Wednesday, Nov 14 2018 | Time 12:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कुपवाड़ा में सुरक्षा बलों का खोजी अभियान फिर शुरू
  • भाई-बहन के अटूट प्रेम का प्रतीक सामा-चकेवा शुरू
  • ट्रक एवं कार की टक्कर में छह लोगों की मौत, चार घायल
  • पुलिस मुठभेड़ में कुख्यात अपराधी हीरो मारा गया , दो गिरफ्तार
  • प्रणव, हामिद ने नेहरू को उनके जन्मदिवस पर नमन किया
  • तेलंगाना विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला
  • सिंगापुर में आज शुरू होगी दो दिवसीय पूर्वी एशिया शिखर बैठक
  • हैदराबाद में कार पेड़ से टकराई, आठ लोग घायल
  • बाल दिवस: गूगल ने डूडल बनाकर नेहरु और बच्चों को किया समर्पित
  • बिहार में सूर्योपासना का महापर्व छठ समाप्त
  • कैलिफोर्निया में भीषण आग, मरने वालो की संख्या बढ़ कर 48 हुुई
  • गोण्डा सड़क दुर्घटना में कार सवार तीन लोगों की मृत्यु
  • मोदी ने नेहरू की जयंती पर उन्हें किया याद
  • अमेरिकी रक्षा मंत्री और कतर के उप प्रधानमंत्री ने अफगानिस्तान केे मसले पर बातचीत की
  • कोविंद ने नेहरु को किया नमन
भारत Share

लावारिस बच्चों को बचाने के लिए आगे आयीं रेल अधिकारियों की पत्नियां

नयी दिल्ली 03 सितंबर (वार्ता) रेलवे स्टेशनों के आसपास या ट्रेनों में कचरा बीनते, भीख माँगते, कभी-कभी चोरी आदि अपराधों में लिप्त फटेहाल एवं गंदी हालत में घूमते लावारिस बच्चों को बचाने के लिये रेलवे बोर्ड के अधिकारियों की पत्नियों ने बीड़ा उठाया है और उनकी पहल पर देश के छह स्टेशनों पर अल्प प्रवास आश्रय / बाल सहायता केन्द्र स्थापित करने का फैसला लिया गया है।
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष की पत्नी की अध्यक्षता वाली रेलवे पत्नी कल्याण केन्द्रीय संगठन (आरडब्ल्यूडब्ल्यूसीओ) ने एक गैर सरकारी संगठन- प्रयास जेएसी के साथ मिलकर यह पहल की है और गत सप्ताह रेल मंत्रालय ने इस संबंध में दिल्ली, गुवाहाटी, दानापुर, समस्तीपुर, जयपुर और अहमदाबाद स्टेशनों पर करीब दो हजार वर्गफुट की जगह मुहैया कराने की सहमति दे दी है।
आधिकारिक जानकारी के अनुसार रेलवे स्टेशनों के आसपास या ट्रेनों में कचरा बीनते, भीख माँगते, कभी-कभी चोरी आदि अपराधों में लिप्त फटेहाल एवं गंदी हालत में घूमते छोटे बच्चों को बचाने के लिये आरडब्ल्यूडब्ल्यूसीओ ने यह पहल की है। रेल पत्नी कल्याण केन्द्रीय संगठन इसके लिए एनजीओ प्रयास के साथ एक करार पर हस्ताक्षर करेगा और इस बारे में राज्य सरकारों का भी सहयोग लिया जाएगा।
अल्प प्रवास आश्रय/ बाल सहायता केन्द्रों को किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल एवं संरक्षण) कानून 2015 एवं उसकी नियमावली 2016 के तहत लाइसेंस लेना होगा। इन केन्द्रों का संचालन महिला एवं बाल विकास मंत्रालय एवं चाइल्ड लाइन इंडिया फाउंडेशन के सहयोग से किया जाएगा।
आधिकारिक जानकारी के अनुसार रेल मंत्रालय ने रेलवे पत्नी कल्याण केन्द्रीय संगठन को सूचित किया है कि उसे इन छहों स्टेशनों पर दो-दो हजार वर्गफुट ज़मीन अल्प प्रवास आश्रय तथा 36 वर्गफुट की जगह बाल सहायता केन्द्र के लिए मुहैया करायी जाएगी। यह आवंटन आरंभ में केवल पांच साल के लिए होगा जिसे बाद में बढ़ाया जा सकेगा।
सूत्रों के अनुसार इसमें करीब एक हजार वर्ग फुट में 25 बच्चों के लिए बिस्तर होंगे तथा दो शौचालय एवं दो स्नानगृह होंगे। केन्द्र प्रभारी का कक्ष, बच्चों का परामर्श कक्ष एवं कार्यालय कक्ष के अलावा भंडारगृह भी होगा। सूत्रों के अनुसार इन बच्चों को बाद में बाल संरक्षण गृह में भेजा जा सकेगा। ये केन्द्र समस्त प्रशासनिक औपचारिकताओं को पूरा करने एवं लाइसेंस इत्यादि लेने के बाद ही परिचालित होंगे।
सचिन.श्रवण
वार्ता
More News

मोदी ने नेहरू की जयंती पर उन्हें किया याद

14 Nov 2018 | 9:13 AM

 Sharesee more..

कोविंद ने नेहरु को किया नमन

14 Nov 2018 | 8:58 AM

 Sharesee more..

आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 15 नवंबर)

14 Nov 2018 | 8:40 AM

 Sharesee more..
image