Thursday, May 28 2020 | Time 12:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • दक्षिण कोरिया में कोरोना के 79 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 11344 हुई
  • अरुणाचल प्रदेश में कोरोना के तीसरे मामले की पुष्टि
  • झांसी: तीन नये कोरोना पॉजिटिव, एक की मौत
  • औरंगाबाद में कोरोना के 35 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 1400 के करीब
  • देश में ड्रीमलाइनर की पहली उड़ान
  • पुलवामा में वाहन से विस्फोटक बरामद, बड़े हमले की योजना विफल
  • सरकारों को प्रवासी मजदूरों की बिल्कुल चिंता नहीं : मायावती
  • पेट्रोल-डीजल के भाव
  • नासिक में कोरोना संक्रमण के 48 नये मामले
  • शुरुआती कारोबार में 400 अंक चढ़ा सेंसेक्स
  • संतूर आश्रम के जीर्णोद्धार के लिए ग्लोबल म्यूजिक फेस्टिवल का आयोजन
  • जमुई में गोलीबारी कांड का आरोपी गिरफ्तार
  • नासिक में कोरोना संक्रमण के 48 नये मामले
  • बक्सर में कोरोना संदिग्ध प्रवासी मजदूर की मौत
  • सेंसेक्स 400 अंक और निफ्टी 120 अंक उछला
मनोरंजन


विनोद खन्ना को प्रारंभिक सफलता गुलजार की फिल्म .मेरे अपने. से मिली। इसे महज एक संयोग ही कहा जायेगा कि गुलजार ने बतौर निर्देशक करियर की शुरूआत की थी। छात्र राजनीति पर आधारित इस फिल्म में मीना कुमारी ने भी अहम भूमिका निभाई थी। फिल्म में विनोद खन्ना और शत्रुध्न सिंहा के बीच टकराव देखने लायक था। वर्ष 1973 में विनोद खन्ना को एक बार फिर से निर्देशक गुलजार की फिल्म ..अचानक ..में काम करने का अवसर मिला जो उनके करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी। फिल्म से जुड़ा एक रोचक तथ्य है कि इस फिल्म में कोई गीत नही था। वर्ष 1974 में प्रदर्शित फिल्म ..इम्तिहान ..विनोद खन्ना के सिने करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी।
वर्ष 1977 में प्रदर्शित फिल्म ..अमर अकबर ऐंथोनी ..विनोद खन्ना के सिने करियर की सबसे कामयाब फिल्म साबित हुयी। मनमोहन देसाई के निर्देशन में बनी यह फिल्म .खोया पाया .फार्मूले पर आधारित थी। तीन भाइयों की जिंदगी पर आधारित इस मल्टीस्टारर फिल्म में अमिताभ बच्चन और ऋषि कपूर ने भी अहम भूमिका निभाई थी। वर्ष 1980 में प्रदर्शित फिल्म ..कुर्बानी ..विनोद खन्ना के करियर की एक और सुपरहिट फिल्म साबित हुयी । फिरोज खान के निर्माण और निर्देशन में बनी इस फिल्म में विनोद खन्ना अपने दमदार अभिनय की वजह से सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित किये गये।
अस्सी के दशक में विनोद खन्ना शोहरत की बुलंदियो पर जा पहुंचे और ऐसा लगने लगा कि सुपरस्टार अमिताभ बच्चन को उनके सिंहासन से विनोद खन्ना उतार सकते है लेकिन विनोद खन्ना ने फिल्म इंडस्ट्री को अलविदा कह दिया और आचार्य रजनीश के आश्रम की शरण ले ली। वर्ष 1987 में विनोद खन्ना ने एक बार फिर से फिल्म ..इंसाफ ..के जरिये फिल्म इंडस्ट्री का रूख किया। वर्ष 1988 में प्रदर्शित फिल्म ..दयावान .. विनोद खन्ना के करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शामिल है। हालांकि यह फिल्म टिकट खिड़की पर कामयाब नहीं रही लेकिन समीक्षको का मानना है कि यह फिल्म विनोद खन्ना के करियर की उत्कृष्ठ फिल्मों में एक है ।
फिल्मों में कई भूमिकाएं निभाने के बाद विनोद खन्ना ने समाज सेवा के लिए वर्ष 1997 में राजनीति में प्रवेश किया और भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से वर्ष 1998 में गुरदासपुर से चुनाव लड़कर लोकसभा सदस्य बने। बाद में उन्हें केन्द्रीय मंत्री के रूप में भी उन्होंने काम किया। वर्ष 1997 में अपने पुत्र अक्षय खन्ना को फिल्म इंडस्ट्री में स्थापित करने के लिये विनोद खन्ना ने फिल्म .हिमालय पुत्र .का निर्माण किया। फिल्म टिकट खिड़की पर बुरी तरह से नकार दी गयी। दर्शको की पसंद को ध्यान में रखते हुये विनोद खन्ना ने छोटे पर्दे की ओर भी रूख किया और महाराणा प्रताप और मेरे अपने जैसे धारावाहिकों में अपने अभिनय का जौहर दिखाया1। विनोद खन्ना ने अपने चार दशक लंबे सिने करियर में लगभग 150 फिल्मों में अभिनय किया। अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध करने वाले विनोद खन्ना 27 अप्रैल 2017 को अलविदा कह गये।
प्रेम, प्रियंका
वार्ता
image