Thursday, Feb 27 2020 | Time 16:28 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • अमेरिका में शराब कारखाने में गोलीबारी, पांच कर्मचारियों की मौत
  • जौनपुर में 106 किलो गांजा बरामद,दो तस्कर गिरफ्तार
  • दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के 505 नए मामले
  • चित्तौड़गढ़ दुर्ग की सुरक्षा के लिए छत्तीस सुरक्षा गार्ड्स तैनात-कल्ला
  • कश्मीर, लद्दाख में भूकंप के मध्यम झटके
  • हरियाणा में 100 करोड़ रूपये से अधिक के ठेके मिलेंगे अलग अलग ठेकेदारों को
  • प्रकरण न्यायालयों में लंबित रहने के कारण नहीं दिया भूखण्डों का कब्जा-धारीवाल
  • सेंसेक्स 143 अंक टूटा, निफ्टी भी 45 अंक की गिरावट में
  • छत्तीसगढ़ में सत्ता पक्ष के नेता एवं आईएएस अफसरो के यहां आयकर का छापा
  • अनियमितता मिलने पर कोटा में चार ई-मित्र कियोस्कों को किया बंद
  • अरावली को वन्यजीव अभ्यारण्य घोषित किया जाए : कुमारी सैलजा
  • करीब साढ़े तीन हजार माध्यमिक विद्यालयों में पढाया जा रहा है कंप्यूटर विज्ञान विषय -डोटासरा
  • न्यूज़ीलैंड पर रोमांचक जीत से भारतीय महिला टीम सेमीफाइनल में
  • न्यूज़ीलैंड पर रोमांचक जीत से भारतीय महिला टीम सेमीफाइनल में
भारत


एफडीआई नीति का ई. कॉमर्स कंपनियां कर रही है उल्लंघन: व्यापारी परिसंघ

नयी दिल्ली 17 सितम्बर (वार्ता) लगभग सात करोड खुदरा व्यापारियों के संगठन अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ (कैट) ने आगामी त्योहारों के अवसर पर ई. कॉमर्स कंपनियों अमेज़न एवं फ्लिपकार्ट की ‘फेस्टिवल सेल’ पर सवाल उठाते हुए कहा है कि इस तरह की बिक्री और उस पर छूट देना प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) नीति 2018 का स्पष्ट उल्लंघन है।
परिसंघ के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल ने आज यहां एक संवददाता सम्मेलन में बताया कि इस मामले को लेकर केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल को एक पत्र लिखा गया है और जल्दी ही परिसंघ का एक प्रतिनिधिमंडल उनसे मुलाकात भी करेगा। पत्र में ई. कॉमर्स कंपनियों की इस तरह से बिक्री प्रणाली पर रोक लगाने की मांग की गयी है।
श्री खंडेलवाल ने आरोप लगाया कि ये कंपनियां सरकार की एफडीआई नीति का उल्लंघन कर रही हैं। एफडीआई नीति के प्रमुख प्रावधानों के अनुसार ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस मॉडल में 100 प्रतिशत एफडीआई की अनुमति है और जिसके तहत ई-कॉमर्स कंपनियां तकनीकी प्लेटफॉर्म के रूप में कार्य कर सकती हैं। ई-कॉमर्स इकाइयाँ प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से उत्पादों की कीमतों को प्रभावित नहीं करेंगी और बाज़ार में प्रतिस्पर्धा के स्तर को बनाए रखेंगी।
उन्होंने कहा कि अमेज़ॅन और फ्लिपकार्ट समेत सभी ई. कॉमर्स कंपनियों काे केवल ‘बी टू बी’ व्यापार की अनुमति दी गई है। लेकिन ये कंपनियां उपभोक्ताओं को आकर्षित करने वाले बड़े विज्ञापन दे रही है। चूंकि ये ई कॉमर्स कंपनियां बिकने वाले सामान की मालिक नहीं हैं इसलिए वे उपभोक्ताओं को छूट नहीं दे सकती है। छूट की पेशकश करके ये कंपनियां कीमतों को प्रभावित कर रही है जो एफडीआई नीति का स्पष्ट उल्लंघन है।
सत्या/शेखर
वार्ता
More News
यूएससीआईआरएफ की टिप्पणी तथ्यात्मक तौर पर गलत: रवीश

यूएससीआईआरएफ की टिप्पणी तथ्यात्मक तौर पर गलत: रवीश

27 Feb 2020 | 3:44 PM

नयी दिल्ली, 27 फरवरी (वार्ता) विदेश मंत्रालय ने दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाकों में फैली हिंसा को लेकर अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता से संबंधित अमेरिकी आयोग (यूएससीआईआरएफ) की तरफ से जतायी गयी चिंता काे खारिज करते हुए गुरुवार को कहा कि आयोग की टिप्पणी तथ्यात्मक तौर पर गलत और भ्रामक हैं।

see more..
ताहिर पर केजरीवाल की चुप्पी स्तब्ध करने वाली: गंभीर

ताहिर पर केजरीवाल की चुप्पी स्तब्ध करने वाली: गंभीर

27 Feb 2020 | 3:34 PM

नयी दिल्ली, 27 फरवरी (वार्ता) पूर्वी दिल्ली से सांसद गौतम गंभीर ने उत्तर पूर्वी दिल्ली के आम आदमी पार्टी (आप) के एक नेता पर दंगाइयों को पनाह देने, पेट्रोल बम फेंकने और इंटेलिजेंस ब्यूरो के जवान अंकित शर्मा की हत्या के आरोपों पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की चुप्पी को स्तब्ध करने वाला बताया है।

see more..
कांग्रेस ने राष्ट्रपति से की अमित शाह काे हटाने की मांग

कांग्रेस ने राष्ट्रपति से की अमित शाह काे हटाने की मांग

27 Feb 2020 | 2:11 PM

नयी दिल्ली, 27 फरवरी (वार्ता) कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से दिल्ली हिंसा को लेकर बृहस्पतिवार को मुलाकात की और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को पद से हटाने तथा आम जनता की जान-माल की सुरक्षा सुनिश्चित करने की मांग की।

see more..
image