Tuesday, Oct 22 2019 | Time 02:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • यमन में हवाई हमले में चार लोगों की मौत
  • रुस की अदालत ने बांध टूटने के मामले में तीन लोगों को हिरासत में भेजा
  • घाना में कार दुर्घटनाग्रस्त, छह की मौत, 12 घायल
  • बंगाल में एनआरसी लागू नहीं किया जाएगा : ममता
  • आदर्श चुनाव संहिता उल्लंघन मामले में कांग्रेस सांसद जमानत पर छूटे
फीचर्स


प्रदूषित यमुना में घडियाल के प्रजनन से जगी उम्मीद

प्रदूषित यमुना में घडियाल के प्रजनन से जगी उम्मीद

इटावा , 18 जून (वार्ता) देश की सबसे प्रदूषित नदियों मे शुमार यमुना नदी मे घड़ियालो के दर्जनो बच्चे दिखने से यहां पर्यावरणविदों के बीच उत्साह की लहर दौड़ गयी है।

पर्यावरणविदों का मानना है कि घड़ियालों की मौजूदगी ने उस धारणा को भी खारिज कर दिया है है कि प्रदूषित जल मे घाडियाल का प्रजनन नही होता है । इससे यह उम्मीद भी बंध चली है कि आने वाले दिनो मे चंबल के अलावा यमुना नदी भी घाडियालो के प्रजनन के लिये एक मुफीद प्राकृतिक वास बन सकेगा ।

भारतीय वन्य जीव संस्थान की परियोजना नमामी गंगे के सरंक्षण अधिकारी डा.राजीव चौहान का कहना है कि यमुना नदी मे घाडियाल का प्रजनन यह इंगित करता है कि इस क्षेत्र मे यमुना नदी के पानी मे शुद्वता है और यह क्षेत्र घडियालो के प्राकृतिक आवास बन सकता है । यदि यमुना के पानी को शुद्व बनाने के जो प्रयास किये जा रहे है वह कारगर साबित होते हुए दिख रहे है । आने वाले दिनो मे यमुना नदी जैव विविधता के संरक्षण का एक नया मॉडल साबित हो सकता है।

वन्यजीव संरक्षण की दिशा मे काम रही संस्था सोसायटी फार कंजरवेशन आफ नेचर के सचिव संजीव चौहान का कहना है कि यमुना नदी मे बीच बीच मे छोडे जाने वाले पानी की वजह से इटावा के आसपास का पानी साफ हो गया है और इसी वजह से घडियालो ने यमुना नदी मे प्राकृतिक वास बनाया है । ऐसा लगने लगा है देश मे सबसे प्रदूषित यमुना नदी का पानी कही ना कही अब इटावा के आसपास साफ हो रहा है इसी वजह से अब घडियाल यमुना नदी मे प्रजनन करने लगे है। इस बदलाव को लेकर ऐसी उम्मीद बंधी है कि अब यमुना नदी भी घडियालो को पालने के लिये मुफीद मानी जा सकती है ।

सं प्रदीप

जारी वार्ता

More News
खुद के शहर ने ही भुला दिया फिराक

खुद के शहर ने ही भुला दिया फिराक

27 Aug 2019 | 4:14 PM

गोरखपुर, 27 अगस्त (वार्ता) “बहुत पहले से उन क़दमों की आहट जान लेते हैं, तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं”। उर्दू साहित्य के क्षेत्र में गोरखपुर का नाम देश दुनिया में रोशन करने वाले अजीम शायर फिराक गोरखपुर को उनके ही शहर ने बिसरा दिया है।

see more..
छात्राओं के साथ उनकी मां को भी साक्षर बना रही है एक शिक्षिका

छात्राओं के साथ उनकी मां को भी साक्षर बना रही है एक शिक्षिका

27 Aug 2019 | 1:24 PM

कुशीनगर 27 अगस्त (वार्ता) उत्तर प्रदेश में सरकारी स्कूलों की बदहाली हमेशा चर्चा मेे रहती है लेकिन कुशीनगर के एक प्राथमिक स्कूल की शिक्षिका स्कूली बच्चों के साथ साथ उनकी माताओं को भी साक्षर और सशक्त बनाने की अनूठी मुहिम में जुटी हुयी है।

see more..
लालसेना ने बिना खून खराबे के छुड़ाये थे अग्रेंजो के छक्के

लालसेना ने बिना खून खराबे के छुड़ाये थे अग्रेंजो के छक्के

16 Aug 2019 | 8:27 PM

इटावा , 13 अगस्त (वार्ता) स्वतंत्रता आंदोलन में नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की आजाद हिन्द फौज के अहम योगदान से हर देशवासी भलीभांति परिचित है लेकिन कुछ ही लोगों को पता होगा कि दशकों तक दस्यु गिरोहों के आंतक का पर्याय बनी चंबल घाटी में लालसेना ने बगैर खून खराबे के अंग्रेजी हुकूमत के छक्के छुड़ा दिये थे।

see more..
आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

आजादी के दीवानो में जोश भरने वीरंगना लक्ष्मीबाई आई थी भरेह किला

12 Aug 2019 | 1:26 PM

इटावा , 12 अगस्त (वार्ता) प्रथम स्वतंत्रता संग्राम की नायिका वीरंगना रानी लक्ष्मी बाई इटावा में चंबल नदी के किनारे स्थित भरेह के ऐतिहासिक किले मे आजादी के दीवानो मे जोश भरने को आई थी ।

see more..
रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

रक्षा बंधन पर ‘पत्थर युद्ध’ के लिए रणबांकुरे हैं तैयार

11 Aug 2019 | 2:24 PM

नैनीताल, 11 अगस्त (वार्ता) रक्षाबंधन पर जहां पूरा देश भाई बहन के पवित्र प्यार की डोर से बंधकर खुशी में सराबोर रहता है वहीं इस दिन उत्तराखंड में कुमायूं के देवीधूरा में ‘पत्थर युद्ध’ खेला जाता है और इसकी तैयारी में जुटे प्रशासन ने जरूरी चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने की पुख्ता व्यवस्था कर ली है।

see more..
image