Thursday, May 23 2024 | Time 20:33 Hrs(IST)
image
बिजनेस


महिला उद्यमियों पर ब्रिक्स सीसीआई वी की रिपोर्ट

नयी दिल्ली 16 अप्रैल(वार्ता) ब्रिक्स चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री की महिला सशक्तिकरण इकाई ब्रिक्स सीसीआई वी ने न्यू एरा ऑफ ब्रिक्स-होरिजन्स इन टेक एंड बिजनेस फॉर वुमेन एंपावरमेंट शीर्षक से एक विशेष रिपोर्ट जारी की है जिसमें मौजूदा लिंग भेद और बाधाओं से निपटने के लिए सामूहिक प्रयासों की जरूरत पर बल दिया गया है।
रिपोर्ट में महिला उद्यमियों के लिए लक्षित सहयोग जैसी पहल की वकालत भी की गयी है साथ ही यह विविधता एवं समावेशिता को बढ़ावा देने और महिलाओं के बीच स्टेम शिक्षा को प्रोत्साहन देने पर भी जोर दिया गया है। सामूहिक प्रयासों और लक्षित पहल के जरिए ब्रिक्स देशों ने लिंग समानता बढ़ाने और समावेशी आर्थिक वृद्धि को प्रोत्साहन देने का लक्ष्य रखा है।
यह रिपोर्ट शीएटवर्क और नॉलेज पार्टनर के तौर पर टेकआर्क के सहयोग से तैयार की गयी है। इसकाे पूर्व ब्रिक्स शेरपा और भारत सरकार के सचिव रहे एएमबी संजय भट्टाचार्य द्वारा किया गया। इस मौके पर ब्रिक्स सीसीआई वी की अध्यक्ष एवं शीएटवर्क डॉटकॉम की संस्थापक रूबी सिन्हा ने कहा, “जैसा कि सभी ब्रिक्स देशों में महिलाओं द्वारा टेक्नोलॉजी एवं उद्यमशीलता में की गई प्रगति का जश्न हम मना रहे हैं, यह रिपोर्ट प्रगति का एक प्रमाण होने के साथ ही कार्रवाई का आह्वान भी करती है। ब्रिक्स गठबंधन में नए सदस्यों के शामिल होने और वैश्विक आबादी एवं अर्थव्यवस्था के एक महत्वपूर्ण हिस्से का प्रतिनिधित्व होने के साथ यह अनिवार्य हो जाता है कि हम टेक्नोलॉजी और कारोबार के क्षेत्रों में लिंग समानता की पहल को प्राथमिकता दें। विश्वभर में महिलाओं के लिए उज्ज्वल, अधिक न्यायसंगत भविष्य का मार्ग प्रशस्त करने के लिए आइये हम नवप्रवर्तन एवं उद्यमशीलता की ताकत का दोहन करें।”
ब्रिक्स सीसीआई की संयुक्त निदेशक सुश्री अंकिता सचदेवा ने कहा, “जैसा कि हमने 2023 में बिक्स का विस्तार होते देखा है, यह स्पष्ट है कि टेक और कारोबार क्षेत्रों में लिंग समानता की पहल पूर्व के मुकाबले कहीं अधिक महत्वपूर्ण है। हमें ऐसी नीतियों और कार्यक्रमों की सतत वकालत करते रहना होगा जो संसाधनों, अवसरों और मार्गदर्शन तक महिलाओं की पहुंच का समर्थन करे।”
सुश्री सिन्हा ने रिपोर्ट का उल्लेख करते हुये कहा कि भारत में स्टेम क्षेत्रों में भारतीय महिलाओं की उल्लेखनीय भूमिका है, लेकिन नेतृत्व भूमिका और वेंचर कैपिटल फंडिंग हासिल करने में उनके समक्ष चुनौतियां हैं जहां केवल 0.3 प्रतिशत स्टार्टअप फंडिंग मिल रही है। ब्राजील में उद्यमशीलता का जो ब्रह्मांड है उसके करीब 30 प्रतिशत का नेतृत्व या सृजन महिलाओं द्वारा किया गया है। ऐसे उपक्रम छोटे हैं और वित्त तक उनकी पहुंच सीमित है जिसमें टेक स्टार्टअप्स का केवल 9.8 प्रतिशत महिलाओं द्वारा स्थापित है। इसी तरह से रूस में प्रौद्योगिकी भूमिकाओं में महिलाओं की भागीदारी उल्लेखनीय है जहां 40 प्रतिशत अनुसंधानकर्ता महिलाएं हैं। हालांकि, महिलाओं द्वारा स्थापित स्टार्टअप्स के लिए वेंचर कैपिटल फंडिंग निम्न स्तर पर बनी हुई है।
उन्होंने कहा कि चीन में कुल विज्ञान कार्यबल में महिला विज्ञान कर्मचारी करीब 45 प्रतिशत हैं जिससे मानव अंतरिक्ष यान, अंतरिक्ष खोज, मेडिसिन, कंप्यूटर साइंस और विभिन्न अन्य क्षेत्रों सहित उल्लेखनीय प्रयासों में वे एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं। दक्षिण अफ्रीका में प्रौद्योगिकी दिग्गजों में नेतृत्व स्थितियों में महिलाओं का उल्लेखनीय योगदान है जिसमें 28 प्रतिशत नेतृत्व भूमिकाएं उनके पास हैं।
शेखर
वार्ता
More News
न्यू इंडिया एश्योरेंस का शुद्ध लाभ चौथी तिमाही में 128 प्रतिशत बढ़ा

न्यू इंडिया एश्योरेंस का शुद्ध लाभ चौथी तिमाही में 128 प्रतिशत बढ़ा

23 May 2024 | 7:50 PM

नयी दिल्ली, 23 मई (वार्ता) न्यू इंडिया एश्योरेंस ने गुरुवार को वित्त वर्ष 2023-24 की जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान शुद्ध लाभ 128 प्रतिशत से अधिक बढ़कर 354 करोड़ रुपये होने की घोषणा की ।

see more..
चौथी तिमाही में श्रीराम जनरल इंश्योरेंस का शुद्ध लाभ 121 करोड़ रुपये

चौथी तिमाही में श्रीराम जनरल इंश्योरेंस का शुद्ध लाभ 121 करोड़ रुपये

23 May 2024 | 7:40 PM

नयी दिल्ली, 23 मई (वार्ता) श्रीराम ग्रुप और अफ्रीका की सनलाम लिमिटेड के संयुक्त स्वामित्व वाली श्रीराम जनरल इंश्योरेंस कंपनी (एसजीआईसी) ने मार्च, 2024 को समाप्त चौथी तिमाही के दौरान 121 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ होने की घोषणा की है जबकि वित्तीय वर्ष 2024 के लिए मुनाफा -24 22 प्रतिशत बढ़कर 455 करोड़ रुपये पर पहुंच गया।

see more..
image