Thursday, Jul 18 2024 | Time 17:34 Hrs(IST)
image
राज्य » गुजरात / महाराष्ट्र


मनोरंजन-परेश बैंक नौकरी दो अंतिम मुंबई

वर्ष 1993 परेश रावल के सिने कैरियर का महत्वपूर्ण साल साबित हुआ। इस साल उनकी 'दामिनी', 'आदमी और मुकाबला' जैसी सुपरहिट फिल्में प्रदर्शित हुईं। फिल्म 'सर' के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का फिल्म फेयर पुरस्कार मिला जबकि फिल्म 'वो छोकरी' में अपने दमदार अभिनय के लिए वह राष्ट्रीय पुरस्कार से भी सम्मानित किए गए। वर्ष 1994 में प्रदर्शित फिल्म 'सरदार' परेश रावल कैरियर की महत्वपूर्ण फिल्मो में एक है। केतन मेहता निर्मित इस फिल्म में उन्होंने स्वतंत्रता सेनानी वल्लभ भाई पटेल की भूमिका को रूपहले पर्दे पर जीवंत कर दिया। इस फिल्म में अपने दमदार अभिनय से उन्होंने न सिर्फ राष्ट्रीय बल्कि अंतराष्ट्रीय स्तर पर भी अपनी अलग पहचान बना ली। वर्ष1998 में प्रदर्शित फिल्म 'तमन्ना' परेश रावल की महत्वपूर्ण फिल्म में शुमार की जाती है। इस फिल्म में उन्होंने एक ऐसे 'हिजड़े' की भूमिका निभाई, जो समाज के तमाम विरोध के बावजूद एक अनाथ लड़की का पालन-पोषण करता है। हालांकि यह फिल्म टिकट खिड़की पर कोई ख़ास सफल नहीं हुई लेकिन उन्होंने अपने भावपूर्ण अभिनय से दर्शको के साथ ही समीक्षकों का भी दिल जीत लिया।
वर्ष 2000 में प्रदर्शित फिल्म 'हेराफेरी' परेश रावल की सर्वाधिक सफल फिल्मों में से एक है। प्रियदर्शन निर्देशित इस फिल्म में उन्होंने 'बाबू राव गणपत राव आप्टे' नामक मकान मालिक का किरदार निभाया। इस फिल्म में परेश रावल, अक्षय कुमार और सुनील शेट्टी की तिकड़ी के कारनामों ने दर्शको को हंसाते हंसाते लोटपोट कर दिया। फिल्म की सफलता को देखते हुए 2006 में इसका सीक्वेल 'फिर हेराफेरी' बनाया गया। 'हेराफेरी' की सफलता के बाद परेश रावल को ऐसा महसूस हुआ कि खलनायक की बजाय हास्य अभिनेता के रूप में फिल्म इंडस्ट्री में उनका भविष्य अधिक सुरक्षित रहेगा। इसके बाद उन्होंने अधिकतर फिल्मों में हास्य अभिनेता की भूमिकाएं निभानी शुरु कर दी। इन फिल्मों में 'आवारा पागल दीवाना', 'हंगामा', 'फंटूश', 'गरम मसाला', 'दीवाने हुए पागल', 'मालामाल वीकली', 'भागमभाग', 'वेलकम' और 'अतिथि तुम कब जाओगे' जैसी फिल्में शामिल हैं।
परेश रावल अब तक तीन बार फिल्म फेयर पुरस्कार से सम्मानित किए जा चुके है। साल 1993 में प्रदर्शित फिल्म 'सर' के लिए सबसे पहले उन्हें सर्वश्रेष्ठ खलनायक का फिल्म फेयर पुरस्कार मिला। इसके बाद 2000 में फिल्म 'हेराफेरी' और 2002 में फिल्म 'आवारा पागल दीवाना' के लिए भी उन्हें सर्वश्रेष्ठ हास्य अभिनेता का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया। साल 1995 में प्रदर्शित फिल्म 'राजा' के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेता का स्टार स्क्रीन पुरस्कार भी दिया गया।फिल्मों में अभिनय के अलावा परेश रावल ने तीन बहुरानियां और लागी तुझसे लगन जैसे टीवी धारावाहिकों का निर्माण भी किया। परेश रावल को फिल्मों में उनके सराहनीय योगदान के लिए केंद्र सरकार की तरफ से साल 2014 में पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्होंने साल 2014 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के टिकट पर अहमदाबाद पूर्व सीट से चुनाव जीता था। परेश रावल को फिल्म इंडस्ट्री में आये हुये चार दशक हो गये है। इस दौरान उन्होंने करीब 250 फिल्मो में काम किया है। उनकी आने वाली फिल्मों में वेलकम टू द जंगल , हेरा फेरी 3 शामिल है।
प्रेम
वार्ता
image