Wednesday, Apr 24 2019 | Time 20:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एनआईटी मामले में सरकार से जवाब तलब
  • कोलकाता हवाई अड्डे पर दो महिला यात्रियों से 2 लाख डॉलर बरामद
  • कार से मिली कोरेक्स की बोतलें व नशीली गोलियां : 12 साल की कैद
  • निशान सिंह के विरुद्ध मामला दर्ज किया जाए: जत्थेदार
  • अमृतसर में अब तक छह प्रत्याशियों ने किये नामांकन
  • स्कूली बस और हाइवा की टक्कर में चालक की मौत, छह बच्चे घायल
  • हरिसिंह अकादमी लक्ष्मण दास क्रिकेट टूर्नामेंट के फाइनल में
  • बीआरटीएस बसों में मुफ्त यात्रा होगी 27 अप्रैल से बंद
  • आतंकवाद पर इमरान के बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया: पाकिस्तान
  • कांग्रेस ने भाजपा प्रत्याशी रामस्वरूप शर्मा की आयकर रिटर्न पर उठाए सवाल
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • महागठबंधन में एक-एक दिन प्रधानमंत्री बनने की है होड़ : अमित शाह
  • जालंधर सीट से दो उम्मीदवारों ने किये नामांकन
  • क्रिकइंफो की ऑल टाइम विश्व कप एकादश में केवल सचिन
  • गुजरात में 64 11 प्रतिशत मतदान
बिजनेस


हायरमी का एआईसीटीई के साथ करार

नयी दिल्ली 13 सितंबर (वार्ता) कौशल परीक्षण रोजगार प्लेटफॉर्म के साथ नियोक्ताओं और छात्रों को एक मंच प्रदान करने वाले वेब पोर्टल और मोबाइल ऐप हायरमी ने अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के साथ करार किया है।
हायरमी ने आज यहां बताया कि इस करार के तहत एआईसीटीई से संबद्ध कॉलेजों और शैक्षणिक संस्थानों के छात्रों को वह अपनी तरह का पहला प्लेसमेंट सॉल्यूशन मुहैया करायेगी जबकि एआईसीटीई संबद्ध संस्थानों में इसकी पहुंच का विस्तार करने में मदद करेगी।
हायरमी के संस्थापक चॉको वलियप्पा ने कहा कि मौजूदा रिक्रूटमेंट माॅडल को बदलने के उद्देश्य से वेब पोर्टल आैर ऐप लांच किये गये हैं। ज्यादातर नियोक्ता निर्धारित बजट के तहत काम करते हैं और कैम्पस प्लेसमेंट के लिए चुनिंदा कॉलेजों में ही जा पाते हैं। ऐसे में कम प्रसिद्ध तथा दूरस्थ संस्थानों के विद्यार्थी भर्ती प्रक्रिया में पीछे छूट जाते हैं। हायरमी विद्यार्थियों को अपने कौशल तथा योग्यता के अनुसार नौकरियां पाने में मदद करती है। पोर्टल और ऐप तक पहुंचने के लिए कोई शुल्क नहीं लिया जाता है।
उन्होंने कहा कि वर्ष 2017-18 में 10 लाख युवाओं के कौशल का आँकलन करने और वर्ष 2018 के अंत तक एक लाख रोजगार के मौके पैदा करने का मिशन शुरू किया गया है। एआईसीटीई के साथ करार से इस मिशन को गति मिलेगी और लक्ष्य हासिल किया जा सकेगा।
शेखर अजीत
वार्ता
image