Sunday, Jul 21 2019 | Time 14:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • डी राजा बने भाकपा के महासचिव
  • तिमाही परिणामों और वैश्विक संकेतों से तय होगी बाजार की चाल
  • डी राजा भाकपा के महासचिव बने
  • जब्त ब्रिटीश तेल टैंकर चालक दल के सभी सदस्य सुरक्षित
  • पंजाब से नशे की समस्या को खत्म करने को हम प्रतिबद्ध हैं : हरप्रीत सिद्धू
  • सोना 300 रुपये चमका, चांदी 2500 रुपये उछली
  • ‘यूनाइटेड इंडिया’ के रूप में उभर रहा है भारत: संजय डालमिया
  • ईरान ने ओमानी जल क्षेत्र में स्टेना इम्पेरो टैंकर काे जब्त किया : ब्रिटेन
  • रिकार्ड से फिसला विदेशी मुद्रा भंडार
  • ममता ने वाम शासन के दौरान मारे गये लोगों को श्रद्धांजलि दी
  • शून्यकाल में उठने वाले मामलों की जानकारी संबंधित विभागों तक पहुंचायी जाए - अध्यक्ष
  • चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण सोमवार को
  • सोपोर में 15 वांछित लकड़ी तस्कर गिरफ्तार
  • कोविंद,मोदी,राजनाथ ने गर्ग के निधन पर जताया शोक
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


खनकती आवाज की मल्लिका थी शमशाद बेगम

(जन्म शताब्दी 14 अप्रैल के अवसर पर)
मुंबई 13 अप्रैल (वार्ता) जिन लोगों ने चालीस के दशक में बनी फिल्म पतंगा के गीत ‘मेरे पिया गये रंगून किया है वहां से टेलीपून..सुना होगा उन्हें अवश्य पता होगा कि इस फिल्म में शमशाद बेगम ने अपनी जादुई आवाज दी थी।
खनकती आवाज की मल्लिका कही जाने वाली शमशाद बेगम का जन्म पंजाब के अमृतसर में 14 अप्रैल 1919 को हुआ। इस दौर में भोंपू और ग्रामोफोन से यदि कोई आवाज निकलती तो शमशाद उसे गाने लगती। यही उनका रियाज और उनकी साधना थी। संगीतकार मास्टर गुलाम हैदर ने जब शमशाद की आवाज को सुना तब महज 13 वर्ष की उम्र में एक पंजाबी गीत “हथ जोड़िया पंखिया दे” गवाया।
शमशाद बेगम की आवाज में रचा बस यह गीत काफी लोकप्रिय हुआ। इसके बाद रिकार्ड कंपनी ने उनसे कई गीत गवाये। उस दौर में शमशाद बेगम को प्रति गीत साढ़े 12 रुपये मिला करते थे। इसी दौरान पंजाबी फिल्मों के जाने माने फिल्मकार दिलसुख पंचोली ने शमशाद बेगम की प्रतिभा को पहचाना और उन्हें अपनी फिल्म यमला जट में पार्श्वगायन का मौका दिया। इस फिल्म के लिये शमशाद बेगम ने आठ गीत गाये। रोचक तथ्य है इसी फिल्म से सदी के खलनायक प्राण ने अपनी अभिनय यात्रा शुरू की थी।
प्रेम, उप्रेती
जारी वार्ता
image