Tuesday, Aug 4 2020 | Time 16:50 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिरमौर में आईआईएम के स्थाई परिसर का शिलान्यास
  • बस्ती में कोरोना 37 नए कोरोना पॉजिटिव मिले, संख्या 998 पहुंची
  • ऑस्ट्रेलिया-विंडीज टी-20 सीरीज अनिश्चितकाल के लिए स्थगित, आईपीएल को फायदा
  • व्हाइट वस्टिंगहाउस एसपीपीएल के साथ भारतीय उपभोक्ता बाजार में
  • रुड़की में वेस्ट टू एनर्जी प्लांट की बिड प्रक्रिया पूर्ण करने के निर्देश
  • कोरोना के चलते ‘कजली महोत्सव’ की सदियों पुरानी परंपरा इसबार टूट गई
  • न्यूजीलैंड दौरे से मयंक ने काफी कुछ सीखा होगा: नेहरा
  • जेएनयू को सरकार ने दिए 455 करोड़ रुपये
  • इनसो स्थापना दिवस पर अजय चौटाला ने किया रक्तदान
  • चार दिन की गिरावट से उबरा शेयर बाजार, सेंसेक्स 748 अंक चढ़ा
  • पोम्पियो-बरादर ने की अंत:अफगान वार्ता पर चर्चा
  • चीन में गोदाम ढहने से सात लोग मलबे में फंसे
  • मित्रों पर एक महीने में देखे गए 9 अरब वीडियो
  • ऑनलाइन बी2बी ज्वैलरी प्रदर्शनी की घोषणा
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


इस बीच फिल्मकारों ने शत्रुध्न सिंहा की लोकप्रियता को देखते हुये उन्हें बतौर अभिनेता अपनी फिल्मों के लिये साइन करना शुरू कर दिया ।वर्ष 1976 में सुभाष घई के बैनर तले बनी फिल्म ..कालीचरण ..वह पहली फिल्म थी जिसमें शत्रुध्न सिंहा की अदाकारी का जादू दर्शकों के सर चढ़कर बोला 1फिल्म में अपनी जबरदस्त संवाद अदायगी और दोहरी भूमिका में शत्रुध्न सिंहा ने अभिनेता के रूप में भी अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे ।
वर्ष 1978 में शत्रुध्न सिंहा के करियर की एक और सुपरहिट फिल्म ..विश्वनाथ ..प्रदर्शित हुयी ।सुभाष घई के बैनर तले बनी इस फिल्म उन्होंने एक वकील का दमदार किरदार निभाया था ।यूं तो इस फिल्म में शत्रुध्न सिंहा के बोले गये कई संवाद लोकप्रिय हुये लेकिन उनका बोला यह संवाद ..जली को आग कहते है बुझी को खाक कहते है .जिस खाक से बारूद बने उसे विश्वनाथ कहते है ..दर्शकों के बीच खासे लोकप्रिय हुये और आज भी उसी शिद्दत के साथ श्रोताओं के बीच सुने जाते है ।
अस्सी के दशक में शत्रुध्न सिन्हा पर आरोप लगने लगे कि वह वल मारधाड़ और एक्शन से भरपूर किरदार ही निभा सकते है लेकिन उन्होंने वर्ष 1981 में ऋषिकेष मुखर्जी निर्देशित फिल्म ..नरम गरम ..में लाजवाब हास्य अभिनय से दर्शकों को रोमांचित कर दिया ।इस फिल्म से जुड़ा एक रोचक तथ्य यह भी है इस फिल्म मे उन्होंने एक गानें में अपनी आवाज भी दी ।
फिल्मों में कई भूमिकाएं निभाने के बाद शत्रुध्न सिंहा ने समाज सेवा के लिए राजनीति में प्रवेश किया और भारतीय जनता पार्टी के सहयोग से लोकसभा सभा सदस्य बने और स्वास्थ्य और जहाजरानी मंत्रालय का कार्यभार संभाला ।शत्रुध्न सिंहा को हिंदी फिल्म इंडस्ट्री में उन्हें उनके कद के बराबर वह सम्मान नही मिला जिसके वह हकदार है लेकिन उन्हें इस बात का मलाल नही है और वह आज भी उसी जोशो खरोश के साथ फिल्म इंडस्ट्री को सुशोभित कर रहे है ।
प्रेम,जतिन
वार्ता
More News
अमिताभ का अमूल ने नायाब अंदाज में किया स्वागत

अमिताभ का अमूल ने नायाब अंदाज में किया स्वागत

04 Aug 2020 | 9:27 AM

मुंबई, 04 अगस्त (वार्ता) कोरोना को शिकस्त देने वाले सदी के महानायक अमिताभ बच्चन का देश में डेयरी उद्योग की अगुआ अमूल ने घर वापसी पर नायाब अंदाज में स्वागत किया है।

see more..
मराठवाड़ा में कोरोना से 12 मरीजों की मौत

मराठवाड़ा में कोरोना से 12 मरीजों की मौत

04 Aug 2020 | 8:54 AM

औरंगाबाद 04 अगस्त (वार्ता) महाराष्ट्र में मराठवाड़ा के आठ जिलों में कोरोना वायरस (कोविड-19) से पिछले 24 घंटों के दौरान 12 मरीजों की मौत हुई, जबकि इस संक्रमण के 763 नये मामले दर्ज किये गये।

see more..
नासिक में कोरोना मामलों की संख्या 16 हजार के पार

नासिक में कोरोना मामलों की संख्या 16 हजार के पार

04 Aug 2020 | 8:38 AM

नासिक, 04 अगस्त (वार्ता) नासिक में सोमवार को कोरोना के 1,018 नये मामले आये हैं जिससे जिले में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 16,603 हो गई है।

see more..
image