Sunday, Sep 23 2018 | Time 19:24 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • तीन तलाक का मुद्दा राजनीति का विषय नहीं : रविशंकर
  • एकता, अखंडता और सम्मान के लिए डालें वोट: लू
  • भारत ने छह स्वर्ण के साथ जीता ट्रैक एशिया कप
  • वोट बैंक की राजनीति के कारण गरीबों के स्वास्थ्य की हुई अनदेखी : मोदी
  • फोटो कैप्शन-दूसरा सेट
  • सरकार को आन्दोलनरत कर्मचारियों से करनी चाहिए बात-पायलट
  • पर्रिकर ही गोवा के मुख्यमंत्री बने रहेंगें: अमित शाह
  • हरियाणा ने जम्मू-कश्मीर को तीन विकेट से हराया
  • महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर ‘मुशायरा’
  • हरियाणा, हिमाचल और पंजाब सहित कई राज्यों में मानसून सक्रिय
  • भारत अंडर-16 लड़कियों का दूसरे राउंड का सपना टूटा
  • राफेल कांग्रेस द्वारा प्रायोजित झूठा मुद्दा-माथुर
  • भूटान भारत के परिवार का हिस्सा रहा है: वेंकैया
  • छत्तीसगढ़ के 40 लाख गरीबों को मिलेगी पांच लाख तक मुफ्त इलाज सुविधा
  • यूपी-ओड़िशा का मुकाबला बारिश की भेंट चढा
भारत Share

सिन्हा, शौरी, भूषण ने राफेल सौदे को लेकर सरकार पर फिर साधा निशाना

नयी दिल्ली 11 सितम्बर (वार्ता) वाजपेयी सरकार में मंत्री रह चुके यशवंत सिन्हा और अरुण शौरी तथा वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने राफेल सौदे में कथित अनियमितताओं को लेकर एक बार फिर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा है कि एक निजी कंपनी को सौदे में शामिल करके सरकार ने इसमें ‘कमीशनखोरी’ के लिए एक तंत्र बना दिया है।
उन्होंने कहा है कि सौदे के तहत विमानों की संख्या 126 से घटाकर 36 करने से देश की सुरक्षा के साथ भी समझौता किया गया है। तीनों ने एक संवाददाता सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कि इस सौदे में नियमाें का तो उल्लंघन किया ही गया, वायु सेना की सलाह के बिना विमानों की संख्या कम कर उसके अधिकारों को भी छीना गया।
तीनों ने कहा कि सरकार ने 7-8 वर्षों तक चली बातचीत के बाद हुए समझौते को रद्द कर फ्रांस सरकार से सीधे 36 राफेल विमान खरीदने का सौदा किया। श्री सिन्हा ने कहा, “ इस स्तर पर सौदे में निजी कंपनी को लाया गया है तो हम कह सकते हैं कि ‘कमीशनखोरी’का तंत्र बना दिया गया है और जैसे ही खेल शुरू होगा कमीशन आना शुरू हो जायेगा। इसका पर्दाफाश होना चाहिए। इस समय हम केवल यह कह रहे हैं कि यह तंत्र बना दिया गया है, वरना तो निजी कंपनी को ऑफसेट में लाये जाने की जरूरत ही नहीं थी।”
राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार में विनिवेश मंत्री रह चुके श्री शौरी ने कहा कि सरकार गोपनीयता के पर्दे के पीछे छिप रही है क्योंकि उसे पता है कि इस मामले में श्री मोदी खुद घेरे में आ रहे हैं। यह साफ है कि यह सब प्रधानमंत्री को बचाने के लिए किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि सरकार खुद अपने जाल में फंस जायेगी लेकिन लोगों और मीडिया को सवाल पूछते रहना होगा।
श्री भूषण ने कहा कि राफेल खरीद मामले में श्री मोदी ने राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता किया है और सभी नियमों का उल्लंघन किया गया है। सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम हिन्दुस्तान एयरोनाटिक्स लिमिटेड को इसकी प्रौद्योगिकी हस्तांतरण से भी वंचित रखा गया है।
संजीव.श्रवण
वार्ता
More News

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर ‘मुशायरा’

23 Sep 2018 | 6:49 PM

 Sharesee more..
दिल्ली की सभी लोकसभा सीटें फिर जीतेगी भाजपा  : शाह

दिल्ली की सभी लोकसभा सीटें फिर जीतेगी भाजपा : शाह

23 Sep 2018 | 6:17 PM

नयी दिल्ली 23 सितम्बर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने विश्वास व्यक्त किया है कि 2019 के आम चुनाव में उनकी पार्टी दिल्ली की सभी सातों लोकसभा सीटों पर फिर कब्जा करेगी।

 Sharesee more..
सिक्किम के पहले हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे मोदी

सिक्किम के पहले हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे मोदी

23 Sep 2018 | 5:07 PM

नयी दिल्ली 23 सितम्बर (वार्ता) प्रधानमत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को सिक्किम के पाक्योंग में राज्य के पहले हवाई अड्डे का उद्घाटन करेंगे। पूर्वोत्तर मामलों के केंद्रीय मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने यह जानकारी देते हुए रविवार को कहा कि यह सिर्फ सिक्किम और पूर्वोत्तर के लिए ही नहीं बल्कि पूरे देश के लिए ऐतिहासिक अवसर होगा जब श्री मोदी इस हवाई अड्डे का लोकार्पण करेंगे। उन्होंने कहा कि सिक्किम को बने 40 वर्ष हो गये हैं लेकिन अब इस पर्वतीय राज्य के हवाई अड्डे का उद्घाटन कर उसे दुनिया के हवाई नक्शे में जगह दी जा रही है।

 Sharesee more..

23 Sep 2018 | 4:48 PM

 Sharesee more..
राफेल शताब्दी का सबसे बड़ा घोटाला : कांग्रेस

राफेल शताब्दी का सबसे बड़ा घोटाला : कांग्रेस

23 Sep 2018 | 4:45 PM

नयी दिल्ली, 23 सितम्बर (वार्ता) कांग्रेस ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे को शताब्दी का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए कहा कि इसमें भ्रष्टाचार का आरोप सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर है इसलिए अपने बचाव में मंत्रिमंडल के सहयोगियों को आगे करने की बजाए उन्हें खुद इसका जवाब देना चाहिए।

 Sharesee more..
image