Thursday, Aug 13 2020 | Time 11:22 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • एक दिन में रिकॉर्ड 66 हजार से अधिक मामले, 56383 रोगमुक्त
  • पर्यावरण की बर्बादी का ईआईए प्रस्ताव लागू नहीं करे सरकार: सोनिया-राहुल
  • प्रणव मुखर्जी जीवित, मृत्यु की अफवाह फर्जी: अभिजीत
  • सूडान में कबायली हिंसा में मरने वालों की संख्या 25 हुई, 87 घायल
  • इजरायल ने गाजा पट्टी में हमास के ठिकानों पर हवाई हमले किये
  • बाराबंकी में 58 नये संक्रमित मिले,संख्या हुई 1881
  • मराठवाड़ा के आठ जिलों में एक दिन में कोरोना के 1240 नए मामले
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 14 अगस्त)
  • अर्जेंटीना में कोरोना के रिकॉर्ड 7663 नए मामले
  • ब्राजील में कोरोना से 104,000 लोगों की मौत
  • हांगकांग में कोरोना से 4243 लोग संक्रमित,63 मौतें
  • पाकिस्तान के सुरब में भूकंप के झटके
  • विश्वभर में दो करोड़ से अधिक लोग कोरोना से संक्रमित : डब्ल्यूएचओ
  • रूस के उप प्रधानमंत्री कोरोना से संक्रमित
  • हांगकांग में कोरोना के 62 नए मामले
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


बहुमुखी प्रतिभा के तौर पर पहचान बनायी देवानंद ने

..पुण्यतिथि 03 दिसंबर के अवसर पर ..
मुंबई 02 दिसंबर (वार्ता) बहुमुखी प्रतिभा के धनी देवानंद का नाम ऐसी शख्सियत के तौर पर याद किया जाता है जिन्होंने न सिर्फ अभिनय के क्षेत्र में बल्कि फिल्म निर्माण और निर्देशन के क्षेत्र में भी अपनी विशिष्ट पहचान बनायी।
पंजाब के गुरदासपुर में 26 सिंतबर 1923 को एक मध्यमवर्गीय परिवार में जन्मे धर्मदेव पिशोरीमल आनंद उर्फ देवानंद ने अंग्रेजी साहित्य में अपनी स्नातक की शिक्षा 1942 में लाहौर के मशहूर गवर्नमेंट कॉलेज मे पूरी की। देवानंद इसके आगे भी पढ़ना चाहते थे लेकिन उनके पिता ने साफ शब्दों में कह दिया कि उनके पास उन्हें पढ़ाने के लिये पैसे नहीं है और यदि वह आगे पढ़ना चाहते है तो नौकरी कर लें।
देवानंद ने निश्चय किया कि यदि नौकरी ही करनी है तो क्यों ना फिल्म इंडस्ट्री में किस्मत आजमायी जाये। वर्ष 1943 में अपने सपनों को साकार करने के लिये जब वह मुम्बई पहुंचे तब उनके पास मात्र 30 रुपये थे और रहने के लिये कोई ठिकाना नहीं था। देवानंद ने यहां पहुंचकर रेलवे स्टेशन के समीप ही एक सस्ते से होटल में कमरा किराये पर लिया। उस कमरे में उनके साथ तीन अन्य लोग भी रहते थे जो देवानंद की तरह ही फिल्म इंडस्ट्री में अपनी पहचान बनाने के लिये संघर्ष कर रहे थे।
जब काफी दिन यूं ही गुजर गये तो देवानंद ने सोचा कि यदि उन्हें मुंबई में रहना है तो जीवन-यापन के लिये नौकरी करनी पड़ेगी, चाहे वह कैसी भी नौकरी क्यों न हो। अथक प्रयास के बाद उन्हें मिलिट्री सेन्सर ऑफिस में लिपिक की नौकरी मिल गयी। यहां उन्हें सैनिकों की चिट्ठियों को उनके परिवार के लोगों को पढ़कर सुनाना होता था।
प्रेम, यामिनी
जारी वार्ता
More News
राजपूत मामले में सीबीआई जांच की मांग से असहमत हैं शरद पवार

राजपूत मामले में सीबीआई जांच की मांग से असहमत हैं शरद पवार

12 Aug 2020 | 11:30 PM

मुंबई, 12 अगस्त (वार्ता) राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार ने भतीजे एवं महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के पुत्र पार्थ पवार की अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग से असहमति जतायी है।

see more..
महाराष्ट्र का प्रसिद्ध दही हांडी त्योहार कोरोना वायरस के भेंट चढ़ा

महाराष्ट्र का प्रसिद्ध दही हांडी त्योहार कोरोना वायरस के भेंट चढ़ा

12 Aug 2020 | 9:31 PM

मुंबई, 12 अगस्त (वार्ता) महाराष्ट्र में विशेष कर मुंबई में भगवान कृष्ण के जन्म के दूसरे दिन दही हांडी का त्योहार बड़े भव्य तरीके से मनाया जाता है लेकिन इसे कोरोना वायरस को फैलने से रोकने लिए नहीं मनाया गया।

see more..
शरद पवार राजपूत मामले में सीबीआई जांच की मांग से असहमत हैं

शरद पवार राजपूत मामले में सीबीआई जांच की मांग से असहमत हैं

12 Aug 2020 | 9:20 PM

मुंबई, 12 अगस्त (वार्ता) राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार बुधवार को अपने भतीजे और महाराष्ट्र के उप मुख्यमंत्री अजीत पवार के पुत्र पार्थ पवार की अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत आत्महत्या मामले की केन्द्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की मांग से असहमति जतायी।

see more..
मुंबई पुलिस ने सुशांत राजपूत मामले की जांच के लिए कुछ नहीं किया,यह कहना उचित नहीं:निकम

मुंबई पुलिस ने सुशांत राजपूत मामले की जांच के लिए कुछ नहीं किया,यह कहना उचित नहीं:निकम

12 Aug 2020 | 9:10 PM

मुंबई, 12 अगस्त (वार्ता) प्रसिद्ध वकील उज्ज्वल निकम ने कहा है कि यह कहना गलत है कि मुंबई पुलिस बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत मामले की जांच में कुछ नहीं कर रही थी।

see more..
महाराष्ट्र में कोरोना के 12,712 नये मामले, 13,408 मरीज हुए स्वस्थ

महाराष्ट्र में कोरोना के 12,712 नये मामले, 13,408 मरीज हुए स्वस्थ

12 Aug 2020 | 8:58 PM

मुंबई ,12 अगस्त (वार्ता)देश में कोरोना महामारी से सबसे गंभीर रूप से प्रभावित महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटों के दौरान 12,712 नये मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या बुधवार की रात बढ़कर साढ़े पांच लाख के करीब पहुंच गयी लेकिन राहत की बात यह है कि इस दौरान 13,408 मरीजों के स्वस्थ होने से संक्रमण से मुक्ति पाने वालों की संख्या भी 3.81 लाख से अधिक हो गयी।

see more..
image