Tuesday, Jan 22 2019 | Time 18:02 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • वारंटियों की गिरफ्तारी नहीं होने पर 13 थानाध्यक्षों का वेतन रुका
  • गडकरी ने रावी नदी पर बना पुल राष्ट्र को किया समर्पित
  • एसटीएफ ने लखनऊ में पकड़ी नकली खाद बनाने की कई फैक्ट्री, पांच गिरफ्तार
  • शाह का तृणमूल कांग्रेस को सत्ता से उखाड़ फेंकने का अाह्वान
  • अफ्रीकी देशों के साथ सैन्य कौशल के गुर साझा करेंगे भारतीय सैनिक
  • सिम्स पीडियाट्रिक्स आईसीयू में लगी आग, बच्चे की मौत
  • प्रधानमंत्री परीक्षाओं के बारे में छात्रों, अभिभावकों से बात करेंगे
  • ईवीएम हैकिंग पर प्रेस कांफ्रेंस कांग्रेस की साजिश : भाजपा
  • बीएसएफ ने 31 रोहिंग्या सौंपे पुलिस को त्रिपुरा जेल भेजे गए
  • निजी हैसियत से गया था लंदन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में: सिब्बल
  • लीजेंड नडाल और जायंट किलर सितसिपास सेमीफाइनल में
  • नैनीताल में पत्नी को मारने के बाद पति ने की आत्महत्या
  • लगातार तीसरे दिन टूटा रुपया
भारत Share

समलैंगिकता मामले में सुप्रीम कोर्ट गुरुवार को फैसला सुनायेगा

नयी दिल्ली 05 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय समलैंगिकता को अपराध करार देने संबंधी भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 377 की संवैधानिक वैधता का चुनौती देने वाली याचिका पर गुरुवार को फैसला सुनाएगा।
मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच-सदस्यीय संविधान पीठ इस मामले में नवतेज सिंह जोहार की अपील पर अपना फैसला सुनाएगी। संविधान पीठ में न्यायमूर्ति रोहिंगटन एफ नरीमन, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा भी शामिल हैं।
संविधान पीठ ने मामले की चार दिन लगातार सुनवाई करने के बाद गत 17 जुलाई को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। न्यायालय ने सुनवाई के दौरान कहा था कि अगर कोई कानून मौलिक अधिकारों का हनन करता है तो वह इस बात का इंतज़ार नहीं करेगा कि सरकार उसे रद्द करे। शीर्ष अदालत ने कहा था, “अगर हम समलैंगिकता को अपराध के दायरे से बाहर भी करते हैं, तब भी किसी से जबरन समलैंगिक संबंध बनाना अपराध ही रहेगा।”
न्यायालय ने कहा था, “नाज फाउंडेशन मामले में 2013 के फैसले पर फिर से विचार करने की जरूरत है, क्योंकि हमें लगता है कि इसमें संवैधानिक मुद्दे जुड़े हुए हैं। दो वयस्कों के बीच शारीरिक संबंध क्या अपराध है, इस पर बहस जरूरी है। अपनी इच्छा से किसी को चुनने वालों को भय के माहौल में नहीं रहना चाहिए।”
उल्लेखनीय है कि यौनकर्मियों के कल्याण के लिए काम करने वाली संस्‍था नाज फाउंडेशन ने दिल्ली उच्च न्यायालय में यह कहते हुए इसकी संवैधानिक वैधता पर सवाल उठाया था कि अगर दो वयस्क आपसी सहमति से एकांत में अप्राकृतिक यौन संबंध बनाते हैं तो उसे अपराध की श्रेणी से बाहर किया जाना चाहिए।
उच्च न्यायालय ने 2019 में धारा 377 को निरस्त करते हुए अप्राकृतिक यौन संबंध को अपराध की श्रेणी से बाहर कर दिया था, लेकिन कुछ ही साल बाद शीर्ष अदालत ने 2013 में उच्च न्यायालय के फैसले को पलटते हुए समलैंगिकता को फिर से अपराध घोषित कर दिया था। इस मामले में दोषी करार दिये जाने पर आरोपियों को 10 साल की सजा से लेकर उम्रकैद की सजा हो सकती है और यह गैर-जमानती भी है।
सुरेश.श्रवण
वार्ता
More News
आर्थिक रूप से कमजोर को आरक्षण के खिलाफ तहसीन पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

आर्थिक रूप से कमजोर को आरक्षण के खिलाफ तहसीन पहुंचे सुप्रीम कोर्ट

22 Jan 2019 | 5:59 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) राजनीतिक विश्लेषक तहसीन पूनावाला ने आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण के प्रावधान वाले संविधान संशोधन को उच्चतम न्यायालय में चुनौती दी है।

 Sharesee more..
निजी हैसियत से गया था लंदन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में: सिब्बल

निजी हैसियत से गया था लंदन में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में: सिब्बल

22 Jan 2019 | 5:53 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने भारतीय जनता पार्टी नेता एवं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद के इन आरोपों को मंगलवार को पूरी तरह निराधार बताया कि लंदन में इलेक्ट्रोनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) पर प्रेस कांफ्रेंस कांग्रेस ने आयोजित करायी थी और स्पष्ट किया कि वह इसमें निजी स्तर पर शामिल हुए थे।

 Sharesee more..
सबरीमला: समीक्षा याचिकाओं की सुनवाई के लिए तिथि मुकर्रर नहीं

सबरीमला: समीक्षा याचिकाओं की सुनवाई के लिए तिथि मुकर्रर नहीं

22 Jan 2019 | 5:45 PM

नयी दिल्ली, 22 जनवरी (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने केरल के सबरीमला स्थित अयप्पा मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं को प्रवेश दिये जाने संबंधी फैसले की समीक्षा के लिए दायर याचिकाओं की त्वरित सुनवाई के लिए तारीख मुकर्रर करने से मंगलवार को इन्कार कर दिया।

 Sharesee more..
image