Saturday, Jan 25 2020 | Time 19:07 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • युवा गांधी के अहिंसा के मंत्र को सदैव याद रखें: कोविंद
  • भजनपुरा में ढही इमारत, सात छात्र बचाये गये
  • कपूरथला में भ्रष्टाचार के खिलाफ व्यापक स्तर पर अभियान शुरू
  • बुरुगुलीकेरा हत्याकांड के विरोध में भाजपा का मौन धरना
  • मध्यप्रदेश सर्द हवाओं से ठंड का दौर जारी
  • करीब साढ़े 12 सौ लोग विभिन्न पदकों से अलंकृत
  • भाजपा की सीएए, एनआरसी के माध्यम से विभाजनकारी नीति: रंधावा
  • नडाल प्री क्वार्टरफाइनल में, दूसरी सीड प्लिसकोवा भी बाहर
  • नडाल प्री क्वार्टरफाइनल में, दूसरी सीड प्लिसकोवा भी बाहर
  • नेतन्याहू ने 71 वें गणतंत्र दिवस पर मोदी को दी बधाई
  • सीबीआई के 28 अधिकारियों एवं कर्मचारियों को पुलिस पदक
  • नागपुर में युवक की पत्थर से कुचल कर हत्या
  • हिमाचल थीम राज्य के रूप में भाग लेगा सूरजकुंड मेले में
  • यूएमसी ने केनरा बैंक की तीन शाखाओं को किया सील
  • पुणे में चुंगी के खिलाफ अनिश्चितकालीन आंदोलन की चेतावनी
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


डिस्को संगीत के किंग है बप्पी लाहिरी

..जन्मदिन 27 नवंबर के अवसर पर ..
मुंबई 26 नवंबर (वार्ता) हिंदी फिल्म में बप्पी लाहिरी उन गिने चुने संगीतकारों में शुमार किये जाते है जिन्होंने ताल वाद्ययंत्रों के प्रयोग के साथ फिल्मी संगीत में पश्चिमी संगीत का समिश्रण करके बाकायदा ‘डिस्को थेक’ की एक नयी शैली ही विकसित कर दी।
अपने इस नये प्रयोग की वजह से बप्पी को करियर के शुरूआती दौर में काफी आलोचनाओं का भी सामना करना पड़ा लेकिन बाद में श्रोताओं ने उनके संगीत को काफी सराहा और वह फिल्म इंडस्ट्री में ‘डिस्को किंग’ के रूप में विख्यात हो गये।
पश्चिम बंगाल के कोलकाता शहर में 27 नवंबर 1952 को जन्में बप्पी का मूल नाम आलोकेश लाहिरी था। उनका रूझान बचपन से ही संगीत की ओर था। उनके पिता अपरेश लाहिरी बंगाली गायक थे जबकि मां वनसरी लाहिरी संगीतकार और गायिका थीं। माता-पिता ने संगीत के प्रति बढ़ते रूझान को देख लिया और इस राह पर चलने के लिये प्रेरित किया।
बचपन से ही बप्पी यह सपना देखा करते थें कि संगीत के क्षेत्र में वह अंतराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त कर सकें। महज तीन वर्ष की उम्र से ही बप्पी लाहिरी ने तबला बजाने की शिक्षा हासिल करनी शुरू कर दी। इस बीच उन्होंने अपने माता-पिता से संगीत की प्रारंभिक शिक्षा भी हासिल की।
बतौर संगीतकार बप्पी ने अपने कैरियर की शुरूआती वर्ष 1972 में प्रदर्शित बंग्ला फिल्म ‘दादू’ से की लेकिन फिल्म टिकट खिड़की पर नाकामयाब साबित हुयी। अपने सपनों को साकार करने के लिये बप्पी ने मुंबई का रूख किया। वर्ष 1973 में प्रदर्शित फिल्म ‘नन्हा शिकारी’ बतौर संगीतकार उनके करियर की पहली हिंदी फिल्म थी लेकिन दुर्भाग्य से यह फिल्म भी टिकट खिड़की पर नकार दी गयी।
प्रेम.संजय
जारी.वार्ता
image