Saturday, Jan 18 2020 | Time 20:54 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • प्रीमियर बैडमिंटन लीग के पांचवें सीजन का चेन्नई में आगाज
  • प्रीमियर बैडमिंटन लीग के पांचवें सीजन का चेन्नई में आगाज
  • ममता सरकार को आयुष्मान योजना पर करना चाहिए विचार: धनखड़
  • मोदी,सोनिया,नड्डा ने चोपड़ा के निधन पर जताया शोक
  • ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप
  • ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप
  • चंद्रबाबू ने तेदेपा संस्थापक रामा राव को दी श्रद्धांजलि
  • तटरक्षक दल ने डूबती नौका तथा पांच मछुआरों को बचाया
  • प्रज्ञा को जहरीला पत्र भेजने वाला डॉक्टर हिरासत में
  • गुजरात में शीतलहर जारी, नलिया 3 8 डिग्री के साथ सबसे ठंडा
  • सिद्दारमैया ने बाढ़, मंगलुरु फायरिंग पर शाह को घेरा
  • दिल्ली विस के पूर्व अध्यक्ष कांग्रेस नेता योगानंद शास्त्री का पार्टी से इस्तीफा
  • गरीबों के लिए समर्पित है झारखंड सरकार : हेमंत
  • शबाना सड़क दुर्घटना में घायल, अस्पताल में भर्ती
भारत


चिदम्बरम की जमानत याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में फैसला सुरक्षित

नई दिल्ली, 28 नवंबर (वार्ता) उच्चतम न्यायालय ने आईएनएक्स मीडिया से जुड़े धनशोधन मामले में तिहाड़ जेल में बंद पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिंदबरम की जमानत याचिका पर गुरुवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया।
न्यायमूर्ति आर भानुमति, न्यायमूर्ति ए एस बोपन्ना और न्यायमूर्ति हृषिकेश रॉय की पीठ ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया।
अदालत ने ईडी से अब तक की जांच रिपोर्ट सीलबंद लिफाफे में मांगी।
ईडी ने श्री चिदंबरम की जमानत याचिका का विरोध करते हुए दावा किया कि वह जेल में रहते हुए भी मामले के अहम गवाहों को प्रभावित कर रहे हैं। श्री मेहता ने कहा कि आर्थिक अपराध गंभीर प्रकृति के होते हैं क्योंकि वे न सिर्फ देश की अर्थव्यवस्था को प्रभावित करते हैं, बल्कि व्यवस्था में लोगों के यकीन को भी ठेस पहुंचाते हैं।
उन्होंने कहा कि जांच के दौरान ईडी को बैंक के 12 ऐसे खातों के बारे में पता चला जिनमें अपराध से जुटाया गया धन जमा किया गया। एजेंसी के पास अलग-अलग देशों में खरीदी गयी 12 संपत्तियों के ब्यौरे भी हैं।
उन्होंने कहा कि जेल में अभियुक्तों की समयावधि को जमानत मंजूर करने का आधार नहीं बनना चाहिए।
श्री चिदम्बरम की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने कल दिन भर बहस की थी, उसके बाद श्री मेहता ने आज दलीलें पूरी की।
श्री चिदम्बरम ने दिल्ली उच्च न्यायालय द्वारा 15 नवंबर को जमानत याचिका खारिज किए जाने के खिलाफ शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया है।
इससे पहले श्री सिब्बल ने अपनी दलील में कहा था कि रिमांड अर्जी में ईडी ने आरोप लगाया है कि श्री चिंदबरम गवाहों को प्रभावित करने की कोशिश कर रहे थे, जबकि वह तो ईडी की हिरासत में थे। पूर्व केंद्रीय मंत्री श्री चिदंबरम की इसलिए जमानत मंजूर नहीं की गयी जैसे वह रंगा-बिल्ला हों।
उन्होंने कहा था, “ क्या ईडी अधिकारी यह कहना चाहते हैं कि ईडी के दफ्तर में जहाँ फोन भी उपलब्ध नहीं था, वहां से मैं गवाहों को प्रभावित कर रहा था।”
श्री सिब्बल ने दिल्ली उच्च न्यायालय के फैसले पर सवाल उठाते हुए कहा था कि उच्च न्यायालय ने ईडी की तीनों बड़ी दलीलें (सबूतों के साथ छेड़छाड़ की आशंका, फ्लाइट रिस्क, गवाहों को प्रभावित करने की संभावना) को ठुकरा दिया। इसके बावजूद सिर्फ यह कहते हुए जमानत मंजूर करने से इन्कार कर दिया कि श्री चिंदबरम गवाहों को प्रभावित कर सकते है। उन्हें इस घोटाले का सरगना साबित कर दिया गया, जबकि उनसे जुड़ा कोई दस्तावेज नहीं है।
सुरेश.श्रवण
वार्ता.
More News
दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस-राजद का समझौता

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस-राजद का समझौता

18 Jan 2020 | 7:07 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) दिल्ली विधानसभा का चुनाव मिलकर लड़ेगी। दोनों दलों के बीच हुए समझौते के तहत राजद को चार सीटें दी गई हैं।

see more..
मोदी से महाकुंभ के लिये त्रिवेंद्र ने मांगी आर्थिक मदद

मोदी से महाकुंभ के लिये त्रिवेंद्र ने मांगी आर्थिक मदद

18 Jan 2020 | 6:55 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की और वर्ष 2021 में हरिद्वार में होने वाले महाकुंभ मेले, चारधाम देवस्थानम् बोर्ड, आलवेदर रोड तथा ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन जैसी महत्वपूर्ण योजनाओं की प्रगति के संबंध में जानकारी दी।

see more..
image