिक बाधाओं के बीच भी अपने विकास पथ को बनाए रखने के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था के लचीलेपन को दर्शाता है। अगले वित्त वर्ष के अंतरिम बजट में घोषित उपायों से भारत की विकास यात्रा को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की उम्मीद है।
इसमें कहा गया है कि केंद्रीय बजट में घोषित पूंजीगत व्यय पर सरकारी खर्च में बढ़ोतरी के कारण इसके कुल व्यय में कोई बड़ा उछाल नहीं आया है। बल्कि, सरकारी व्यय में पुनर्प्राथमिकता आई है, जैसा कि पूंजीगत परिव्यय और राजस्व व्यय अनुपात में सुधार में परिलक्षित हुआ है। बढ़ती पूंजीगत व्यय के बावजूद, लोगों को अनिश्चितताओं के प्रभाव से बचाने के लिए आवश्यक व्यय से समझौता नहीं किया गया है। आर्थिक विकास के लिए सरकार के समावेशी दृष्टिकोण को गरीबों, महिलाओं, युवाओं और किसानों के लिए घोषित की गई कई पहलों में उजागर किया गया है।
रिपोर्ट में कहा गया है कि बदलते खर्च के पैटर्न के बीच, राजकोषीय सुदृढ़ीकरण के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता से समझौता नहीं किया गया है, क्योंकि वह सुव्यवस्थित पथ पर चलने के लिए दृढ़ है। सरकार ने वित्त वर्ष 2014 के लिए अपने राजकोषीय घाटे के अनुमान को बजट अनुमान 5.9 प्रतिशत की तुलना में घटाकर नाममात्र सकल घरेलू उत्पाद का 5.8 प्रतिशत कर दिया है, और वित्त वर्ष 2015 में इसे और कम करके 5.1 प्रतिशत करने के लिए प्रतिबद्ध है। वैश्विक मंदी, विशेषकर भारत के प्रमुख व्यापारिक साझेदारों में मंदी के कारण भारत के व्यापारिक निर्यात की मांग में मंदी आई है। साथ ही, अंतर्राष्ट्रीय कमोडिटी कीमतों में गिरावट के कारण आयात के समग्र मूल्य में गिरावट आई है, जो रूस-यूक्रेन संघर्ष के फैलने के बाद बढ़ी थी। इससे वित्त वर्ष 24 के पहले दस महीनों में भारत के व्यापारिक व्यापार घाटे में कमी आई है। बढ़ती शुद्ध सेवा प्राप्तियों के साथ-साथ व्यापारिक व्यापार घाटा कम होने से भारत के चालू खाता घाटे में सुधार होने की उम्मीद है।
इसमें कहा गया है कि भारत के मजबूत व्यापक आर्थिक बुनियादी सिद्धांतों, उच्च विकास और स्थिर कारोबारी माहौल ने विदेशी पोर्टफोलियो प्रवाह (एफपीआई) को बढ़ावा दिया है। खाद्य पदार्थों के साथ-साथ मुख्य मुद्रास्फीति में गिरावट के कारण जनवरी 2024 में मुद्रास्फीति का दबाव कम हो गया है। खाद्य पदार्थों की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए सरकार द्वारा हाल ही में घोषित उपायों से मुद्रास्फीति में और कमी आने की संभावना है। अल नीनो के ख़त्म होने की उम्मीदें और सामान्य मानसून का पूर्वानुमान सामान्य से बेहतर ख़रीफ़ बुआई1 के लिए शुभ संकेत है। रोजगार के मोर्चे पर, वित्त वर्ष 24 की तीसरी तिमाही में शहरी बेरोजगारी दर घटकर 6.5 प्रतिशत हो गई, जो आवधिक श्रम बल सर्वेक्षण (पीएलएफएस) की शुरुआत के बाद से सबसे कम है। औपचारिक क्षेत्र के रोजगार में भी मजबूत वृद्धि देखी गई।
पीएमआई विनिर्माण और सेवा रोजगार उप-सूचकांक रोजगार सृजन में व्यापक सुधार दर्शाते हैं। समावेशी विकास और सभी के कल्याण को बढ़ाने पर सरकार का जोर सामाजिक सेवाओं पर बढ़ते खर्च में परिलक्षित होता है। न केवल प्रमुख सामाजिक योजनाओं के लिए परिव्यय में वृद्धि हुई है, बल्कि कुल व्यय में सामाजिक सेवाओं पर खर्च की हिस्सेदारी में भी वृद्धि हुई है। वित्तीय सहायता के रूप में उच्च शिक्षा के लिए सरकारी पहल और उच्च शिक्षा संस्थानों की संख्या में वृद्धि ने हाशिए पर रहने वाले छात्रों को उच्च शिक्षा लेने के लिए प्रोत्साहित किया है।
रिपोर्ट के अनुसार भारत के सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था के रूप में उभरने के साथ-साथ गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा प्रणाली भी आगे बढ़ रही है। स्वास्थ्य क्षेत्र में सार्वजनिक निवेश की दिशा में सरकार के प्रयासों पर प्रकाश डालते हुए, राष्ट्रीय स्वास्थ्य लेखा (एनएचए) के निष्कर्षों से पता चलता है कि विभिन्न संकेतकों ने निरंतर आधार पर उत्साहजनक प्रवृत्ति का प्रदर्शन किया है।
शेखर
वार्ता
image