Tuesday, Sep 18 2018 | Time 19:48 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • हत्या का प्रयास करने के मामले में दोषी को सजा
  • चुनाव दौरान कांग्रेस कर सकती है हिंसा: मजीठिया
  • हाईकोर्ट ने ढेंचा बीज मामले में त्रिवेन्द्र को दी राहत
  • किसानों से 50 लाख मीट्रिक टन धान की खरीद करेगी योगी सरकार
  • चीन मिलों और इससे जुड़े संगठनों पर 38 करोड़ का जुर्माना
  • ‘आयुष्मान भारत’ विश्व की पहली कैशलेस योजना : नड्डा
  • एंबुलेंस ठप पड़ने पर आयोग ने दिल्ली सरकार से मांगा जवाब
  • बलात्कार की घटनाओं पर मोदी की चुप्पी अस्वीकार्य : राहुल
  • राष्ट्र को जोडती है हिन्दी : सेमसन मसीह
  • खून से लथ-पथ पिता-पुत्र की मौत, दूसरा पुत्र घायल
  • भाजपा 2019 चुनाव जीत कर देश में पचास वर्ष तक करेगी अजेय शासन-शाह
  • सचिन बने आईडीबीआई फेडरल लाइफ के ब्रांड एंबेसडर
  • सिद्धू बताएं कि डेरा सच्चा सौदा प्रमुख के आगे सिर झुकाने की सच्चाई: शिअद
  • कांग्रेस सत्ता में आई तो आंध्र काे विशेष राज्य का दर्जा: राहुल
  • पटना जिले में लक्ष्य से 63 प्रतिशत कम हुआ वृक्षारोपण
भारत Share

नौ करोड़ भाजपा कार्यकर्ता घर-घर जाकर जनता को बताएंगे कांग्रेस की करतूतें

नयी दिल्ली 12 सितंबर (वार्ता) भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने आज कहा कि वह अपने नौ करोड़ कार्यकर्ताओं को घर-घर भेजेगी और कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार की करतूतोंं को उजागर करेगी कि किस प्रकार से उसने बड़े ऋणों में ‘फर्जीवाड़ा’ किया जिससे बैंकों में गैर निष्पादित परिसंपत्तियां (एनपीए) बेतहाशा बढ़ गयीं जबकि मोदी सरकार ने ना केवल समूची अर्थव्यवस्था बुनियाद मज़बूत की बल्कि रुपए की कीमत को कम करने के लिए लिए गये 34 अरब डॉलर के विदेशी ऋण को चुकता किया है।
भाजपा के वरिष्ठ नेता और रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, “सच्चाई कुछ और है। जो ऋण खाते आठ साल पहले एनपीए हो चुके थे, उनको झूठ मूठ पुनरीक्षित करके और उन्हें दोबारा ऋण देकर ऐसे खातों को स्थिर एवं चालू दिखाया गया।” उन्होंने कहा कि ऋण पाने वाली कंपनियों का सामर्थ्य उसे चुकाने का था ही नहीं और ना ही उनकी ऐसी नीयत थी।
श्री गोयल ने कहा कि भाजपा के नौ करोड़ कार्यकर्ता जनता के बीच जाएंगे और घर-घर में मनमाेहन सरकार की करतूतों की पोल खोलेंगे और मोदी सरकार के सही कदमों की जानकारी देंगे।
श्री गोयल ने कहा कि बैंकों को मुनाफा दिखाने के लिए मज़बूर किया गया। मोदी सरकार ने इन कंपनियों के खातों के सच को 2014-15 में भी खंगाल लिया था। संप्रग सरकार के समय कुछ कंपनियों को अनाश शनाप ढंग से बेतहाशा ऋण दिये गये और उससे बैंकों का आधार कमज़ोर होता गया। लेकिन उस समय सचाई सामने लाने से भारत की अंतरराष्ट्रीय मंचों पर साख को बहुत नुकसान होता। इसलिए सरकार ने धीरे-धीरे कार्रवाई करके बैंकों को ऐसे खातों को एनपीए में लाने को बाध्य किया और पता लगाया कि 2006-08 से लेकर 2013-14 तक कुल ऋण 18 लाख करोड़ रुपए से बढ़कर 53 लाख करोड़ हो गया।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में यह पहली सरकार है जिसमें बड़े लोगों के फंसे ऋण पर सख्त रुख अपनाया है और उन्हें कर्ज़ चुकाने के लिए मज़बूर किया गया है। विशेषज्ञों ने मोदी सरकार के बैंकिंग प्रणाली साफ सुथरी बनाने के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि सरकार ने कर्ज़ लेकर भागने वालों पर शिकंजा कड़ा कर दिया है।
श्री गोयल ने कहा कि कर्ज़ नही चुकाने वालों पर दिवाला एवं धनशोधन कानून के तहत कार्रवाई हो रही है। भगोड़ा अार्थिक अपराधी कानून के कारण ऐसे अपराधी यहां वहां भाग रहे हैं। देश में बैंकिंग प्रणाली मज़बूत करने के लिए ये सफाई बहुत जरूरी है।
उन्होंने कहा कि 2013 में डॉलर के मुकाबले रुपए की कीमत 68.86 रुपए हो गयी थी जिसे कृत्रिम तरीके से कम करने के लिए एफसीएनआर में 32-34 अरब डॉलर का ऋण लिया गया था। मोदी सरकार ने उस ऋण को चुकता कर दिया है। इसी के साथ ऑयल बांड के करीब 1.30 लाख करोड़ रुपए की देनदारी चुकता कर दी गयी है। इसका भार मोदी सरकार पर पड़ा है। केन्द्रीय विक्रय कर में से करीब 47000 करोड़ रुपए राज्यों को दिए गये हैं। इसके बावजूद भारत का विदेशी मुद्रा भंडार लगभग 400 अरब डॉलर का है।
उन्होंने कहा कि 2013 की तुलना में रुपए का अवमूल्यन केवल तीन रुपए के आसपास है। उन्होंने कहा कि 2014 के पहले महंगाई दर 10 से 12 प्रतिशत रही जो अब चार प्रतिशत के आसपास है। दाल, सब्जी, दूध आदि के दाम कम हैं। वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में 450 वस्तुओं और 68 सेवाओं की दरें कम की गयीं हैं। आयकर में कई प्रकार की रियायतों से गरीबों, मध्यम वर्ग को काफी राहत मिली है। बैंकों के साथ तेल कंपनियों को मज़बूत बनाया गया है।
तेल की कीमतों के बारे में उन्होंने कहा कि करों के कारण राज्यों को सबसे ज़्यादा लाभ हो रहा है। राजस्थान सरकार ने वैट घटाया है। कुछ अन्य सरकार भी ऐसा कर सकतीं हैं।
सचिन जितेन्द्र
वार्ता
More News
कोविंद ने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के लिए ‘लोगो’ जारी किया

कोविंद ने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के लिए ‘लोगो’ जारी किया

18 Sep 2018 | 7:20 PM

नयी दिल्ली 18 सितम्बर (वार्ता) राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयन्ती देश भर में मनाने के लिए मंगलवार को एक लोगो जारी किया, गौरतलब है कि महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती राष्ट्रीय स्तर पर मनाने के लिए श्री कोविंद की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया गया है और इस वर्ष दो अक्टूबर को गांधी जी की 149वीं जयन्ती है।

 Sharesee more..
फसल बीमा दावे के देर से भुगतान पर लगेगा जुर्माना

फसल बीमा दावे के देर से भुगतान पर लगेगा जुर्माना

18 Sep 2018 | 7:19 PM

नयी दिल्ली 18 सितम्बर (वार्ता) प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत दावे का निर्धारित समय पर भुगतान नहीं करने वाली कम्पनियों को अब 12 प्रतिशत ब्याज के साथ राशि का भुगतान करना होगा।

 Sharesee more..
image