Tuesday, Jan 28 2020 | Time 10:27 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चाड में बोको हराम के हमले में छह सैनिकों की मौत, 10 घायल
  • केरल पुलिस ने व्यवसायिक संस्थानों की निगरानी के लिए सिम्स की शुरुआत की
  • अमेरिका ने इराक को हथियारों की आपूर्ति पर लगाई रोक
  • उप्र में कोरोना वायरस के मद्देनजर भारत-नेपाल सीमा एवं हवाई अड्डों पर विशेष सतर्कता के निर्देश
  • उत्तर सीरिया में संघर्ष विराम के पालन में बाधा उत्पन्न कर रहा है ईरान और रूस: अमेरिका
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 29 जनवरी)
  • अल्जीरिया में सेना का हवाई जहाज दुर्घटनाग्रस्त
  • चीन में कोरोना वायरस से मरने वालों की संख्या 100 हुई
  • कनाडा में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया
  • सीरिया में तेल पाइपलाइन में धमाका
  • अमेरिकी सेना का हवाई जहाज दुश्मन ने नहीं गिराया : प्रवक्ता
  • अलाबामा में नाव डॉक में लगी आग, आठ की मौत
  • अमेरिका का पश्चिमी एशिया में शांति योजना एक भ्रम: जरीफ
  • तनजानिया में भारी बारिश से साढ़े चार हजार लोग बेघर
  • यमन में हौसी विद्रोहियों के हमले में तीन की मौत, नौ घायल
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


महाराष्ट्र विधानसभा में नवनिर्वाचत विधायकों ने शपथ ली

मुंबई ,27 नवंबर (वार्ता) नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलाने के लिए 14वीं महाराष्ट्र विधानसभा का विशेष सत्र बुधवार को यहां शुरू हुआ जिसमें निवनिर्वाचित सदस्यों को नए अस्थायी अध्यक्ष कालिदास कोलंबकर ने शपथ दिलाई।
विधानसभा का यह सत्र इस लिहाज से विशेष है क्योंकि सदन में इस समय नियुक्त मुख्यमंत्री नहीं है।
शपथ ग्रहण करने वाले सदस्यों में पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस, पूर्व उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, पांच बार विधायक रहे दलीप वाल्से-पाटिल और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सदस्य एवं पूर्व कैबिनेट मंत्री हरिभाऊ बागडे शामिल हैं।
विशेष सत्र से पहले राकांपा सांसद एवं राकांपा प्रमुख शरद पवार की पुत्री सुप्रिया सुले अपने चचेरे भाई श्री अजित पवार से गले लगकर मिली। सुश्री सुले पार्टी विधायकों के स्वागत के लिए विधान भवन के प्रवेश द्वार पर खड़ी थी। श्री अजीत ने विधानसभा की सदस्यता की शपथ लेने से पहले कहा कि वह राकांपा में ही हैं।
श्री अजित पवार ने विधान में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा, “अब मेरे पास कहने के लिए कुछ नहीं है, मैं सही वक्त आने पर बोलूंगा, मैंने पहले भी कहा है मैं राकांपा में हूं और राकांपा में रहूंगा। भ्रम हाेने का कोई कारण ही नहीं है।”
राज्य में विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित होने के एक महीने बाद भी नाटकीय राजनीतिक घटनाक्रम के कारण नव-निर्वाचित सदस्य शपथ नहीं ले सके हैं।
गौरतलब है कि मंगलवार को उच्चतम न्यायालय के राज्यपाल भगत सिह कोश्यारी को राज्य में फ्लोर टेस्ट सुनिश्चित करने के कुछ घंटों बाद श्री अजीत पवार ने उपमुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा दे दिया और बाद में मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने भी संवाददाता सम्मेलन में अपने इस्तीफे की घोषणा कर दी थी।
इस घटनाक्रम के ठीक बाद शिवसेना-राकांपा-कांगेस गठबंधन ने सर्वसम्मति से श्री उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री पद के लिए नामित किया और बाद में उन्होंने राजभवन जाकर राज्यपाल के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश किया।
राकांपा प्रमुख शरद पवार ने इस बात की पुष्टि की कि ‘महा विकास अघाडी’ के तीनों प्रतिनिधि राज्यपाल से मिले उन्हें इस बात की जानकारी दी कि शपथ ग्रहण समारोह एक दिसंबर को मुंबई के शिवाजी पार्क में आयोजित किया जाएगा।
उन्होंने राज्यपाल को 166 विधायकों के समर्थन का एक पत्र भी दिया जो बहुमत की संख्या से अत्यधिक ज्यादा हैं।
राज्य में 20 साल बाद शिव सेना और ठाकरे परिवार से पहली बार कोई व्यक्ति मुख्यमंत्री बनेगा। श्री उद्धव ठाकरे 28 नवंबर को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेंगे।
उप्रेती जितेन्द्र
वार्ता
image