Saturday, Aug 8 2020 | Time 02:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • विमान हादसाः 'पायलटों की मौत, राहत एवं बचाव कार्य जारी'
  • विमान हादसाः 17 की मौत, कई घायल, कोविंद- मोदी ने जताया शोक
  • केजरीवाल ने केरल में हुए विमान हादसे पर जताया शोक
  • विमान हादसे से आहत हूं, विजयन से की बातः मोदी
  • कोझिकोड विमान दुर्घटना पर वेंकैया ने जताया दुख
  • विमान हादसाः राजनाथ ने लोगों की मौत पर जताया शोक
  • विमान हादसे से आहत हूं, विजयन से की बातः मोदी
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


अभिनेता बनना चाहते थे ख्य्याम साहब

मुंबई 19 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के महान संगीतकार ख्य्याम ने मधुर धुनों से लगभग पांच दशकों तक लोगों को अपना दीवाना बनाया लेकिन वह संगीतकार नहीं, बल्कि अभिनेता बनना चाहते थे।
ख्य्याम साहब का मूल नाम मोहम्मद जहूर खय्याम हाशमी था। उनका जन्म अविभाजित पंजाब में नवांशहर जिले के राहोन गांव में 18 फरवरी 1927 को हुआ था। बचपन से ही ख्य्याम जी का रूझान गीत-संगीत की ओर था और वह फिल्मों में काम करके शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचना चाहते थे।
ख्य्याम अक्सर अपने घर से भागकर फिल्म देखने शहर चले जाया करते थे। उनकी इस आदत से उनके घर वाले
काफी परेशान रहा करते थे। ख्य्याम की उम्र जब महज 10 वर्ष की थी तब वह बतौर अभिनेता बनने का सपना संजाेय अपने घर से भागकर अपने चाचा के घर दिल्ली आ गये। ख्य्याम के चाचा ने उनका दाखिला स्कूल में करा दिया लेकिन
गीत-संगीत और फिल्मों के प्रति उनके आर्कषण को देखते हुये उन्होंने ख्य्याम को संगीत सीखने की अनुमति दे दी ।
ख्य्याम ने संगीत की अपनी प्रारंभिक शिक्षा पंडित अमरनाथ और पंडित हुस्नलाल-भगतराम से हासिल की। इस बीच उनकी मुलातात पाकिस्तान के मशहूर संगीतकार जी.एस.चिश्ती से हुयी। जी.एस चिश्ती ने ख्य्याम को अपनी
रचित एक धुन सुनाई और ख्य्याम से उस धुन के मुखड़े को गाने को कहा। ख्य्याम की लयबद्ध आवाज को सुन जी.एस.चिश्ती ने ख्य्याम को अपने सहायक के तौर पर अनुबंधित कर लिया ।
लगभग छह महीने तक जी.एस.चिश्ती के साथ काम करने के बाद ख्य्याम वर्ष 1943 में लुधियाना वापस आ गए और उन्होंने काम की तलाश शुरू कर दी। द्वितीय विश्व युद्ध का समय था और सेना में जोर.शोर से भर्तियां की जा
रही थीं। ख्य्याम सेना में भर्ती हो गये। सेना में वह दो साल रहे। खय्याम एक बार फिर चिश्ती बाबा के साथ जुड़ गये। बाबा चिश्ती से संगीत की बारीकियां सीखने के बाद खय्याम अभिनेता बनने के इरादे से मुंबई आ गए। वर्ष 1948
में उन्हें बतौर अभिनेता एस. डी.नारंग की फिल्म ‘ये है जिंदगी’ में काम करने का मौका मिला लेकिन इसके बाद बतौर अभिनेता उन्हें किसी फिल्म में काम करने का मौका नहीं मिला। इस बीच ख्य्याम बुल्लो सी.रानी अजित खान के
सहायक संगीतकार के तौर पर काम करने लगे ।
प्रेम, रवि
जारी वार्ता
More News
केरल और माहे में तेज बारिश का अनुमान

केरल और माहे में तेज बारिश का अनुमान

07 Aug 2020 | 9:57 PM

पुणे, 07 अगस्त (वार्ता) केरल और माहे के कुछ स्थानों में अगले 24 घंटों के दौरान बहुत तेज और कहीं कहीं अतिवृष्टि होने का अनुमान है। तटीय कर्नाटक, तमिलनाडु, पुडुचेरी और कराईकल (कोयम्बटूर, नीलगिरि थेनी जिलों के पर्वतीय क्षेत्रों) में अलग-अलग स्थानों पर भारी और मूसलाधार बारिश होने के आसार हैं।

see more..
नासिक में एक परिवार के चार लोगों की निर्मम हत्या

नासिक में एक परिवार के चार लोगों की निर्मम हत्या

07 Aug 2020 | 7:36 PM

नासिक, 07 अगस्त (वार्ता) महाराष्ट्र के नासिक जिले के नंदगांव तालुका में जूर रोड के पास वखारी गांव में शुक्रवार सुबह एक परिवार के दो बच्चों सहित चार लोगों की नृशंस हत्या कर दी गई।

see more..
किसान एक्सप्रेस से किसानों को कृषि उत्पादन का उचित मूल्य मिल सकेगा

किसान एक्सप्रेस से किसानों को कृषि उत्पादन का उचित मूल्य मिल सकेगा

07 Aug 2020 | 7:27 PM

नासिक, 07 अगस्त (वार्ता) केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को मध्य रेलवे के देवलाली (नासिक) से बिहार के दानापुर के लिए देश में पहली किसान एक्सप्रेस को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरिए हरी झंडी दिखा कर रवाना किया।

see more..
भोजपुरी फिल्म अभिनेत्री ने की आत्महत्या

भोजपुरी फिल्म अभिनेत्री ने की आत्महत्या

07 Aug 2020 | 7:14 PM

मुंबई, 07 अगस्त (वार्ता) भोजपुरी फिल्म अभिनेत्री अनुपमा पाठक ने पश्चिमी उपनगर दहिस्सर स्थित अपने घर में कथित रूप से फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली है।

see more..
image