Thursday, Feb 27 2020 | Time 23:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुलवामा हमले में युसूफ नहीं हुआ गिरफ्तार :एनआईए
  • कस्तूरीरंगन ने ज्ञान को सबसे बड़ी पूंजि बताया
  • उपभोक्ताओं का फैसला सुनाने वालों के 38 फीसदी पद रिक्त
  • उत्तराखंड के अल्मोड़ा में तीन चरस तस्कर गिरफ्तार
  • ईमानदारी से टैक्स देना जरूरी : रविशंकर
  • श्रीलंका उत्तर भारत में व्यापार विस्तार करने को इच्छुक
  • श्रीलंका उत्तर भारत में व्यापार विस्तार करने को इच्छुक
  • फूल छाप कांग्रेसी, पार्टी की पीठ में छुरा घोंप रहे हैं - डॉक्टर साधो
  • आप ने ताहिर हुसैन को पार्टी से निकाला
  • विधि खनिज सलाहकार समेत कई लोगों से की सीबीआइ ने पूछताछ
  • आप के पार्षद ताहिर हुसैन पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित
  • चार दिन से लापता अधेड़ का शव कुएं से बरामद
  • हमीरपुर में सेवानिवृत्त आया की हत्या के मामले में तीन को उम्रकैद
  • प्रयोगशाला सहायकों के चयन में धांधली मामले में हाईकोर्ट सख्त
  • मॉरिशस के राष्ट्रपति पृथ्वीराज सिंह रुपन की विश्वनाथ मंदिर में पूजा
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


दर्शकों के दिल में खास पहचान बनायी ताराचंद ने

..पुण्यतिथि 21 सितंबर के अवसर पर ..
मुंबई 20 सितंबर(वार्ता) भारतीय सिनेमा जगत के युगपुरूष ताराचंद बड़जात्या का नाम एक ऐसे फिल्मकार के रूप में याद किया जाता है जिन्होंने पारिवारिक और साफ सुथरी फिल्म बनाकर लगभग चार दशकों तक सिने दर्शकों के दिल में अपनी खास पहचान बनायी ।
फिल्म जगत में ‘सेठजी’ के नाम से मशहूर महान निर्माता ताराचंद का जन्म राजस्थान में एक मध्यम वर्गीय परिवार में 10 मई 1914 को हुआ था। ताराचंद ने अपनी स्नातक की शिक्षा कोलकाता के विधासागर कॉलेज से पूरी की। उनके पिता चाहते थे कि वह पढ़ लिखकर वैरिस्टर बने लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति खराब रहने के कारण ताराचंद को अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़नी पड़ी। वर्ष 1933 में तारांचंद नौकरी की तलाश में मुंबई पहुंचे। मुंबई में वह मोती महल थियेटर्स प्रा .लिमिटेड नामक फिल्म वितरण संस्था से जुड़ गये। यहां उन्हें पारश्रमिक के तौर पर 85 रुपये मिलते थे ।
वर्ष 1939 में उनके काम से खुश होकर वितरण संस्था ने उन्हें महाप्रबंधक के पद पर नियुक्त करके मद्रास भेज दिया। मद्रास पहुंचने के बाद ताराचंद और अधिक परिश्रम के साथ काम करने लगे। उन्होंने वहां के कई निर्माताओं से मुलाकात की और अपनी संस्था के लिये वितरण के सारे अधिकार खरीद लिये। मोती महल थियेटर्स के मालिक उनके काम को देख काफी खुश हुये और उन्हें स्वंय की वितरण संस्था शुरू करने के लिये उन्होंने प्रेरित किया। इसके साथ ही उनकी आर्थिक सहायता करने का भी वायदा किया। ताराचंद को यह बात जंच गयी और उन्होंने अपनी खुद की वितरण संस्था खोलने का निश्चय किया।
जब देश 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्र हुआ तो इसी दिन उन्होंने ‘राजश्री’ नाम से वितरण संस्था की शुरूआत की। वितरण व्यवसाय के लिये उन्होंने जो पहली फिल्म खरीदी वह थी ‘चंद्रलेखा’। जैमिनी स्टूडियो के बैनर तले बनी यह फिल्म काफी सुपरहिट हुयी जिससे उन्हें काफी पायदा हुआ। इसके बाद वह जैमिनी के स्थायी वितरक बन गये।
इसके बाद तारांचंद ने दक्षिण भारत के कई अन्य निर्माताओं को हिन्दी फिल्म बनाने के लिये भी प्रेरित किया। ए.भी.एम, अंजली, वीनस, पक्षी राज और प्रसाद प्रोडक्शन जैसी फिल्म निर्माण संस्थायें उनके ही सहयोग से हिन्दी फिल्म निर्माण की ओर अग्रसर हुयी और बाद में काफी सफल भी हुयीं।
प्रेम.संजय
जारी.वार्ता
image