Monday, Oct 14 2019 | Time 14:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सोनिया पर टिप्पणी करने पर खट्टर का फूंका पुतला
  • कश्मीर में रहस्यमय विस्फोट के बाद सुरक्षा बलों का तलाश अभियान
  • गंदेरबल में दो आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार बरामद
  • सितंबर में थोक मुद्रास्फीति 0 33 प्रतिशत पर
  • तेलंगाना में बस हड़ताल के दौरान एक और कर्मचारी ने जान दी
  • राजस्थान में अब पार्षद चुनेंगे नगर निकाय प्रमुख
  • विवादित स्थल पर दीपोत्सव के लिये अब अदालत जायेंगे साधु
  • जिलों में भी होगी पेयजल की गुणवत्ता की जांच :पासवान
  • अफगानिस्तान में हवाई हमले में नौ आतंकवादी ढेर
  • लगातार दूसरे दिन स्थिर रहे पेट्रोल-डीजल के दाम
  • निराला के कहने पर बॉम्बे टॉकीज का प्रस्ताव ठुकराया गिरिजा कुमार माथुर ने
  • सोनिया के लिए अभद्र टिप्पणी पर माफी मांगे खट्टर: कांग्रेस
  • विहिप को नहीं मिली विवादित परिसर में दीपोत्सव की मंजूरी
  • स्वर्णकार पर हमला कर चार लाख रुपए एवं सोना लूटा
  • मोबाइल पर नवंबर से उपलब्ध होगा इसरो का ‘नाविक’
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने

..पुण्यतिथि 21 सितंबर के अवसर पर ..
मुंबई 20 सितंबर(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष ताराचंद बड़जात्या का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने पारिवारिक और साफ सुथरी फिल्म बनाकर लगभग चार दशकों तक सिने दर्शकों के दिल में अपनी खास पहचान बनायी ।
फिल्म जगत में ‘सेठजी’ के नाम से मशहूर महान निर्माता ताराचंद का जन्म राजस्थान में एक मध्यम वर्गीय परिवार में 10 मई 1914 को हुआ था। ताराचंद ने अपनी स्नातक की शिक्षा कोलकाता के विधासागर कॉलेज से पूरी की। उनके पिता चाहते थे कि वह पढ़ लिखकर वैरिस्टर बने लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति खराब रहने के कारण ताराचंद को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी। वर्ष 1933 में तारांचंद नौकरी की तलाश में मुंबई पहुंचे। मुंबई में वह मोती महल थियेटर्स प्रा .लिमिटेड नामक फिल्म वितरण संस्था से जुड़ गये। यहां उन्हें पारश्रमिक के तौर पर 85 रुपये मिलते थे ।
वर्ष 1939 में उनके काम से खुश होकर वितरण संस्था ने उन्हें महाप्रबंधक के पद पर नियुक्त करके मद्रास भेज दिया। मद्रास पहुंचने के बाद ताराचंद और अधिक परिश्रम के साथ काम करने लगे। उन्होंने वहां के कई निर्माताओं से मुलाकात की और अपनी संस्था के लिये वितरण के सारे अधिकार खरीद लिये। मोती महल थियेटर्स के मालिक उनके काम को देख काफी खुश हुये और उन्हें स्वंय की वितरण संस्था शुरू करने के लिये उन्होंने प्रेरित किया। इसके साथ ही उनकी आर्थिक सहायता करने का भी वायदा किया। ताराचंद को यह बात जंच गयी और उन्होंने अपनी खुद की वितरण संस्था खोलने का निश्चय किया।
जब देश 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हुआ तो इसी दिन उन्होंने ‘राजश्री’ नाम से वितरण संस्था की शुरूआत की। वितरण व्यवसाय के लिये उन्होंने जो पहली फिल्म खरीदी वह थी ‘चंद्रलेखा’। जैमिनी स्टूडियो के बैनर तले बनी यह फिल्म काफी सुपरहिट हुयी जिससे उन्हें काफी पायदा हुआ। इसके बाद वह जैमिनी के स्थायी वितरक बन गये।
इसके बाद तारांचंद ने दक्षिण भारत के कई अन्य निर्माताओं को हिन्दी फिल्म बनाने के लिये भी प्रेरित किया। ए.भी.एम, अंजली, वीनस, पक्षी राज और प्रसाद प्रोडक्शन जैसी फिल्म निर्माण संस्थायें उनके ही सहयोग से हिन्दी फिल्म निर्माण की ओर अग्रसर हुयी और बाद में काफी सफल भी हुयीं।
प्रेम.संजय
जारी.वार्ता
More News
हिम्मत है तो चुनावी घोषणा पत्र में अनुच्छेद 370 लागू करने की बात करें विरोधी दल:मोदी

हिम्मत है तो चुनावी घोषणा पत्र में अनुच्छेद 370 लागू करने की बात करें विरोधी दल:मोदी

13 Oct 2019 | 11:09 PM

जलगांव 13 अक्टूबर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और तीन तलाक को खत्म किये जाने को लेकर विपक्षी दलों की आलोचनाें का करारा जवाब देते हुए रविवार को कहा कि हिम्मत है तो वे अपने चुनावी घोषणा पत्र में इन्हें लागू करने का जिक्र करके दिखायें।

see more..
image