Tuesday, Jan 28 2020 | Time 09:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • केरल पुलिस ने व्यवसायिक संस्थानों की निगरानी के लिए सिम्स की शुरुआत की
  • अमेरिका ने इराक को हथियारों की आपूर्ति पर लगाई रोक
  • उप्र में कोरोना वायरस के मद्देनजर भारत-नेपाल सीमा एवं हवाई अड्डों पर विशेष सतर्कता के निर्देश
  • उत्तर सीरिया में संघर्ष विराम के पालन में बाधा उत्पन्न कर रहा है ईरान और रूस: अमेरिका
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 29 जनवरी)
  • अल्जीरिया में सेना का हवाई जहाज दुर्घटनाग्रस्त
  • चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 100 हुई
  • कनाडा में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया
  • सीरिया में तेल पाइपलाइन में धमाका
  • अमेरिकी सेना का हवाई जहाज दुश्मन ने नहीं गिराया : प्रवक्ता
  • अलाबामा में नाव डॉक में लगी आग, आठ की मौत
  • अमेरिका का पश्चिमी एशिया में शांति योजना एक भ्रम: जरीफ
  • तनजानिया में भारी बारिश से साढ़े चार हजार लोग बेघर
  • यमन में हौसी विद्रोहियों के हमले में तीन की मौत, नौ घायल
  • पुआल के ढेर में आग लगने से दो।बच्चों की झुलसकर मौत
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


सिनेमा धर्म जाति और नस्ल से परे: अमिताभ

पणजी 21 नबम्बर (वार्ता) सदी के महानायक अमिताभ बच्चन ने कहा है कि तेजी से विखंडित होती दुनिया में केवल सिनेमा ही एक ऐसा माध्यम है जो लोगों को आपस मे बांधे रख सकता है क्योंकि सिनेमा भाषा,जाति, धर्म और नस्ल से परे होता है।
दादा साहब फाल्के अवार्ड के लिए चयनित बिग बी ने अपनी फिल्मों के पुनरावलोकन का उद्घाटन करते हुए यह टिप्पणी की। कल से यहां शुरू हुए 50 वां दादा साहब फाल्के अवार्ड में श्री बच्चन की छह फिल्में दिखाई जा रही हैं। पुनरावलोकन का आगाज़ उनकी ‘पा’ फ़िल्म से हुआ।
श्री बच्चन ने दादा साहब फाल्के अवार्ड के लिए सरकार के प्रति धन्यवाद व्यक्त करते हुए कहा कि वह इस प्रतिष्ठित सम्मान को प्राप्त करके कृतज्ञ महसूस कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा लग रहा है कि वह इस सम्मान के वास्तविक हकदार नही हैं फिर भी लोगों के प्यार को देखते हुए इस पुरस्कार ले रहे हैं। उन्होंने सिनेमा को विश्वव्यापी माध्यम बताते हुए कहा,“जब हम एक बन्द हाॅल में अंधेरे में बैठकर सिनेमा देखते हैं तो बगल में बैठे व्यक्ति की जाति नस्ल को भूल जाते हैं। सिनेमा भी भाषाओं के बंधन से परे होता है।”
उन्होंने कहा,“सिनेमा एक ऐसा माध्यम है जो तेजी से विखंडित होती दुनिया को बचाने का काम करता है ओर लोगों को जोड़कर रखता है। हमें शांतिप्रिय दुनिया बनाने के लिये के दूसरे का हाथ थामे आपस मे मिलकर रहना होगा।”उन्होंने कहा कि वह ऐसी फिल्में बनाएंगे जो लोगों को जोड़कर रखें। श्री बच्चन ने फ़िल्म समारोह की तारीफ करते हुए कहा कि यह 50 वां समारोह है। हर साल इसके डेलिगेट्स की संख्या बढ़ती जा रही है।वह इसके सुंदर आयोजन के लिए सरकार को बधाई देते हैं। पुनरावलोकन में उनकी ‘दीवार’, ‘शोले’ ‘पीकू’ ‘बदला’ और ‘ब्लैक’ फिल्में भी दिखाई जाएगी।
अविन्द आशा
वार्ता
image