Saturday, Jan 18 2020 | Time 20:23 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चंद्रबाबू ने तेदेपा संस्थापक रामा राव को दी श्रद्धांजलि
  • तटरक्षक दल ने डूबती नौका तथा पांच मछुआरों को बचाया
  • प्रज्ञा को जहरीला पत्र भेजने वाला डॉक्टर हिरासत में
  • गुजरात में शीतलहर जारी, नलिया 3 8 डिग्री के साथ सबसे ठंडा
  • सिद्दारमैया ने बाढ़, मंगलुरु फायरिंग पर शाह को घेरा
  • दिल्ली विस के पूर्व अध्यक्ष कांग्रेस नेता योगानंद शास्त्री का पार्टी से इस्तीफा
  • गरीबों के लिए समर्पित है झारखंड सरकार : हेमंत
  • शबाना सड़क दुर्घटना में घायल, अस्पताल में भर्ती
  • झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा
  • राजधानी भोपाल में ‘सीवियर कोल्ड डे’ सहित मध्यप्रदेश के आठ शहरों में ‘कोल्ड डे’
  • सोमालिया में अल-शबाब के 16 आतंकवादी ढेर
  • गंगटा जंगल में लूटपाट कर रहे तीन अपराधी गिरफ्तार
  • आदर्श शास्त्री ने कांग्रेस का दामन थामा
  • ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप
  • तृणमूल के लिए कब्र साबित होगा नंदीग्राम : घोष
भारत


बच्चों में निमाेनिया मौत का सबसे बड़ा कारण

नयी दिल्ली,27 नवंबर(वार्ता) देश में पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में आज भी निमोनिया मौत का सबसे प्रमुख कारण है और भारत में इस उम्र के बच्चों में इसकी दर 14.3 फीसदी है यानि प्रत्येक चार मिनट में एक बच्चे की मौत हो रही है।
देश में बचपन में होने वाले निमोनिया के खिलाफ प्रभावी प्रयत्नों की शुरुआत के तहत सेव द चिलड्रन की आज यहां जारी “भारत में निमोनिया के परिस्थिति का विश्लेषण” रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है।
रिपोर्ट का विमोचन डॉ. अजय खेरा, आयुक्त, मातृत्व एवं बाल स्वास्थ्य, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा किया गया, जिसमें पांच उच्च भार वाले राज्यों उत्तर प्रदेश, बिहार, मध्य प्रदेश, झारखंड, राजस्थान का गहराई से मूल्यांकन, चुनौतियों के बारे में पहचान और कार्रवाई करने के लिए आह्वान किया गया है।
इस अवसर पर डॉ.खेरा, आयुक्त, मातृत्व एवं बाल स्वास्थ्य, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने केन्द्र सरकार की योजना लक्ष्य (लेबर रुम क्वालिटी इम्प्रूवमेंट इनिशिएटिव गाइडलाइन) के बारे में बताया कि किस तरह यह जन्म के समय देखभाल की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए केंद्रित है। जिसमें आशा महिला कर्मचारियों को प्रशिक्षित करना और महिलाओं को स्वास्थ्य केंद्रों में एकत्रित करना शामिल है।
डा़ खेरा ने कहा, “स्वास्थ्य प्रणाली में स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र नए तौर पर जुड़ा है जो जमीनी तौर पर लोगों तक पहुंचने में मदद करेगा। सरकार ने बचपन में होने वाली मातृत्व से निपटने के लिए वाकई महत्वाकांक्षी लक्ष्य तय किया है और इस उद्देश्य के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है।”
सेव द चिल्ड्रन के डायरेक्टर प्रोग्राम्स अनिंदित रॉय चौधरी ने कहा कि बच्चों में आज भी निमोनिया मौत का सबसे प्रमुख कारण है और भारत में 5 साल के कम उम्र के बच्चों में इसकी दर 14.3 फीसदी है। पूरे विश्व में पांच वर्ष से कम आयु के बच्चों की निमोनिया से होने वाली मौतों में भारत का आंकड़ा 17 फीसदी है। बचपन में होने वाले निमोनिया की समस्या से निपटना सेव द चिल्ड्रन के शताब्दी वर्ष की तीन प्रतिबद्धताओं में से एक है और हम निमोनिया से हाेने वाली मौतों को पूरी तरह रोकने के लिए प्रतिबद्ध है।
रिपोर्ट के प्रमुख निष्कर्षों से पता चला है कि 1. 5 साल से कम उम्र के बच्चों में अध्ययन किए गए 5 राज्यों में कुल मिलाकर एक्यूट रेस्पिरेटरी इन्फेक्शन (एआरआई) का प्रचलन दर 13.4 फीसदी रहा। बिहार में यह दर सबसे ज्यादा 18.2 फीसदी रही है और उसके बाद उत्तर प्रदेश 15.9 फीसदी, झारखंड 12.8 फीसदी, मध्य प्रदेश 11.6 फीसदी और राजस्थान 8.4 फीसदी का स्थान है।
रिपोर्ट में पाया गया है कि बचपन में होने वाले निमोनिया के लिए घर में वायु प्रदूषण जोखिम का एक महत्वपूर्ण कारक है। जिन घरों में खाना बनाने के लिए एलपीजी का इस्तेमाल होता है वहां यह समस्या नहीं है और ऐसे घरों में एआरआई की संभावना दो फीसदी से भी कम होती है।
इसमें निमोनिया के लक्षणों के बारे में जागरुकता और जल्दी देखभाल पर विशेष ध्यान केंद्रित करने पर भी जोर दिया गया है।
जितेन्द्र
वार्ता
More News
दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस-राजद का समझौता

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस-राजद का समझौता

18 Jan 2020 | 7:07 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) दिल्ली विधानसभा का चुनाव मिलकर लड़ेगी। दोनों दलों के बीच हुए समझौते के तहत राजद को चार सीटें दी गई हैं।

see more..
मोदी से महाकुंभ के लिये त्रिवेंद्र ने मांगी आर्थिक मदद

मोदी से महाकुंभ के लिये त्रिवेंद्र ने मांगी आर्थिक मदद

18 Jan 2020 | 6:55 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की और वर्ष 2021 में हरिद्वार में होने वाले महाकुंभ मेले, चारधाम देवस्थानम् बोर्ड, आलवेदर रोड तथा ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन जैसी महत्वपूर्ण योजनाओं की प्रगति के संबंध में जानकारी दी।

see more..
image