Monday, May 27 2024 | Time 12:03 Hrs(IST)
image
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


सरकार को किसानों के मार्च को रोकना चाहिए और उन्हें संतुष्ट करना चाहिए : पाटिल

मुंबई, 18 मार्च (वार्ता)राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रदेश अध्यक्ष एवं पूर्व जल संसाधन मंत्री जयंत पाटिल ने शनिवार को कहा कि किसान इतनी गर्मी में मुश्किलों से मुम्बई आ रहे हैं, सरकार को चाहिए कि वह उनके मार्च को रोके और तत्परता दिखाते हुए उन्हें संतुष्ट करे ताकि इस दौरान उन्हें कष्ट न उठाना पड़े।
मीडिया से बात करते हुए श्री पाटिल ने संकेत दिया कि वह अब कल सरकार द्वारा दिए गए बयान से संतुष्ट हैं। उन्होंने कहा कि, शिंदे सरकार द्वारा कल (शुक्रवार) कैबिनेट में की गई घोषणाओं में किसानों की कई मांगों को नहीं माना गया।
उन्होंने कहा कि जमीन को लेकर कमेटी बनी है। यह समय की बर्बादी है। कृषि को लगातार 12 घंटे बिजली देने की मांग पर कोई टिप्पणी नहीं की गई। सहायता प्राप्त विद्यालयों को शत-प्रतिशत अनुदान देने, पुरानी पेंशन लागू करने की मांग पर कोई टिप्पणी नहीं है। मुख्य मांग आंगनबाड़ी सहायिका, आशा कार्यकर्ता, स्कूल पोषाहार कार्यकर्ता, डाटा ऑपरेटर, ग्राम रोजगार सेवक, पुलिस पाटिल को सरकारी कर्मचारी घोषित कर तत्काल सरकारी वेतनमान लागू करने की मांग की गई।
दमनगंगा, पैजा नरपार, तापी इलाकों में उठे कुछ सवालों पर कोई टिप्पणी नहीं है। इस बात पर कोई टिप्पणी नहीं है कि गैर-आदिवासियों ने जाली प्रमाणपत्रों का उपयोग करके आदिवासी सीटों पर नौकरियां हड़प लीं, उन्हें पदावनत कर दिया । उन सीटों पर वास्तविक आदिवासियों को लिया जाए और आदिवासियों की सभी रिक्तियों को तुरंत भर दिया। श्री पाटिल ने यह भी कहा “ हम यह देखना चाहते हैं कि किसान नेताओं के साथ मार्च में शामिल किसान इससे संतुष्ट हैं या नहीं।”
सोनिया,आशा
वार्ता
image