Wednesday, Oct 16 2019 | Time 22:29 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • सायना और श्रीकांत पहले दौर में बाहर, समीर प्रीक्वार्टर में
  • कांग्रेस के कर्नाटक से रास सदस्य राममूर्ति का इस्तीफा
  • बेंगलुरु को चित कर दिल्ली पहली बार फाइनल में
  • संसद का शीतकालीन सत्र 18 नवम्बर से शुरू होने की संभावना
  • उप्र में त्यौहारों के मद्देनजर 30 नवम्बर तक अधिकारियों का अवकाश नहीं हो स्वीकृत
  • जालौन:ट्रक ने मारी बाइक को टक्कर , दो की मौत एक घायल
  • बिहार में नहरों, तटबंधों और जलाशयों की ड्रोन से होगी निगरानी
  • झारखंड विधानसभा चुनाव में 21 सीटों पर प्रत्याशी खड़े करेगा फॉरवर्ड ब्लॉक
  • बिहार में युवती की सिर कटी लाश समेत छह शव बरामद
  • फोटो कैप्शन: दूसरा सेट
  • भारत को महान देश बनाने में महाराष्ट्र का बहुत बड़ा योगदान: मोदी
  • सेल्फी लेने के चक्कर में पार्वती नदी में गिरीं दो लड़कियां, एक लापता
  • शाओमी ने नोट 8 सीरीज के फोन लांच किये
  • जस्टिस मिश्रा को सुनवाई से अलग करने की अर्जी पर बुधवार को फैसला
राज्य » जम्मू-कश्मीर


राष्ट्रीय पेंशन योजना को स्पष्ट करे सरकार:डीएमईएफ

श्रीनगर 12 जुलाई (वार्ता) जम्मू कश्मीर में दरबार मूव इम्प्लाइज फेडरेशन (डीएमईएफ) ने शुक्रवार को राज्य सरकार से कहा है कि वह राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) पर अपना रूख स्पष्ट करे।
महासंघ के मुख्य प्रवक्ता ने शुक्रवार को एक बयान में यह बात कही।
डीएमईएफ के एनपीएस विशेष प्रकोष्ठ के अध्यक्ष मोहम्मद अमीन किलो की अध्यक्षता में आज एक बैठक हुई। बैठक में
राज्य सरकार से केंद्र सरकार की अपनाई गई सरकारी हिस्सेदारी को 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 14 प्रतिशत करने के लिए कहा गया।
श्री किलाे ने कहा राज्य सरकार की ओर से कम अंशदान युवा कर्मचारियों के साथ अन्याय है जिनकी अच्छी योग्यता है और और सश्रम चयन प्रक्रिया के बाद सरकारी विभागों में उनकों नियुक्त किया गया है।
उन्होंने कहा बैठक के दौरान यह एक विडंबना है कि जो कर्मचारी एनपीएस शेयर को वापस लेना चाहते हैं,। वे अपने व्यक्तिगत जीवन में कुछ विशिष्ट परिश्रम के कारण पेंशन में योगदान दिया वही वापस लेने में सक्षम नहीं हैं।
डीएमईएफ के प्रदेश अध्यक्ष ओवेसी वानी ने राज्यपाल, मुख्य सचिव को व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप करने की अपील की ताकि कर्मचारियों की इस शिकायत को जल्द से जल्द हल किया जा सके। ताकि कर्मचारी अपने अधिकारों के लिए लड़ने के लिए सड़कों पर उतरने के लिए मजबूर न हों।
उप्रेती टंडन
वार्ता
More News
कश्मीर में 70 दिनों के बाद पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवा बहाल

कश्मीर में 70 दिनों के बाद पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवा बहाल

14 Oct 2019 | 5:34 PM

श्रीनगर, 14 अक्टूबर (वार्ता) जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को हटाने और राज्य को दो केन्द्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने संबंधी केन्द्र सरकार के निर्णय के 10 सप्ताह बाद पोस्टपेड मोबाइल फोन सेवाएं सोमवार को बहाल कर दी गयीं।

see more..
image