Saturday, Jul 20 2024 | Time 15:00 Hrs(IST)
image
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


फाल्के की जयंती के मौके पर मुंबई कार्यक्रम का आयोजन

मुंबई 01 मई (वार्ता) भारतीय सिनेमा के पितामह दादासाहेब फाल्के की जयंती यहां युवाओं, छात्रों और सिनेमा प्रेमियों के लिए एक यादगार कार्यक्रम का आयोजन हुआ। पेड्डर रोड स्थित भारतीय सिनेमा के राष्ट्रीय संग्रहालय में रविवार को आयोजित समारोह में दादासाहेब फाल्के की विरासत पर चर्चा के साथ-साथ पहली फीचर फिल्म राजा हरिश्चंद्र और प्रसिद्ध मराठी फिल्म, हरिश्चंद्रची फैक्ट्री की स्क्रीनिंग की गई।
स्क्रीनिंग के बाद फिल्म निर्माता एवं निर्देशक परेश मोकाशी, फिल्म इतिहासकार और फाल्के के काम के विशेषज्ञ अमृत गंगार और फिल्म विश्लेषक, सामग्री निर्माता एवं 'फेबल्स ऑफ फिल्म' के संस्थापक अंकित सिन्हा ने किंवदंती के बारे में बात की। उन्होंने दादासाहेब फाल्के की विरासत, उनके योगदान और भारतीय सिनेमा तथा दर्शकों पर उनके प्रभाव पर भी प्रकाश डाला।
इस कार्यक्रम में दादासाहेब फाल्के के पोते और पोती चंद्रशेखर पुसालकर और मृदुला पुसालकर भी शामिल हुए। उन्होंने कुछ अनदेखी तस्वीरें और नासिक में दादासाहेब फाल्के द्वारा इस्तेमाल की गई एक कार की तस्वीरें दिखाई।
दादासाहेब फाल्के के नाम से लोकप्रिय धुंडीराज गोविंद फाल्के का जन्म 30 अप्रैल 1870 को हुआ था। राजा रवि वर्मा के चित्रों से प्रेरित होकर, उन्होंने भारत की पहली फीचर फिल्म बनाने के लिए सबसे लोकप्रिय पौराणिक कहानियों में से एक को चुना, जो उस समय एक व्यावसायिक सफलता थी। उन्होंने भारतीय सिनेमा के मूक युग का मार्ग प्रशस्त किया था।
एक निर्माता-निर्देशक-पटकथा लेखक के रूप में उन्होंने अपने करियर में 95 फीचरफिल्में और 27 लघु फिल्में बनाईं, जिनमें राजा हरिश्चंद्र (1913), मोहिनी भस्मासुर (1913), सत्यवान सावित्री (1914), लंका दहन (1917), श्री कृष्ण जन्म (1918) और कालिया मर्दन (1919) शामिल हैं।
संतोष.संजय
वार्ता
image