Tuesday, Jan 28 2020 | Time 15:41 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चीन से भारतीय नागरिकों को बाहर निकालेगी सरकार
  • राष्ट्रीय सिख संगत ने कहा शिअद का सीएए का विरोध करना उचित नहीं
  • सोना 100 रुपये सस्ता, चाँदी महँगी
  • बच्चों को तनाव से राहत दिलाने वाला ऐप
  • ईरान में बस पलटने से 10 मरे, 18 घायल
  • छत्तीसगढ़ में पंचायत चुनावों के पहले चरण का मतदान सम्पन्न
  • भारी बटुआ युवकों को बना रहा है बीमारी का शिकार
  • निर्भया: मुकेश की याचिका पर फैसला सुरक्षित, बुधवार को आयेगा फैसला
  • इतिहास बनाने उतरेगी टीम इंडिया
  • वी उमाशंकर को मिला अतिरिक्त प्रभार
  • हरियाणा मंत्रिमंडल की बैठक 31 जनवरी को दिल्ली में
  • सुख-दुख के साथी थे अब्दुल गफूर : लालू
भारत


राजनाथ, जयशंकर 18 दिसंबर को जाएंगे वाशिंगटन

नयी दिल्ली 12 दिसंबर (वार्ता) रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और विदेश मंत्री एस. जयशंकर 18 दिसंबर को होने वाली दूसरी भारत-अमेरिका ‘दो प्लस दो’ वार्ता में भाग लेने के लिए वाशिंगटन जाएंगे।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने यहां नियमित ब्रीफिंग में बताया कि दूसरी भारत-अमेरिका ‘दो प्लस दो’ वार्ता में श्री सिंह और डॉ. जयशंकर भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। वे अमेरिकी विदेश मंत्री एवं रक्षा मंत्री से मिलेंगे और भारत-अमेरिका के बीच रक्षा एवं सुरक्षा से जुड़े मुद्दों तथा अपनी-अपनी विदेशी नीति में एक-दूसरे से संबंधित नीतियों की व्यापक समीक्षा करेंगे।
प्रवक्ता ने कहा कि इसके अलावा दोनों पक्ष प्रमुख क्षेत्रीय एवं वैश्विक मुद्दों पर भी विचार-विमर्श करेंगे।
भारत-अमेरिका ‘दो प्लस दो’ वार्ता की शुरुआत सितंबर 2018 में हुई थी ताकि दोनों देशों के बीच रणनीतिक साझेदारी को एक सकारात्मक एवं भविष्योन्मुखी दृष्टिकोण तथा हमारे कूटनीतिक एवं सुरक्षा संबंधी प्रयासों को नयी समन्वित ऊर्जा प्रदान की जा सके। पहली बैठक नयी दिल्ली में हुई थी जिसमें भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज और रक्षा मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने किया था।
सचिन अजीत
वार्ता
More News
कुप्रबंधन से बढी आर्थिक बदहाली का बजट में जवाब दे सरकार: कांग्रेस

कुप्रबंधन से बढी आर्थिक बदहाली का बजट में जवाब दे सरकार: कांग्रेस

28 Jan 2020 | 2:22 PM

नयी दिल्ली, 27 जनवरी (वार्ता) कांग्रेस ने कहा है कि सरकार के आर्थिक कुप्रबंधन के कारण देश में हर व्यक्ति पर बढे कर्ज का बोझ घटाने और जीडीपी, औद्योगिक उत्पादन, आयात, निर्यात, निवेश, खपत जैसे कई क्षेत्रों में गिरावट रोकने के उपायों का बजट में विस्तार से जवाब दिया जाना चाहिए।

see more..
image