Sunday, May 31 2020 | Time 11:37 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • देश में कोरोना के एक दिन में सर्वाधिक 8000 से अधिक नये मामले
  • अजमेर से पश्चिम बंगाल एवं बिहार के श्रमिकों को लेकर ट्रेन रवाना
  • कोरोना का संकट अब भी उतना ही गंभीर, लापरवाही नहीं चल सकती, सब उतनी ही सावधानी बरतेें : मोदी
  • पर्यावरण दिवस पर पेड़ लगायें, पक्षियों के लिए पानी का इंतजाम करें : मोदी
  • जल संचयन हमारी जिम्मेदारी, वर्षा का पानी बूंद बूंद बचाना है : मोदी
  • टिड्डी दल का हमला बड़ा संकट, किसानों को बचा लेंगे : मोदी
  • दिल्ली में बारिश से तापमान में गिरावट
  • अम्फान से पूर्वी भारत में भारी नुकसान, संकट की घड़ी में देश उनके साथ खड़ा है : मोदी
  • अजमेर में एक कांस्टेबल ने आत्महत्य का किया प्रयास
  • आयुष्मान भारत योजना के एक करोड़ लाभार्थियों में 80 प्रतिशत गांवों के हैं, 50 प्रतिशत महिलाएंं : मोदी
  • आयुष्मान भारत योजना ने गरीबों के 14 हजार करोड़ रुपये बचाये : मोदी
  • लोग आयुष मंत्रालय की ‘माई लाइफ माई योग’ प्रतियोगिता में अवश्य भाग लें : मोदी
  • विश्व के नेताओं की दिलचस्पी योग एवं आयुर्वेद में है : मोदी
  • देश में कोरोना के 67 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र, तमिलनाडु, गुजरात और दिल्ली के
  • पूर्वी भारत में विकास की विशाल संभावनाएं खुलीं हैं : मोदी
भारत


जल परिवहन और वैकल्पिक ईंधन समय की जरूरत : गडकरी

नयी दिल्ली 07 सितंबर (वार्ता) सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने वाहन निर्माता कंपनियों से परिवहन के लिए जल मार्ग तथा स्वच्छ ईंधन के विकल्प को समय की जरूरत बताते हुए कहा है कि इससे सस्ता यातायात उपलब्ध होगा और पर्यावरण काे भी संरक्षित किया जा सकेगा।
श्री गडकरी ने शुक्रवार को यहां ग्लोबल मोबलिटी समिट में वाहन निर्माता कम्पनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों की बैठक को सम्बोधित करते हुए लोगों से सार्वजनिक परिवहन का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने का आग्रह किया और कहा कि जिस गति से निजी वाहनों की संख्या बढ रही है उसे देखते हुए मौजूदा सड़कें कम पड़ रही है और इसका विकल्प यही है कि लोग सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करें।
वाहनों के उत्सर्जन से पर्यावरण को होने वाले नुकसान को कम करने तथा पर्यावरण संरक्षण के लिए वैकल्पिक ईंधन के इस्तेमाल पर बल देते हुए उन्होंन कहा कि ग्रीन फ्यूल इथेनॉल,मिथेनॉल, बायो सीएनजी और इलेक्ट्रिक से चलने वाले वाहनों को प्राथमिकता दी जानी चाहिए। इसके लिए उन्होंने ऐसे वाहनों को परमिटमुक्त करने की घोषण की है और उन्हें उम्मीद है कि इससे बड़ा परिवर्तन आएगा।
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि वैकल्पिक ईंधन के इस्तेमाल से पेट्रोल और डीजल के आयात पर होने वाले खर्च को कम किया जा सकेगा और इसके के लिए उद्योगों को आगे आने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि परंपरागत ईंधन का विकल्प अपनाया जाना चाहिए और इस काम में वैकल्पिक ईंधनचालित वाहनों का निर्माण कर वाहन निर्माता कंपनियां अहम भूमिका निभा सकती हैं।
अभिनव सचिन
जारी वार्ता
image