Tuesday, Dec 10 2019 | Time 23:52 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोदी राम, शाह हनुमान और रघुवर नल-नील : शिवराज
  • फोटो कैप्शन तीसरा सेट
  • हत्या मामले में तीन गिरफ्तार
  • शाह के खिलाफ झूठ फैला रहे हैं कांग्रेस सांसद और तृणमूल समर्थक : बिष्टा
  • नागरिकता संशोधन विधेयक मुद्दों से भटकाने की साजिश : कुशवाहा
  • पाठ्यक्रमों में मानवाधिकार से जुड़े अध्यायों को शामिल करना श्रेयस्कर : चौहान
  • अनाज मंडी अग्निकांड में झुलसे दो लोगों को समस्तीपुर में दी गई अंतिम विदाई
  • डबल इंजन की सरकार असल में डबल बुलडोजर की सरकार : दीपंकर
  • झारखंड से अहंकार में डूबी भाजपा सरकार की विदाई तय : हेमंत
  • रिसैट-2बीआर1 के प्रक्षेपण की उल्टी गिनती शुरू
  • झारखंड में फिर बनेगी भाजपा की पूर्ण बहुमत की सरकार : नड्डा
  • झारखंड में तीसरे चरण का चुनाव प्रचार समाप्त
  • आईजीआईएमएस में अस्पताल भवन निर्माण के लिए 513 21 करोड़ मंजूर
  • फर्रुखाबाद से अपहृत की गई नाबालिग बरामद,आरोपी गिरफ्तार
  • पांच वर्षों में परिवहन क्षेत्र में 17 लाख करोड़ निवेश किया जाएगा: गडकरी
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


दिलकश अदाओं से दीवाना बनाया जूही चावला ने

...जन्मदिवस 13 नवंबर के अवसर पर...
मुंबई 12 नवंबर (वार्ता) बॉलीवुड में जूही चावला को एक ऐसी अभिनेत्री के तौर पर शुमार किया जाता है जिन्होंने अपनी दिलकश अदाओं से दर्शकों को अपना दीवाना बनाया है।
जूही चावला का जन्म 13 नवंबर 1967 को हुआ था। उनके पिता एस. चावला एक डॉक्टर थे। जूही चावला ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लुधियाना से पूरी की। इसके बाद उन्होंने आगे की पढ़ाई मुंबई के सिद्धेनम कॉलेज से पूरी की। वर्ष 1984 में जूही चावला को अखिल भारतीय सौंदर्य प्रतियोगिता ‘मिस इंडिया’ में हिस्सा लेने का अवसर मिला जिसमें वह प्रथम चुनी गयी। इसके बाद जूही चावला को मिस यूनीवर्स प्रतियोगिता में हिस्सा लेने का मौका मिला। इस प्रतियोगिता में उन्हें सर्वश्रेष्ठ वेश-भूषा के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस बीच उन्हें कई विज्ञापन फिल्मों में मॉडलिंग काम करने का अवसर मिला। जूही चावला ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1986 में प्रदर्शित फिल्म ‘सल्तनत’ से की ।
मुकुल आनंद के निर्देशन में बनी इस फिल्म में धर्मेन्द्र और सन्नी देवोल ने मुख्य भूमिका निभाई थी। फिल्म में जूही चावला के नायक की भूमिका शशि कपूर के पुत्र करण कपूर ने निभायी थी। फिल्म टिकट खिड़की पर असफल साबित हुयी और जूही चावला दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनाने में असफल रही। फिल्म सल्तनत की असफलता के बाद जूही चावला को हिंदी फिल्मों में काम मिलना बंद हो गया। इस बीच उन्होंने रोशन तनेजा के अभिनय प्रशिक्षण स्कूल में तीन महीने का प्रशिक्षण प्राप्त किया। इस बीच जूही चावला ने दक्षिण फिल्मों की ओर अपना रुख किया। वर्ष 1987 में प्रदर्शित कन्नड़ फिल्म प्रेमालोक जूही चावला के करियर की पहली हिट फिल्म साबित हुयी ।
लगभग चार वर्ष तक मायानगरी मुंबई में संघर्ष करने के बाद 1988 में नासिर हुसैन के बैनर तले बनी फिल्म ‘कयामत से कयामत तक’ की सफलता के बाद बतौर फिल्म अभिनेत्री इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने में सफल हो गयी। वर्ष 1990 जूही चावला के सिने करियर के लिये अहम वर्ष साबित हुआ। इस वर्ष उनकी स्वर्ग और प्रतिबंध जैसी सुपरहिट फिल्में प्रदर्शित हुई। राजनीति से प्रेरित फिल्म प्रतिबंध में जूही चावला अपने दमदार अभिनय के लिये सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित भी की गयी।
प्रेम, यामिनी
जारी वार्ता
image