Saturday, Jan 18 2020 | Time 19:45 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • गरीबों के लिए समर्पित है झारखंड सरकार : हेमंत
  • शबाना सड़क दुर्घटना में घायल, अस्पताल में भर्ती
  • झारखंड में 139 कैदी होंगे रिहा
  • राजधानी भोपाल में ‘सीवियर कोल्ड डे’ सहित मध्यप्रदेश के आठ शहरों में ‘कोल्ड डे’
  • सोमालिया में अल-शबाब के 16 आतंकवादी ढेर
  • गंगटा जंगल में लूटपाट कर रहे तीन अपराधी गिरफ्तार
  • आदर्श शास्त्री ने कांग्रेस का दामन थामा
  • ज़ी ने लांच किया भोजपुरी मूवी चैनल ज़ी बाइस्कोप
  • तृणमूल के लिए कब्र साबित होगा नंदीग्राम : घोष
  • नये चयनकर्ताओं की भर्ती के लिये बोर्ड ने मांगे आवेदन
  • नये चयनकर्ताओं की भर्ती के लिये बोर्ड ने मांगे आवेदन
  • कामेश्वर सिंह संस्कृत विवि का अगले वित्त वर्ष का पांच अरब से अधिक का बजट
  • जरीफ ने यूक्रेन विमान हादसे के राजनीतिकरण के प्रयास के खिलाफ दी चेतावनी
  • केजरीवाल करोड़ों लेकर विस टिकट बेच रहे हैं:शास्त्री
  • राजद्रोह के मामले में हार्दिक पटेल के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी
भारत


अधिकांश युवा देश में पुरूष और महिलाओं के लिए समान अधिकार के पक्षधर

नयी दिल्ली 28 नवंबर (वार्ता) देश के अधिकांश युवाओं ने लैंगिक समानता की वकालत करते हुये महिला और पुरूषों को समान अधिकार दिये जाने के पक्षधर है।
इस संबंध में अक्षरा सेंटर द्वारा ‘बिग स्मॉल स्टेप्स’ शीर्षक से जारी एक सर्वेक्षण रिपोर्ट में यह खुलासा हुआ है। इस सर्वेक्षण में 15 से 29 आयु वर्ग के 6428 युवाओं ने भाग लिया जिसमें देश के आठ राज्यों के 3364 युवक और 3064 युवतियां शामिल थीं। इसमें मुंबई, दिल्ली, चेन्नई और कोलकाता के साथ विजयवाड़ा, लुधियाना, अहमदाबाद और भुवनेश्वर को भी शामिल किया गया था।
इसमें शामिल युवाओं में से 79.2 फीसदी युवकों और 87.4 फीसदी युवतियों ने पुरुषों और महिलाओं को समान अधिकार दिये जाने की वकालत की। अधिकांश युवा सामाजिक रूप से प्रगतिशील थे और उन्होंने पारंपरिक विचारों और सामाजिक मानदंडों को उचित नहीं मानते हैं। इसमें शामिल 58.7 फीसदी युवक और 78.7 फीसदी युवतियों ने धर्मस्थलों के गर्भगृह में महिलाओं के प्रवेश की अनुमति नहीं देने वाली सामाजिक वर्जना से असहमत थे। वे इस बात से भी सहमत नहीं थे कि माहवारी के दौरान महिलाओं को घर में खाना नहीं बनाना चाहिए।
इसमें शामिल 48.8 फीसदी युवकों का मानना है कि माता-पिता का अंतिम संस्कार बेटे द्वारा किया जाना चाहिए जबकि 31.3 फीसदी युवतियां इससे सहमत दिखी। महिलाओं के प्रति होने वाली घरेलू हिंसा को युवाओं ने सिरे से खारिज किया। हालांकि 42.6 फीसदी युवाओं ने कहा कि अगर हिंसा होती है तो महिलाओं को परिवार को एक साथ रखने के लिए इसे सहन करना चाहिए।
शेखर
वार्ता
More News
दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस-राजद का समझौता

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस-राजद का समझौता

18 Jan 2020 | 7:07 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) दिल्ली विधानसभा का चुनाव मिलकर लड़ेगी। दोनों दलों के बीच हुए समझौते के तहत राजद को चार सीटें दी गई हैं।

see more..
मोदी से महाकुंभ के लिये त्रिवेंद्र ने मांगी आर्थिक मदद

मोदी से महाकुंभ के लिये त्रिवेंद्र ने मांगी आर्थिक मदद

18 Jan 2020 | 6:55 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शनिवार को यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की और वर्ष 2021 में हरिद्वार में होने वाले महाकुंभ मेले, चारधाम देवस्थानम् बोर्ड, आलवेदर रोड तथा ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन जैसी महत्वपूर्ण योजनाओं की प्रगति के संबंध में जानकारी दी।

see more..
मोदी ने चोपड़ा के निधन पर शोक व्यक्त किया

मोदी ने चोपड़ा के निधन पर शोक व्यक्त किया

18 Jan 2020 | 5:25 PM

नयी दिल्ली, 18 जनवरी (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंजाब केसरी के सम्पादक एवं पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है।

see more..
image