Monday, Oct 14 2019 | Time 13:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सितंबर में थोक मुद्रास्फीति 0 33 प्रतिशत पर
  • बंटी और बबली के सीक्वल में काम करेंगे माधवन
  • बंटी और बबली के सीक्वल में काम करेंगे माधवन
  • बंटी और बबली के सीक्वल में काम करेंगे माधवन
  • रीटा चौधरी की राजनीतिक प्रतिष्ठा फिर दांव पर
  • जम्मू से नशीले मादक पदार्थ तस्कर गिरफ्तार
  • सितंबर में थोक मुद्रास्फीति घटकर 0 33 प्रतिशत पर
  • सितंबर में थोक मुद्रास्फीति घटकर 0 33 प्रतिशत पर
  • कश्मीर में पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवा बहाल
  • दिल्ली में मौसम सुहाना
  • कर्नाटक में तालाब में डूबने से तीन बच्चों की मौत
  • हथियार के साथ दो तस्कर गिरफ्तार
  • राजग में मतभेद नहीं, नीतीश होंगे गठबंधन का चेहरा: चिराग
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


अभिनेता बनना चाहते थे ख्य्याम साहब

मुंबई 19 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड के महान संगीतकार ख्य्याम ने मधुर धुनों से लगभग पांच दशकों तक लोगों को अपना दीवाना बनाया लेकिन वह संगीतकार नहीं, बल्कि अभिनेता बनना चाहते थे।
ख्य्याम साहब का मूल नाम मोहम्मद जहूर खय्याम हाशमी था। उनका जन्म अविभाजित पंजाब में नवांशहर जिले के राहोन गांव में 18 फरवरी 1927 को हुआ था। बचपन से ही ख्य्याम जी का रूझान गीत-संगीत की ओर था और वह फिल्मों में काम करके शोहरत की बुलंदियों तक पहुंचना चाहते थे।
ख्य्याम अक्सर अपने घर से भागकर फिल्म देखने शहर चले जाया करते थे। उनकी इस आदत से उनके घर वाले
काफी परेशान रहा करते थे। ख्य्याम की उम्र जब महज 10 वर्ष की थी तब वह बतौर अभिनेता बनने का सपना संजाेय अपने घर से भागकर अपने चाचा के घर दिल्ली आ गये। ख्य्याम के चाचा ने उनका दाखिला स्कूल में करा दिया लेकिन
गीत-संगीत और फिल्मों के प्रति उनके आर्कषण को देखते हुये उन्होंने ख्य्याम को संगीत सीखने की अनुमति दे दी ।
ख्य्याम ने संगीत की अपनी प्रारंभिक शिक्षा पंडित अमरनाथ और पंडित हुस्नलाल-भगतराम से हासिल की। इस बीच उनकी मुलातात पाकिस्तान के मशहूर संगीतकार जी.एस.चिश्ती से हुयी। जी.एस चिश्ती ने ख्य्याम को अपनी
रचित एक धुन सुनाई और ख्य्याम से उस धुन के मुखड़े को गाने को कहा। ख्य्याम की लयबद्ध आवाज को सुन जी.एस.चिश्ती ने ख्य्याम को अपने सहायक के तौर पर अनुबंधित कर लिया ।
लगभग छह महीने तक जी.एस.चिश्ती के साथ काम करने के बाद ख्य्याम वर्ष 1943 में लुधियाना वापस आ गए और उन्होंने काम की तलाश शुरू कर दी। द्वितीय विश्व युद्ध का समय था और सेना में जोर.शोर से भर्तियां की जा
रही थीं। ख्य्याम सेना में भर्ती हो गये। सेना में वह दो साल रहे। खय्याम एक बार फिर चिश्ती बाबा के साथ जुड़ गये। बाबा चिश्ती से संगीत की बारीकियां सीखने के बाद खय्याम अभिनेता बनने के इरादे से मुंबई आ गए। वर्ष 1948
में उन्हें बतौर अभिनेता एस. डी.नारंग की फिल्म ‘ये है जिंदगी’ में काम करने का मौका मिला लेकिन इसके बाद बतौर अभिनेता उन्हें किसी फिल्म में काम करने का मौका नहीं मिला। इस बीच ख्य्याम बुल्लो सी.रानी अजित खान के
सहायक संगीतकार के तौर पर काम करने लगे ।
प्रेम, रवि
जारी वार्ता
More News
हिम्मत है तो चुनावी घोषणा पत्र में अनुच्छेद 370 लागू करने की बात करें विरोधी दल:मोदी

हिम्मत है तो चुनावी घोषणा पत्र में अनुच्छेद 370 लागू करने की बात करें विरोधी दल:मोदी

13 Oct 2019 | 11:09 PM

जलगांव 13 अक्टूबर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और तीन तलाक को खत्म किये जाने को लेकर विपक्षी दलों की आलोचनाें का करारा जवाब देते हुए रविवार को कहा कि हिम्मत है तो वे अपने चुनावी घोषणा पत्र में इन्हें लागू करने का जिक्र करके दिखायें।

see more..
image