Friday, Sep 21 2018 | Time 22:51 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • राष्ट्रीय सैंबो प्रतियोगिता में हरियाणा चैंपियन
  • बीसीए के खिलाफ कार्रवाई करे बीसीसीआई : सीएबी
  • तंजानिया नौका हादसे में मृतक संख्या 136 हुई
  • मोदी ने राफेल सौदे में देश को दिया धोखा: राहुल
  • टीआरएस नेता कांग्रेस में शामिल
  • पर्यावरण संरक्षण के लिए पौधारोपण जरूरी : लोईस
  • युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराना प्राथमिकता : रघुवर
  • शहीद जवान के परिवार को एक करोड़ की वित्तीय मदद
  • बच्ची छेड़छाड़ के आरोप में दो गिरफ्तार
  • ‘सीबीआई निदेशक के खिलाफ शिकायत दुर्भावना से ग्रस्त’
  • शाहिदी और अफगान के अर्धशतकों से अफगानिस्तान के 257
  • शाहिदी और अफगान के अर्धशतकों से अफगानिस्तान के 257
  • मोदी ने कुआंग के निधन पर शोक जताया
  • हिन्दुस्तान जिंक ने अत्याधुनिक फुटबाल अकादमी की स्थापना की
  • जालन्धर में मतगणना के लिए पुख्ता प्रबंध
भारत Share

अमेरिका के साथ कॉमकाेसा समझौते से बढेगी सैन्य ताकत

नयी दिल्ली 06 सितम्बर (वार्ता) भारत और अमेरिका ने निरंतर मजबूत हो रहे रक्षा संबंधों को अधिक प्रगाढ बनाने के लिए आज एक और महत्वपूर्ण सैन्य समझौते ‘संचार अनुकूलता एवं सुरक्षा समझौते’ (कॉमकोसा) पर हस्ताक्षर किये जिससे भारत को उच्च सैन्य संचार प्रौद्योगिकी हासिल हो सकेगी जिसकी मदद से वह दुश्मन की गतिविधियों पर पैनी नजर रख सकेगा।
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज , रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण , अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो और रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस के बीच गुरूवार को यहां हुई पहली ऐतिहासिक टू प्लस टू वार्ता के बाद इस समझौते पर हस्ताक्षर किये गये।
उच्च पदस्थ सूत्रों ने बाद में इस समझौते की कुछ बारीकियों का खुलासा करते हुए बताया कि यह समझौता विशेष रूप से भारत की जरूरतों और शर्तों पर आधारित है। इसके तहत भारत को अमेरिका से उच्च सैन्य संचार प्रौद्योगिकी हासिल होगी जिसकी मदद से उसे अपने दुश्मन की गतिविधियों की पल-पल की जानकारी मिलती रहेगी। इसमें देश के हितों को पूरी तरह से ध्यान में रखा गया है।
उन्होंने कहा कि समझौता तत्काल प्रभाव से लागू हो गया है और यह दस वर्ष तक प्रभावी रहेगा। इसके तहत भारत को अमेरिका से खरीदे गये और कुछ अन्य रक्षा प्लेटफार्मों को इस अत्याधुनिक संचार प्रौद्योगिकी से लैस किया जायेगा। इसके साथ ही अमेरिकी रक्षा प्लेटफार्म भी भारत को उन्हें मिलने वाली सैन्य जानकारियों और गतिविधियों से अवगत करायेंगे। भारत की इस प्रौद्योगिकी और उससे हासिल जानकारी तक पूरी पहुंच रहेगी जिसमें किसी तरह की अड़चन नहीं आयेगी।
सूत्रों ने यह भी स्पष्ट किया कि इस समझौते के तहत भारत को किसी तरह के अन्य रक्षा उपकरणों की खरीद के लिए बाध्य नहीं किया जायेगा। इसके अलावा भारतीय रक्षा प्लेटफार्मों द्वारा एकत्रित जानकारी और आंकडों को किसी अन्य को नहीं दिया जायेगा।
इस समझौते के तहत भारतीय रक्षा प्लेटफार्मों में सेन्ट्रिक्स नाम की संचार प्रणाली लगायी जायेगी जो कूट भाषा में जानकारी का प्रेषण करने में मदद करेगी। इसकी मदद से भारत और अमेरिका के रक्षा प्लेटफार्म परस्पर संपर्क साध सकेंगे। इस संचार प्रणाली से भारत को सीमा पार और समुद्री क्षेत्र में दुश्मन की गतिविधियों की पल पल की जानकारी रहेगी। यदि दुश्मन की पनडुब्बी भारतीय क्षेत्र के निकट आती है तो तुरंत इसकी जानकारी भारतीय रक्षा तंत्र को मिल जायेगी। ये आंकडे समुद्री और हवाई क्षेत्र से पल भर में नियंत्रण कक्ष को भेजे जा सकेंगे।
उल्लेखनीय है कि भारत ने दो साल पहले ही अमेरिका के साथ सैन्य साजो सामान के आदान प्रदान से संबंधित समझौते पर हस्ताक्षर किये थे। इस समझौते के बाद दोनों देशों की सेना एक दूसरे के सैन्य अड्डों पर जाकर साजो सामान का आदान प्रदान कर सकेंगे।
संजीव जितेन्द्र
वार्ता
More News
मोदी सरकार का कौशल विकास बन गया घोटाला : कांग्रेस

मोदी सरकार का कौशल विकास बन गया घोटाला : कांग्रेस

21 Sep 2018 | 9:53 PM

नयी दिल्ली 21 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने कौशल विकास योजना में बड़ा घोटाला होने का आरोप लगाते हुए आज कहा कि इसके तहत मोदी सरकार के चहेते बिचौलिया फायदा उठा रहे हैं और इसकी व्यापक जाँच होनी चाहिए।

 Sharesee more..
शहीद जवान के परिवार को एक करोड़ की वित्तीय मदद

शहीद जवान के परिवार को एक करोड़ की वित्तीय मदद

21 Sep 2018 | 9:39 PM

नयी दिल्ली 21 सितम्बर (वार्ता) दिल्ली सरकार जम्मू के समीप नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तानी सैनिकों की गोलीबारी में शहीद जवान नरेंद्र सिंह के परिवार को एक करोड़ रूपये की वित्तीय मदद देगी।

 Sharesee more..
मोदी ने कुआंग के निधन पर शोक जताया

मोदी ने कुआंग के निधन पर शोक जताया

21 Sep 2018 | 9:37 PM

नयी दिल्ली 21 सितम्बर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वियतनाम के राष्ट्रपति तरान दाई कुआंग के शुक्रवार को आकस्मिक निधन पर शोक व्यक्त किया है।

 Sharesee more..
image