Thursday, Sep 20 2018 | Time 19:46 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • आरएसएस-भाजपा की सोच दलित विरोधी : मायावती
  • हथियारबंद डकैतों ने पांच लाख रुपये की संपत्ति लूटी
  • अमित शाह कल छत्तीसगढ़ के एक दिवसीय दौरे पर
  • पत्रकार राजदेव हत्याकांड की सुनवाई मुजफ्फरपुर में ही होगी
  • इंडो यूरोप खेल सप्ताह में ढूंढी जाएंगी फुटबॉल प्रतिभाएं
  • विस में गूंजा कानून व्यवस्था का सवाल
  • मुजफ्फरपुर यौन शोषण मामले में चार गिरफ्तार, तीन से पूछताछ
  • फसल बीमा लागू नहीं कर रही पंजाब सरकार: गुरमुख बल
  • पलानीस्वामी के खिलाफ टिप्पणी पर करुणास के खिलाफ मामला
  • संस्कारवान युवाओं के कंधों पर है देश का भविष्य : नाईक
  • महाराष्ट्र में किसान ने की आत्महत्या
  • सांसदों, विधायकों के लंबित मामलों की सुनवाई के लिए विशेष अदालत
  • बगैर आपूर्ति के इनपुट टैक्स रसीद जारी करने वाले दो व्यापारी गिरफ्तार
  • भारत आने वाले अमेरिकी पर्यटकों की संख्या आठ प्रतिशत बढ़ी
भारत Share

पुलिस प्रताड़ना के खिलाफ जीजेएम का प्रदर्शन

दार्जिलिंग/ नयी दिल्ली 09 सितंबर (वार्ता) पिछले एक साल से शांत रहने के बाद गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) के कार्यकर्ताओं ने पश्चिम बंगाल सरकार और पुलिस प्रताड़ना के खिलाफ रविवार को दिल्ली में प्रदर्शन किया।
प्रदर्शनकारी ‘दार्जिलिंग में लोकतंत्र बचाओ, दार्जिलिंग, कालिम्पोंग, तेराई और डूअर्स में पुलिस प्रताड़ना बंद करो’ जैसे नारे लगा रहे थे। मोर्चा के नेताओं ने ‘लोकतांत्रिक तरीके से गोरखालैंड की मांग को लेकर उठने वाली आवाजों को क्रूर तरीके से दबाने’ का आरोप लगाया।
प्रदर्शनकारियों ने कहा कि संवैधानिक अधिकारों का इस्तेमाल कर के गोरखालैंड राज्य के लिए आवाज उठाने वाले लोगों के खिलाफ पश्चिम बंगाल पुलिस बड़े पैमाने पर क्रूरता कर रही है और उन्हें प्रताड़ित और यातना देने के लिए ‘क्रूर’ बलों का उपयोग किया जा रह है।
प्रदर्शनकारियों ने कहा, “दार्जिलिंग, तेराई और डूअर्स में शांति नहीं है। निर्दोष लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है और गोरखालैंड की मांग करने वाले लोगों के घरों को जलाया जा रहा है। पुलिस उन लोगों के परिवार के सदस्यों को परेशान कर रही है, जिन्हें वह मौजूदा गोरखालैंड क्षेत्रीय प्रशासन (जीटीए) बोर्ड और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सरकार के खिलाफ मानती हैं। यहां तक कि मौजूदा शासन के खिलाफ सोशल मीडिया पर पोस्ट करने वाले लोगों भी गिरफ्तार किया जा रहा है। हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में तानाशाही की स्थिति में रह रहे हैं और हम अपने देशवासियों का ध्यान इस मूल तथ्य पर आकर्षित करना चाहते हैं।”
प्रदर्शनकारी दार्जिलिंग, तेराई और डूअर्स क्षेत्र में भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं होने की बात को दर्शाने के लिए काले मुखौटों से अपने मुंह ढंके हुए थे।
संतोष.संजय
वार्ता
More News
‘प्रहार’ मिसाइल का सफल परीक्षण

‘प्रहार’ मिसाइल का सफल परीक्षण

20 Sep 2018 | 7:41 PM

नयी दिल्ली 20 सितम्बर (वार्ता) देश में ही विकसित सतह से सतह पर मार करने वाली सामरिक मिसाइल ‘प्रहार’ का आज ओडिशा स्थित बालासोर परीक्षण रेंज से सफल परीक्षण किया गया।

 Sharesee more..

सुषमा और कुरैशी के बीच न्यूयार्क में होगी बैठक

20 Sep 2018 | 7:39 PM

नयी दिल्ली 20 सितम्बर (वार्ता) भारत और पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों के बीच न्यूयार्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा अधिवेशन के इतर बैठक होगी जिसमें करतारपुर साहिब के लिए सिख तीर्थयात्रियों को जाने की इजाजत देने के मुद्दे पर भी बातचीत होगी।

 Sharesee more..
कठिन फैसले लेती रहेगी सरकार : मोदी

कठिन फैसले लेती रहेगी सरकार : मोदी

20 Sep 2018 | 7:26 PM

नयी दिल्ली 20 सितम्बर (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार की साढ़े चार साल की उपलब्धियाँ गिनाते हुये आज कहा कि इस दौरान देश का चौतरफा विकास इसलिए संभव हो सका कि मौजूदा सरकार कठिन फैसले लेने से नहीं हिचकिचाई।

 Sharesee more..
‘दरबारी मसखरेबाजी’ से प्रासंगिक बने रहना चाहते हैं जेटली : कांग्रेस

‘दरबारी मसखरेबाजी’ से प्रासंगिक बने रहना चाहते हैं जेटली : कांग्रेस

20 Sep 2018 | 7:11 PM

नयी दिल्ली 20 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने वित्त मंत्री अरुण जेटली के पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी को ‘मसखरा राजकुमार’ कहने पर पलटवार करते हुये श्री जेटली को ‘दरबारी मसखराबाज’ करार दिया और कहा कि प्रासंगिक बने रहने के लिए वह बेकार के ब्लॉग लिख रहे हैं।

 Sharesee more..
image