Friday, Sep 21 2018 | Time 17:01 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिंधू और श्रीकांत की हार के साथ भारतीय चुनौती समाप्त
  • पटना में युवक की दिनदहाड़े हत्या
  • मुहर्रम के मद्देनजर श्रीनगर के कुछ इलाकों में पाबंदी
  • सेंसेक्स 280 अंक टूटा;निफ्टी 91 अंक फिसला
  • 12 साल बाद शतरंज ओलंपियाड में उतरेंगे आनंद
  • लाला वर्ल्ड की ट्रांसफरटू के साथ भागीदारी
  • सार्वजनिक रूप से माफी मांगें कुमारस्वामी: भाजपा
  • नोएडा में पीएनबी पर बदमाशों का हमला, दो सुरक्षाकर्मियों की हत्या
  • पश्चिम बंगाल के इस्लामपुर में हिंसा, दो की मौत
  • द्रोणाचार्य अवार्डी कुश्ती कोच यशवीर का निधन
  • द्रोणाचार्य अवार्डी कुश्ती कोच यशवीर का निधन
  • कश्मीर में पुलिसकर्मियों के इस्तीफे की खबर दुष्प्रचार: गृह मंत्रालय
  • मणिपुर विवि से पांच प्रोफेसर और 100 से अधिक छात्र गिरफ्तार
भारत Share

हार्दिक का अनशन तुड़वाएं रूपाणी : गहलोत

हार्दिक का अनशन तुड़वाएं रूपाणी : गहलोत

नयी दिल्ली, 05 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस महासचिव अशोक गहलोत ने किसानों का कर्ज माफ करने और पाटीदार समाज को आरक्षण देने की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल कर रहे पाटीदार नेता हार्दिक पटेल के स्वास्थ्य को लेकर चिंता जाहिर करते हुए कहा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी को इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप करना चाहिए।

श्री गहलोत ने ट्वीट किया “हार्दिक पटेल 25 अगस्त से भूख हड़ताल पर हैं। उनके स्वास्थ्य की बिगड़ती स्थिति को लेकर हम चिंतित हैं। गुजरात के मुख्यमंत्री को समय गवाएं बिना इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप करना चाहिए और उनकी अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल समाप्त करानी चाहिए।”

उन्होंने श्री हार्दिक पटेल से भी हड़ताल खत्म करने का अनुरोध किया और कहा “ मैं हार्दिक पटेल से भूख हड़ताल समाप्त करने का आग्रह करता हूं। उन्हें अपना संघर्ष जारी रखना चाहिए लेकिन भूख हड़ताल समाप्त करनी चाहिए क्योंकि भारतीय जनता पार्टी को इससे फर्क नहीं पड़ता है। उन्हें इसकी कोई परवाह नहीं है। वे फासीवादी लोग हैं और उन्हें लोकतंत्र में भरोसा नहीं है।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि राजस्थान में गुरुशरण छाबड़ा जी ने भूख हड़ताल की थी लेकिन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने इस मामले में हस्तक्षेप नहीं किया और उनका निधन हो गया। उन्होंने कहा कि जब भाजपा को अपने विधायक की चिंता नही है तो उससे दूसरों के लिए उनसे उम्मीद नहीं की जानी चाहिए। भाजपा की यह मानसिकता है। श्री गुरुशरण छाबड़ा साहब जब भूख हड़ताल करते थे तो मुख्यमंत्री के रूप में वह उनके पास जाते थे और उनकी हड़ताल तुड़वाते थे। मुख्यमंत्री राजे के कार्यकाल में भूखहड़ताल के कारण उन्होंने दम तोड़ दिया।

गौरतलब है कि श्री हार्दिक पटेल पिछले दस दिन से पाटीदारों को आरक्षण देने और किसानों का कर्ज माफ करने के लिए भूख हड़ताल पर हैं। उनकी भूख हड़ताल को विभिन्न राजनीतिक दलों का समर्थन मिल रहा है।

अभिनव जितेन्द्र

वार्ता

image