Monday, Oct 14 2019 | Time 14:34 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सितंबर में थोक मुद्रास्फीति 0 33 प्रतिशत पर
  • तेलंगाना में बस हड़ताल के दौरान एक और कर्मचारी ने जान दी
  • राजस्थान में अब पार्षद चुनेंगे नगर निकाय प्रमुख
  • विवादित स्थल पर दीपोत्सव के लिये अब अदालत जायेंगे साधु
  • जिलों में भी होगी पेयजल की गुणवत्ता की जांच :पासवान
  • अफगानिस्तान में हवाई हमले में नौ आतंकवादी ढेर
  • लगातार दूसरे दिन स्थिर रहे पेट्रोल-डीजल के दाम
  • निराला के कहने पर बॉम्बे टॉकीज का प्रस्ताव ठुकराया गिरिजा कुमार माथुर ने
  • सोनिया के लिए अभद्र टिप्पणी पर माफी मांगे खट्टर: कांग्रेस
  • विहिप को नहीं मिली विवादित परिसर में दीपोत्सव की मंजूरी
  • स्वर्णकार पर हमला कर चार लाख रुपए एवं सोना लूटा
  • मोबाइल पर नवंबर से उपलब्ध होगा इसरो का ‘नाविक’
  • सितंबर में थोक मुद्रास्फीति 0 33 प्रतिशत पर
भारत


नाबालिग के साथ दुष्कर्म, हत्या के दोषी की फांसी पर रोक

नयी दिल्ली, 17 सितम्बर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने नौ वर्ष पहले कोयम्बटूर में नाबालिग लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार और फिर लड़की एवं उसके भाई की हत्या के दोषी मनोहरन की फांसी पर मंगलवार को रोक लगा दी।
न्यायमूर्ति रोहिंटन फली नरीमन, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने दोषी की पुनर्विचार याचिका की सुनवाई करते हुए अगली सुनवाई तक के लिए यह रोक लगाई।
न्यायालय ने मामले की सुनवाई के लिए 16 अक्टूबर की तारीख मुकर्रर की है।
दोषी व्यक्ति को तीन दिन बाद 20 सितंबर को ही फांसी दी जाने वाली थी। गौरतलब है कि शीर्ष अदालत ने 10 साल की लड़की के साथ सामूहिक बलात्कार के दोषी मनोहरन को गत एक अगस्त को 2:1 के बहुमत से मौत की सजा बरकरार रखी थी। बालिका और उसके भाई की हत्या भी कर दी गयी थी। निचली अदालत की ओर से मिली मौत की सजा को तमिलनाडु उच्च न्यायालय ने बरकरार रखा था।
इस मामले में पुजारी मोहन कृष्णन और मनोहरन पर आरोप लगे थे, लेकिन बाद में में मोहनकृष्णन एक पुलिस मुठभेड़ में मारा गया था।
सुरेश.श्रवण
वार्ता
image