Thursday, Mar 21 2019 | Time 19:43 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • भाजपा के लोकसभा उम्मीदवारों की पहली सूची जारी
  • एसटीएफ ने पांच तस्करों को किया गिरफ्तार,65 लाख का गांजा बरामद
  • मध्यप्रदेश में होली का उल्लास
  • चीन में विस्फोट से छह की मौत, 30 घायल
  • श्रीनगर में व्यवसायियों ने हिरासत में मौत के विराेध में किया प्रदर्शन
  • बैंककर्मी से लूट मामले में चार गिरफ्तार
  • मिस्र में फैक्टरी में विस्फोट से 15 मरे
  • जहरीली शराब पीने से शिक्षक की मौत
  • वियतनाम के आठ छात्र नदी में डूबे
  • इनेलो विधायक रणबीर सिंह गंगवा भाजपा में शामिल
  • होली पर हुड़दंग करने वालों के खिलाफ पुलिस सख्त
  • शत्रुघ्न सिन्हा ने मोदी पर होली के बहाने फिर कसा तंज
  • पुलवामा घटना एक साजिश थी,नई सरकार बनने पर जांच होगी: रामगोपाल
  • नहर में डूबकर पांच युवक की मौत
भारत


सपा-बसपा गठबंधन पर कांग्रेस ने साधी चुप्पी

सपा-बसपा गठबंधन पर कांग्रेस ने साधी चुप्पी

नयी दिल्ली 12 जनवरी (वार्ता) उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के बीच लोकसभा चुनाव के लिए हुए गठबंधन पर आज कांग्रेस ने चुप्पी साध ली, कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने यहां संवाददाताओं के साथ बातचीत में कहा कि पार्टी के उत्तर प्रदेश के प्रभारी महासचिव गुलाम नबी आजाद इस बारे में पार्टी का रूख जल्द स्पष्ट करेंगे।

उन्होंने कहा कि जहां तक लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधनों की बात है पार्टी का मानना है कि राज्यों में ऐसे गठबंधन ही उचित रास्ता हैं जो ‘भारत के विचार’ को बढावा देते हैं।

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अधिवेशन में अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा विभिन्न दलों के गठबंधन को ‘मजबूरी’ बताये जाने से संबंधित सवाल पर उन्होंने कहा , “ आप (प्रधानमंत्री) कह रहे हैं कि गठबंधन मजबूरी है तो हम आपसे पूछना चाहते हैं कि क्या वाजपेयी सरकार द्वारा किया गया गठबंधन मजबूत था या मजबूर था। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव मजबूत और मजबूर सरकार के बीच की लड़ाई नहीं होगी यह तानाशाही वाली सरकार और लोकतांत्रिक सरकार के बीच होगी। यह ‘भाषण’ और ‘प्रशासन’ के बीच की लड़ाई होगी।

उल्लेखनीय है कि सपा और बसपा ने आगामी लोकसभा चुनाव के लिए अपने गठबंधन का आज लखनऊ में औपचारिक ऐलान कर दिया। गठबंधन में कांग्रेस शामिल नहीं है लेकिन सपा और बसपा ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्रों अमेठी और रायबरेली से उम्मीदवार नहीं खडा करने का निर्णय लिया है।

संजीव

वार्ता

image