Thursday, Nov 15 2018 | Time 19:00 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हरियाणा मंत्रिमंडल फैसले दो चंडीगढ़
  • देहरादून सर्राफा बाजार में सोना चमका
  • नौसेना ने मालदीव तटरक्षक बल के पोत की मरम्मत की
  • जौहरी ने 10 घंटे तक दर्ज कराया बयान
  • अफगानिस्तान में तालिबान के झड़पों में 35 सुरक्षाकर्मियों की माैत
  • राजस्थान में स्मिथ सहित 16 खिलाड़ी बरकरार
  • जीआईएस से जुटायी जा रही गंगा सफाई की जानकारी
  • देहरादून में किशोरी और युवक ने की आत्महत्या
  • सबरीमाला मुद्दा: श्रद्धालुओं तथा मीडियाकर्मियों को रोका गया
  • राष्ट्रपति रामनाथ काेविंद दिल्ली रवाना
  • केराेसिन पीकर महिला ने की खुदकुशी
  • लिवर की बीमारियों से हर साल दो लाख लोगों की मौत
  • राफेल की जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट एसआईटी गठित करे: येचुरी
  • पंजाब पुलिस ने जम्मू जाकर की टैक्सी ऑपरेटर की पूछताछ
  • भूपेश ने एक निजी टीवी चैनल के स्टिंग ऑपरेशन पर पूछी भाजपा नेताओं की राय
भारत Share

प्रधानमंत्री ने सम्मेलन में मौजूद देश-विदेश की प्रमुख मोबिलिटी कंपनियों के प्रमुखों से यह सुनिश्चित करने की अपील की कि आने वाले समय में प्राइवेट मोड की तुलना में सार्वजनिक परिवहन को वरीयता मिल सके। मोबिलिटी पहलों में साझा सार्वजनिक परिवहन मूल तत्व होना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारा ध्यान कार से भी आगे होना चाहिए। स्कूटर और रिक्शा जैसे वाहनों पर भी ध्यान दिये जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसा इकोसिस्टम बनाया जाना चाहिए जिसमें गांव के लोग बगैर किसी कठिनाई के सुगमता से अपने उत्पाद शहरों में ला सके।
श्री मोदी ने कहा कि भारत को ‘स्वच्छ किलोमीटर’ का नेतृत्व करना चाहिए और प्रदूषण मुक्त स्वच्छ ड्राइव इसका उद्देश्य होना चाहिए। स्वच्छ ऊर्जा पर आधारित स्वच्छ मोबिलिटी जलवायु परिवर्तन से निपटने का शक्तिशाली हथियार है। इसका मतलब है कि प्रदूषण मुक्त स्वच्छ ड्राइव जिससे स्वच्छ हवा और लोगों के लिए बेहतर जीवनशैली मिल सके।
उन्होंने कहा कि चार्जड मोबिलिटी की भविष्य का उपाय है। बैटरी से लेकर स्मार्ट चार्जिंग, इलेक्ट्रिक वाहन विनिर्मात जैसे पूरे वैल्यू चेन में निवेश में तेजी लाने की आवश्यकता है। भारतीय उद्यमियों और विनिर्माताओं को ऐसी बैटरी प्रौद्योगिकी लानी चाहिए जो श्रेष्ठ प्रदर्शन कर सके। इसके लिए निजी क्षेत्र को भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो)के साथ मिलकर काम करना चाहिए।
प्रधानमंत्री ने कहा कि कंजेशन फ्री मोबिलिटी जाम के कारण पर्यावरण और अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले प्रभाव को नियंत्रित कर सकता है। इसके मद्देनजर नेटवर्काें को बाधा मुक्त बनाना होगा। इससे कम ट्रैफिक जाम होगा और लोगों को भी यात्रा के दौरान तनाव कम होगा। उन्होंने कहा कि कॉन्वेनियेट मोबिलिटी का मतलब सुरक्षित, किफायती और समाज के सभी वर्गाें के पहुंच वाली परिवहन व्यवस्था होनी चाहिए। इसमें वृद्धों, महिलाओं और दिव्यांग भी शामिल हैं।
शेखर अर्चना
जारी/ वार्ता
More News
महिलाओं के लिए सार्वजनिक स्थलों पर सहज और सुरक्षित माहौल जरूरी: सीतारमण

महिलाओं के लिए सार्वजनिक स्थलों पर सहज और सुरक्षित माहौल जरूरी: सीतारमण

15 Nov 2018 | 6:23 PM

नयी दिल्ली 15 नवम्बर (वार्ता) रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा है कि महिलाएं अब घरों तक ही सीमित नहीं हैं, इसलिए उन्हें पार्क, सार्वजनिक परिवहन के साधनों और अन्य सार्वजनिक स्थलों पर सुरक्षित तथा सहज माहौल उपलबध कराना जरूरी है।

 Sharesee more..
सोने के आभूषण पर हाॅलमार्क को अनिवार्य बनायेगी सरकार :पासवान

सोने के आभूषण पर हाॅलमार्क को अनिवार्य बनायेगी सरकार :पासवान

15 Nov 2018 | 6:18 PM

नयी दिल्ली 15 नवंबर (वार्ता) खाद्य,आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों के मंत्री रामविलास पासवान ने आज कहा कि केन्द्र जल्दी ही उद्योगों के लिए सोने के आभूषणों और गिन्नी पर अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप हाॅलमार्किंग को अनिवार्य बनायेगा ।

 Sharesee more..
image