Tuesday, Aug 4 2020 | Time 22:10 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कोरोना महामारी : श्राद्ध भोज में नाच का आयोजन, तीन गिरफ्तार
  • श्री रामजन्मभूमि मंदिर देश में रामराज्य की बुनियाद रखेगा : आडवाणी
  • छत्तीसगढ़ में मिले 289 नए संक्रमित मरीज,आठ की मौत
  • पुरी बीच पर सुदर्शन ने उकेरी राममंदिर की कलाकृति
  • कोरोना मामले 19 लाख के पार, रिकवरी दर 67 फीसदी के पार
  • बिना राम के भारत को पहचाना नहीं जा सकता - शिवराज
  • मुरादाबाद में 98 और नये कोरोना पॉजिटिव मिले,संख्या हुई 2196
  • खगड़िया में गंगा नदी में नौका पलटी, 30 लापता
  • बाराबंकी में 54 नये कोरोना पॉजिटिव मिले,संख्या 1407 पहुंची
  • आगरा पुलिस ने तीन साईबर अपराधियों समेत दस बदमाशों को किया गिरफ्तार
  • नायडू , मोदी समेत अनेक हस्तियों ने अल्काजी के निधन पर शोक जताया
  • निशंक ने राष्ट्रपति को नयी शिक्षा नीति का दस्तावेज पेश किया
  • देश में कोरोना मामले 19 लाख के पार, पौने 13 लाख से अधिक हुए स्वस्थ
  • जौनपुर नहीं थम रहा कोरोना संक्रमण,120 नये मामले,संख्या हुई 2405
  • मुंबई में फिर से 709 नये मामले, पुणे बना नया हॉटस्पॉट
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


फडणवीस ने पार्टी सांसद अनंत कुमार के आरोपों किया खंडन

नागपुर 02 दिसंबर(वार्ता) महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने भारतीय जनता पार्टी के विधायक अनंत कुमार हेगड़े के आरोपों का खंडन किया है कि संख्या बल नहीं होने बावजूद वह 15 घंटे के लिए इसलिए मुख्यमंत्री बने थे ताकि वह राज्य के खजाने से 40 हजार करोड़ रुपया निकाल कर केंद्र को दे सकें।
कर्नाटक से सांसद हेगड़े अपने बयानों के लिए जाने जाते हैं। इस बार उन्होंने महाराष्ट्र में हाल ही के दिनों में हुई राजनीतिक उठापटक पर बेहद चौंकाने वाला बयान दिया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि श्री फडणवीस ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अजित पवार को रातोंरात साथ लेकर जिस तरह सुबह सरकार बनाई थी, उसके पीछे 40 हजार करोड़ रुपया था। उन्होंने आरोप लगाया है श्री फडणवीस ने राज्य के खजाने से 40 हजार करोड़ रुपया निकालकर केंद्र को दे दिया।
श्री फडणवीस ने कहा,“ अनंत कुमार हेगड़े ने क्या कहा है, मुझे नहीं मालूम। मैं मीडिया के माध्यम से सुन रहा हूं कि पूर्ववर्ती महाराष्ट्र सरकार ने 40 हजार करोड़ रूपये केन्द्र को दे दिये। यह खबर पूरी तरह गलत और निराधार है।”
उन्होंने कहा,“ यह बयान सरासर गलत है। ऐसा कुछ भी नहीं हुआ। मैंने इस तरह का कोई फैसला नहीं लिया। वित्त मंत्रालय को मामले की जांच करनी चाहिए और सच्चाई को जनता के सामने लाना चाहिए।”
उन्होंने कहा कि बुलेट ट्रेन परियोजना में महाराष्ट्र सरकार की भूमिका केवल जमीन के अधिग्रहण तक समित है। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा,“बुलेट ट्रेन हो या कोई और मामला, न तो केन्द्र सरकार ने पैसे की मांग की और ना ही राज्य सरकार ने दिया।”
आशा जितेन्द्र
वार्ता
image