Wednesday, Sep 18 2019 | Time 19:32 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सिगरेट, पान मसाला पर भी प्रतिबंध लगाए सरकार : कांग्रेस
  • हरियाणा में 16 नये कॉलेज खोलने को मंजूरी
  • पुर्नप्रतिष्ठा का युग शुरु हो चुका है,जनता को रहा है पूर्वाभास :योगी
  • बिहार में पीएमएवाई के तहत बने 6 52 लाख आवास
  • उपचुनावों में भी भाजपा लहराएगी परचम, स्थानीयों को मिलेगा टिकट: सत्ती
  • विनेश ने जीता कांस्य और पहला ओलंपिक कोटा
  • असम में तीन महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार मामले में महिला आयोग सख्त
  • उत्तराखण्ड में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के लिए नामांकन पत्र लेने की प्रक्रिया शुरू
  • चीनी, सरसों तेल मजबूत, दालों में मिश्रित रुख
  • चीनी, सरसों तेल मजबूत, दालों में मिश्रित रुख
  • एलआईसी का पैसा डूबो रही है सरकार : कांग्रेस
  • आवश्यकता पांच हजार डॉक्टरों की, नियुक्त हैं 2100 : योगेंद्र यादव
  • बिहार और तेलंगाना में रहा मानसून अति सक्रिय
  • वाहन फंसने से पटना हवाईअड्डे पर उड़ान प्रभावित
भारत


जैव आतंकवाद से निपटने के लिए तैयार रहे सेना: राजनाथ

जैव आतंकवाद से निपटने के लिए तैयार रहे सेना: राजनाथ

नयी दिल्ली, 12 सितम्बर (वार्ता) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की देशों की सेनाओं और उनकी चिकित्सा शाखाओं से आज कहा कि आतंकवाद के लिए जैविक हथियारों का इस्तेमाल अभी एक बड़ा खतरा है और उन्हें इससे निपटने के लिए तैयार रहना होगा।

श्री सिंह ने गुरूवार को यहां एससीओ देशों के पहले मिलिट्री मेडिसिन सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए कहा , “ मैं जैविक-आतंकवाद की समस्या से निपटने की क्षमता विकसित करने के महत्व को रेखांकित करना चाहता हूं। जैविक-आतंकवाद अभी एक वास्तविक खतरा है। यह संक्रामक महामारी की तरह फैलता है और सशस्त्र सेनाओं तथा मेडिकल सेवाओं को इससे निपटने के लिए आगे बढकर मोर्चा संभालना होगा।”


जम्मू-कश्मीर से संबंधित संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के बाद उत्पन्न तनाव के मद्देनजर पाकिस्तान ने सम्मेलन में हिस्सा नहीं लिया। देश के 40 और 30 विदेशी प्रतिनिधियों ने सम्मेलन में हिस्सा लिया।

रक्षा मंत्री ने कहा कि रण क्षेत्र से संबंधित प्रौद्योगिकी में निरंतर बदलाव आ रहा है और इससे नयी-नयी चुनौती पैदा हो रही हैं। नये और गैर परांपरागत युद्धों ने इन चुनौतियों को और जटिल बना दिया है। सशस्त्र सेनाओं की मेडिकल सर्विस को इन चुनौतियों का पता लगाने और इनसे सैनिकों को बचाने तथा उनके स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभाव को कम करने की रणनीति सुझाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी।

उन्होंने कहा कि परमाणु, रसायनिक और जैविक हथियारों के कारण भी स्थिति निरंतर जटिल हो रही है। सशस्त्र सेनाओंं के चिकित्सा से जुड़े विशेषज्ञ संभवत इन खतरनाक चुनौतियों से निपटने के साजो-सामान से लैस हैं। घायलों की देखभाल और उनका बचाव मिलिट्री मेडिसिन का महत्वपूर्ण पहलू है। लड़ाई के दौरान चिकित्सा सुविधा मुहैया कराने वाली मेडिकल सेवाओं का यह कर्तव्य है कि उनके पास घायलों को जल्द से जल्द जरूरी सहायता उपलब्ध कराने के लिए स्पष्ट , प्रभावशाली और जांचा परखा तरीका होना चाहिए। ये तरीके और रणनीति विभिन्न सैन्य अभियानों को ध्यान में रखकर तैयार किये जाने चाहिए।

उल्लेखनीय है कि विशाक्त कीटाणुओं, विषाणुओं अथवा फफूंद जैसे संक्रमणकारी तत्वों जिन्हें जैविक हथियार कहा जाता है का युद्ध में नरसंहार के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

संजीव

जारी वार्ता

More News
वर्ष 2030 तक 75 फीसदी शहरी इलाकों का पुननिर्माण: पुरी

वर्ष 2030 तक 75 फीसदी शहरी इलाकों का पुननिर्माण: पुरी

18 Sep 2019 | 7:23 PM

नयी दिल्ली, 18 सितंबर (वार्ता) केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने निर्माण तकनीक में नवाचार, ऊर्जा कुशलता, स्थानीय संसाधन और अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल पर बल देते हुए बुधवार को कहा कि सरकार ने वर्ष 2030 तक देश शहरों के 75 फीसदी इलाके के पुननिर्माण करने की याेजना तैयार की है।

see more..
ममता ने मोदी को दिया कोयला परियोजना के उद्घाटन का न्योता

ममता ने मोदी को दिया कोयला परियोजना के उद्घाटन का न्योता

18 Sep 2019 | 7:23 PM

नयी दिल्ली, 18 सितम्बर (वार्ता) पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलकर राज्य का नाम बदलने और विकास कार्यों के बारे में विचार विमर्श किया लेकिन राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर एवं अन्य राजनीतिक मसलों पर कोई बातचीत नही की।

see more..
image