Thursday, Jan 23 2020 | Time 19:56 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सड़क दुर्घटनाओं में 50 प्रतिशत तक कमी लाना लक्ष्य: शर्मा
  • फिर हुआ राजद का पोस्टर जारी, राजग को बताया ‘ट्रबल इंजन’ सरकार
  • राजधानी में 71 वें गणतंत्र दिवस की रिहर्सल परेड का आयोजन
  • हरियाणा में भाजपा-जजपा न्यूनतम साझा कार्यक्रम के 33 बिंदुओं पर बनी सहमति: विज
  • पासपोर्ट में जन्म तिथि संशोधन की मांग निरस्त
  • मनसे ने राज ठाकरे को नया हिंदू हृदय सम्राट घोषित किया
  • बस्ती जिला जेल में तैनात तीन बन्दी रक्षक निलंबित
  • अमर कहानी रविदास जी में नेगेटिव किरदार में नजर आयेंगे हेमंत पांडेय
  • त्रिपुरा में बोस की जयंती पर रंगारंग कार्यक्रम
  • अतुल राय को संसद में सदस्यता की शपथ के लिए मिली दो दिन की पैरोल
  • जापानी राजदूत ने किया जापान इंडिया इंस्टीच्यूट फाॅर मैन्युफैक्चरिंग का उद्घाटन, 30 हजार युवा होंगे प्रशिक्षित
  • मुंबई से चेंगडू के लिए उड़ान शुरू करेगी इंडिगो
  • लखनऊ नगर निगम अतिक्रमण हटाकर ठीक कराये सड़के :उच्च न्यायालय
  • बायो ईंधन के क्षेत्र में सहयोग बढ़ाएंगे भारत ब्राजील
  • शिक्षा सबसे बड़ा शक्तिशाली हथियार है,जिससे दुनिया बदली जा सकती:आनंदीबेन
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


बहुमुखी प्रतिभा के तौर पर पहचान बनायी देवानंद ने

..पुण्यतिथि 03 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 02 दिसंबर (वार्ता) बहुमुखी प्रतिभा के धनी देवानंद का नाम ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय के क्षेत्र में बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन के क्षेत्र में भी अपनी विशिष्ट पहचान बनायी।
पंजाब के गुरदासपुर में 26 सिंतबर 1923 को एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे धर्मदेव पिशोरीमल आनंद उर्फ देवानंद ने अंग्रेजी साहित्य में अपनी स्नातक की शिक्षा 1942 में लाहौर के मशहूर गवर्नमेंट कॉलेज मे पूरी की। देवानंद इसके आगे भी पढ़ना चाहते थे लेकिन उनके पिता ने साफ शब्दों में कह दिया कि उनके पास उन्हें पढ़ाने के लिये पैसे नहीं है और यदि वह आगे पढ़ना चाहते है तो नौकरी कर लें।
देवानंद ने निश्चय किया कि यदि नौकरी ही करनी है तो क्यों ना फिल्म इंडस्ट्री में किस्मत आजमायी जाये। वर्ष 1943 में अपने सपनों को साकार करने के लिये जब वह मुम्बई पहुंचे तब उनके पास मात्र 30 रुपये थे और रहने के लिये कोई ठिकाना नहीं था। देवानंद ने यहां पहुंचकर रेलवे स्टेशन के समीप ही एक सस्ते से होटल में कमरा किराये पर लिया। उस कमरे में उनके साथ तीन अन्य लोग भी रहते थे जो देवानंद की तरह ही फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये संघर्ष कर रहे थे।
जब काफी दिन यूं ही गुजर गये तो देवानंद ने सोचा कि यदि उन्हें मुंबई में रहना है तो जीवन-यापन के लिये नौकरी करनी पड़ेगी, चाहे वह कैसी भी नौकरी क्यों न हो। अथक प्रयास के बाद उन्हें मिलिट्री सेन्सर ऑफिस में लिपिक की नौकरी मिल गयी। यहां उन्हें सैनिकों की चिट्ठियों को उनके परिवार के लोगों को पढ़कर सुनाना होता था।
प्रेम, यामिनी
जारी वार्ता
image