Saturday, Sep 22 2018 | Time 17:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राहुल ने मोदी काे बताया ‘चोर’ और ‘भ्रष्ट’
  • राफेल सौदा : चौकीदार ईमानदार है तो सच बताने में कैसा डर :लालू
  • त्रिवेंद्र ने आंदोलनकारी शमशेर सिंह के निधन पर किया शोक व्यक्त
  • मोदी राँची में करेंगे ‘जन आरोग्य योजना’ की शुरुआत
  • त्रिवेंद्र ने आंदोलनकारी शमशेर सिंह के निधन पर किया शोक व्यक्त
  • पुलिस जवानों की हत्या का लक्ष्य शांति को बाधित करना: फारूक
  • खेल रत्न के लिए कोशिश जारी रहेगी: बोपन्ना
  • खेल रत्न के लिए कोशिश जारी रहेगी: बोपन्ना
  • व्यापमं मामले में सीबीआई ने उच्चतम न्यायालय में झूठा हलफनामा दायर किया - सिब्बल
  • मोदी ने किया ओडिशा में सत्ता परिवर्तन का आह्वान
  • मणिपुर विश्वविद्यालय परिसर सील, इंटरनेट सेवाएं स्थगित
  • देश में पत्रकारों पर बढ़ते हमले पर सम्मलेन
  • जेट एयरवेज के खिलाफ हत्या का प्रयास का मामला दर्ज
भारत Share

न्यायमूर्ति नरीमन ने अलग से सुनाये गये फैसले में इस तरह के यौन रुझान को जैविक स्थिति बताते हुए कहा कि इस आधार पर किसी भी तरह का भेदभाव मौलिक अधिकारों का उल्लंघन है और जहां तक किसी निजी स्थान पर आपसी सहमति से अप्राकृतिक यौन संबंध बनाने का सवाल है तो न यह हानिकारक है और न ही समाज के लिए संक्रामक है।
न्यायमूर्ति नरीमन ने अपने फैसले में सरकार और मीडिया समूहों से आग्रह किया कि वे शीर्ष अदालत के इस फैसले का व्यापक प्रचार करें, ताकि एलजीबीटी समुदाय को भेदभाव का सामना न करना पड़े।
उल्लेखनीय है कि समलैंगिक यौन संबंधों को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने का मुद्दा पहली बार गैर-सरकारी संगठन नाज फाउण्डेशन ने 2001 में दिल्ली उच्च न्यायालय में उठाया था। उच्च न्यायालय ने 2009 में अपने फैसले में धारा 377 के प्रावधान को गैर-कानूनी करार देते हुए ऐसे रिश्तों को अपराध के दायरे से बाहर कर दिया था, लेकिन उच्च न्यायालय के इस फैसले सुरेश कौशल आदि ने शीर्ष अदालत में चुनौती दी थी, जिसने 2013 में उच्च न्यायालय का फैसला पलट दिया था। शीर्ष अदालत ने अपने फैसले पर पुनर्विचार के लिए दायर याचिका भी खारिज कर दी थी। शीर्ष अदालत में इस फैसले को लेकर दायर सुधारात्मक याचिकायें अब भी लंबित हैं।
संविधान पीठ ने नवतेज जौहर एवं अन्य की ओर से अलग से दायर रिट याचिकाओं की चार दिन लगातार सुनवाई करने के बाद गत 17 जुलाई को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था। न्यायालय ने सुनवाई के दौरान कहा था कि अगर कोई कानून मौलिक अधिकारों का हनन करता है तो वह इस बात का इंतज़ार नहीं करेगा कि सरकार उसे रद्द करे। शीर्ष अदालत ने कहा था, “अगर हम समलैंगिकता को अपराध के दायरे से बाहर भी करते हैं, तब भी किसी से जबरन समलैंगिक संबंध बनाना अपराध ही रहेगा।”
न्यायालय ने कहा था, “नाज फाउंडेशन मामले में 2013 के फैसले पर फिर से विचार करने की जरूरत है, क्योंकि हमें लगता है कि इसमें संवैधानिक मुद्दे जुड़े हुए हैं। दो वयस्कों के बीच शारीरिक संबंध क्या अपराध है, इस पर बहस जरूरी है। अपनी इच्छा से किसी को चुनने वालों को भय के माहौल में नहीं रहना चाहिए।”
सुरेश.श्रवण
वार्ता
More News

राहुल ने मोदी काे बताया ‘चोर’ और ‘भ्रष्ट’

22 Sep 2018 | 5:22 PM

 Sharesee more..
राफेल मामले की जांच संसद की संयुक्त समिति से करायी जाए: माकपा

राफेल मामले की जांच संसद की संयुक्त समिति से करायी जाए: माकपा

22 Sep 2018 | 5:14 PM

नयी दिल्ली, 22 सितम्बर (वार्ता) मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने कहा है कि राफेल विमान सौदे के बारे में फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा अोलांद के ताजा बयान से मोदी सरकार का झूठ पूरी तरह उजागर हो गया है इसलिए अब इस सौदे की जांच संसद की संयुक्त समिति से कराई जानी चाहिए।

 Sharesee more..
सर्जिकल स्ट्राइक  दिवस से संबंधित परिपत्र वापस हो: माकपा

सर्जिकल स्ट्राइक दिवस से संबंधित परिपत्र वापस हो: माकपा

22 Sep 2018 | 5:07 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) देश के विश्वविद्यालयों में 29 सितम्बर को सर्जिकल स्ट्राइक दिवस मानाने को लेकर विवाद गहराता जा रहा है। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) ने सर्जिकल स्ट्राइक दिवस मानाने के लिए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की ओर से जारी परिपत्र को वापस लेने की मांग की है। पार्टी पोलित ब्यूरो ने शनिवार को यहाँ जारी विज्ञप्ति में कहा कि मानव संसाधन विकास मंत्रालय के निर्देश पर आयोग ने यह परिपत्र जारी किया है जो आपत्तिजनक है क्योंकि सत्तारूढ़ दल की इसके जरिये देश में उन्मादी राष्ट्रवाद का माहौल बनाने की मंशा है और इस तरह वह अपने राजनीतिक एजेंडे को आड़े बढ़ाना चाहता है।

 Sharesee more..
किसी का दबाव नहीं, खुद चुना रिलायंस को : डसाल्ट

किसी का दबाव नहीं, खुद चुना रिलायंस को : डसाल्ट

22 Sep 2018 | 4:50 PM

नयी दिल्ली 22 सितम्बर (वार्ता) फ्रांस सरकार के बाद अब राफेल विमान बनाने वाली कंपनी डसाल्ट एविएशन ने भी फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांसुआ ओलांद के बयान पर सफाई देते हुये कहा है कि राफेल विमान सौदे में ऑफसेट समझौते के तहत खुद उसने ही अनिल अंबानी नीत रिलायंस समूह की कंपनी को साझेदार बनाया था।

 Sharesee more..
image