Saturday, Jan 25 2020 | Time 18:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • नेतन्याहू ने 71 वें गणतंत्र दिवस पर मोदी को दी बधाई
  • सीबीआई के 28 अधिकारियों एवं कर्मचारियों को पुलिस पदक
  • नागपुर में युवक की पत्थर से कुचल कर हत्या
  • हिमाचल थीम राज्य के रूप में भाग लेगा सूरजकुंड मेले में
  • यूएमसी ने केनरा बैंक की तीन शाखाओं को किया सील
  • पुणे में चुंगी के खिलाफ अनिश्चितकालीन आंदोलन की चेतावनी
  • गत्ता फैक्ट्री में लगी आग
  • मतदाताओं की जागरूकता ही सशक्त लोकतंत्र की आधारशिला : द्रौपदी
  • इनेलो में टूट थम नहीं रही है, कैथल जिलाध्यक्ष कांग्रेस में शामिल
  • अफगानिस्तान में सात तालिबानी आतंकवादी ढेर
  • भाजपा का गौरक्षा का नारा और दावा झूठाः हुड्डा
  • पाकिस्तान ने बंगलादेश से जीती टी-20 सीरीज
  • पाकिस्तान ने बंगलादेश से जीती टी-20 सीरीज
  • “हम सभी नागरिक हैं”: ममता
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


एसीबी ने सिंचाई घोटाला मामले में अजीत पवार को दी क्लीन चिट

नागपुर, 06 दिसंबर (वार्ता) महाराष्ट्र भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने विदर्भ सिंचाई घोटाला मामले में महाराष्ट्र के पूर्व जल संसाधन मंत्री एवं पूर्व उप मुख्यमंत्री अजीत पवार काे शुक्रवार को क्लीन चिट दे दी।
बाम्बे उच्च नयायलय में नागपुर पीठ के समक्ष 27 नवंबर को दाखिल पत्र के अनुसार श्री पवार पर लगे विदर्भ सिंचाई घोटाले से संबंधित सभी आरोप हटा दिये गये हैं।
उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र में शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी तथा कांग्रेस के 28 नवंबर को गठबंधन करके राज्य में सरकार बनाने से एक दिन पहले ही उच्च न्यायालय के समक्ष यह पत्र दाखिल किया गया था और अब मिली-जुली सरकार बनने के लगभग के सप्ताह बाद उनके विरुद्ध विदर्भ सिंचाई भ्रष्टाचार मामले में लिप्त होने के आरोप हटा दिए गए हैं।
इससे पहले श्री पवार को 70 हजार करोड़ रुपये के महाराष्ट्र सिंचाई घोटाले के मामले में नौ मामलों में भी क्लीन चिट मिली थी, जब उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के नेता एवं पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का सरकार बनाने में सर्मथन दिया था।
पत्र में यह भी कहा गया है कि विदर्भ सिंचाई विकास निगम के अध्यक्ष श्री पवार को घोटालों के लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया जा सकता क्योंकि यह उनकी जिम्मेदारी का हिस्सा नहीं है।
जतिन.श्रवण
वार्ता
image