Sunday, Apr 21 2019 | Time 17:38 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • लेग स्पिनर शादाब इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज से बाहर
  • पुरुलिया लोकसभा सीट पर तृणमूल की हार पक्की है- माकपा
  • सत्य पाल मलिक ने श्रीलंका विस्फोटों की निंदा की
  • भारत ने की श्रीलंका हमले की निंदा
  • तीसरे चरण के लिए चुनाव प्रचार थमा
  • बंगाल के पांच संसदीय क्षेत्रों में चुनाव प्रचार थमा
  • विकास कृष्णन ने नोह किड को पीटा
  • केरल की सभी 20 लोस सीटों के लिए चुनाव प्रचार थमा
  • (इंबार्गाे : पांच बजे के बाद चलाना है)
  • औरंगाबाद में ट्रक से कुचलकर चार की मौत
  • छत्तीसगढ़ में तीसरे एवं आखिरी चरण की सात सीटो पर प्रचार समाप्त
  • राहुल ने श्रीलंका में हुए हमले की निंदा की
  • भूमि विवाद में भाई ने की भाई की हत्या
  • श्रीलंका में धमाकों में 185 मरे, 500 से अधिक घायल
  • हरियाणा क्रिकेट अकादमी सेमीफाइनल में
भारत


श्री जावडेकर ने कहा कि पहले शिक्षक पुरस्कार के लिए राज्यों से सिफारिशें आती थी लेकिन इस बार चयन प्रक्रिया बदल दी गयी है और उसे पारदर्शी बना दिया है। अब सिफारिशों के आधार पर नहीं बल्कि काम के आधार पर पुरस्कार दिये जायेंगे। अब पुरस्कार के लिए नवाचार को बढ़ावा देने वालों को अवसर दिया है।
उन्होंने कहा कि अब शिक्षक खुद भी अपने नाम का प्रस्ताव कर सकते हैं। इन शिक्षकों ने खुद ऑनलाइन आवेदन किया और अपने काम का वीडियो भी डाउनलोड किया। कुल 6500 शिक्षकों के आवेदन मिले, प्रत्येक जिले से तीन-तीन नाम आये और फिर उनकी छटायी के बाद छोटे बड़े राज्यों से तीन से लेकर छह शिक्षकों के नाम आये और इस तरह कुल डेढ़ सौ शिक्षकों का चयन हुआ फिर एक राष्ट्रीय जूरी ने उनमें से 45 शिक्षकों का चयन पुरस्कार के लिए किया। उन्होंने कहा कि इस बार पुरस्कार ऐसे लोगों को दिया गया जिनके नाम पहले आ नहीं सकते थे। उन्होंने कहा कि इन पुरस्कृत शिक्षकों में कई ऐसे हैं जिन्होंने छात्रों को शिक्षा देने के लिए खुद मोबाइल एप्प बनाये।
श्री जावडेकर ने कहा कि इन शिक्षकों ने अपने स्कूलों में विद्यार्थियों के स्कूल छोड़ने की संख्या भी कम की है और समुदाय को भी स्कूलों से जोड़ा है। उन्होंने कहा कि इन शिक्षकों के काम को एक फिल्म में भी यहां दिखाया गया है। इस फिल्म को मानव संसाधन विकास मंत्रालय की वेबसाइट पर भी डाला जायेगा ताकि दूसरे शिक्षक भी इनसे प्रेरणा ले सकें।
उन्होंने बताया कि देश के 14-15 लाख शिक्षकों का ऑनलाइन प्रशिक्षण का काम शुरू हो गया है और ये पहली परीक्षा में पास हो गए हैं और अगले साल मार्च में इन शिक्षकों की अंतिम परीक्षा होगी। यह दुनिया का शिक्षकों को प्रशिक्षित करने का सबसे बड़ा कार्यक्रम है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों के लिए दीक्षा प्लेटफार्म भी शुरू किया गया है जिस पर कोई शिक्षक अपना अच्छा पाठ रिकॉर्ड कर उसे इस पर डाल सकता है। उससे दूसरे छात्र भी लाभान्वित होंगे। इसी तरह एक शगुन प्लेटफार्म भी तैयार किया गया है जिस पर स्कूल अपने श्रेष्ठ कार्यों एवं प्रयोगों को सबसे साझा कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सभी राज्यों से इस बारे में कहा गया है और हजारो वीडियो भी मंत्रालय पहुंचे हैं।
अरविंद.श्रवण
जारी.वार्ता
More News
कोविंद, वेंकैया, मोदी ने की श्रीलंका में विस्फाेटों की कड़ी निंदा

कोविंद, वेंकैया, मोदी ने की श्रीलंका में विस्फाेटों की कड़ी निंदा

21 Apr 2019 | 4:55 PM

नयी दिल्ली 21 अप्रैल (वार्ता) राष्ट्रपति राम नाथ काेविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्रीलंका में हुए बम धमाकों में मारे गए लोगों के परिजनों और घायलों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है तथा घटना की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि भारत पूरी एकजुटता के साथ श्रीलंका के साथ खड़ा है।

see more..
कांग्रेस के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोपरि, आतंकवाद पर जीरो टॉलरेंस

कांग्रेस के लिए राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोपरि, आतंकवाद पर जीरो टॉलरेंस

21 Apr 2019 | 3:46 PM

नयी दिल्ली, 21 अप्रैल (वार्ता) कांग्रेस पार्टी ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी पर सशस्त्र बलों का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाते हुए रविवार को कहा कि कांग्रेस ने आतंकवाद पर सदैव जीरो टॉलरेंस रखते हुए राष्ट्रीय सुरक्षा को सर्वोपरि माना है।

see more..
image