Sunday, Dec 17 2017 | Time 13:21 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • शाहरूख को सबसे रोमांटिक हीरो मानती है करीना
  • शाहरूख को सबसे रोमांटिक हीरो मानती है करीना
  • शाहरूख को सबसे रोमांटिक हीरो मानती है करीना
  • सुचित्रा सेन और ऐश्वर्या राय के बाद ऋचा चड्ढा बनेगी पारो
  • सस्पेंस थ्रिलर बनायेंगे सिद्धार्थ राय कपूर
  • दूरदर्शन पर एयर होस्टेस के जीवन पर कार्यक्रम का प्रसारण
  • सस्पेंस थ्रिलर बनायेंगे सिद्धार्थ राय कपूर
  • सस्पेंस थ्रिलर बनायेंगे सिद्धार्थ राय कपूर
  • सलमान-गोविंदा फिर बनेंगे पार्टनर!
  • ट्रक की चपेट में आने से युवक की मौत
  • सलमान-गोविंदा फिर बनेंगे पार्टनर!
  • सलमान-गोविंदा फिर बनेंगे पार्टनर!
  • दुकान से साढ़े चार लाख रूपये के आभूषण की चोरी
  • तालाब में डूबने से महिला की मौत
  • एक महीने में सोने की पहली साप्ताहिक बढ़त
बिजनेस Share

बधिर दिव्यांगों के लिए कौशल विकास केन्द्र शुरू

नयी दिल्ली 24 फरवरी (वार्ता) सेंटम फाउंडेशन ने बधिर दिव्यांगों के कौशल विकास के लिए राजधानी में सेंटम ग्रो प्रशिक्षण केन्द्र शुरू किया है।
सेंटम फाउंडेशन ने अमेरिका के ग्लोबल रीच आउट (ग्रो) के सहयोग से यह केन्द्र शुरू किया है। इसके साथ ही उसे दूरसंचार सेवायें देने वाली देश की सबसे बड़ी निजी टेलीकॉम कंपनी भारती एयरटेल ने सहयोग किया है। इस केन्द्र में बधिर दिव्यांगों में नेतृत्व क्षमता विकास के साथ ही उद्यमशीलता का भाव जागृत किया जायेगा।
फांउडेशन ने बताया कि ग्रो के साथ मिलकर वह अब तक भारत,केन्या,ग्वाटेमाला,होंडुरास और थाईलैंड में एक हजार से अधिक बधिर दिव्यांगों में कौशल विकास किया जा चुका है और अब राजधानी दिल्ली में केन्द्र शुरू किया गया है ताकि यहां के बधिर दिव्यांगों को रोजगारोन्मुख बनाया जा सके।
इस केन्द्र में 40 छात्रों ने पंजीयन कराया है और उनका प्रशिक्षण शुरू हो गया है जहां उन्हें विभिन्न क्षेत्रों के अनुरूप प्रशिक्षित करने के साथ ही कार्यस्थल पर संवेदनशीलता आदि के भी प्रशिक्षण दिये जा रहे हैं।
सेंटम लर्निंग के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एवं प्रबंध निदेशक संजीव दुग्गल ने कहा कि उकनी कंपनी एक दशक से अधिक से कौशल विकास के क्षेत्र में कार्यरत है। उन्होंने कहा कि देश में 1.2 करोड़ बधिर दिव्यांग है और उनमें से 80 फीसदी औपचारिक तौर पर शिक्षित नहीं है तथा जिन्होंने पढ़ाई भी की है उन्हें शिक्षा के बाद बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।
उन्होंने कहा कि इसी वर्ग को लक्षित कर यह प्रशिक्षण केन्द्र शुरू किया गया है जहां उनका कौशल विकास करने के साथ ही उनमें उद्यमशिलता का भाव भी पैदा किया जायेगा और आगे चलकर उन्हें रोजगार आदि शुरू करने में मदद करने की भी योजना है। केन्द्र में प्रशिक्षित छात्रों को रोजगार भी दिया जायेगा। तीन महीने के इस प्रशिक्षण में मल्टीमीडिया, अकाउंटिंग, बीपीओ/ डीपीओ और आईटी क्षेत्र में रोजगार के लिए प्रशिक्षित किया जायेगा और इसके लिए न्यूनतम अर्हता स्नातक है।
शेखर अर्चना
वार्ता
image