Tuesday, Jun 18 2024 | Time 04:56 Hrs(IST)
image
राज्य » जम्मू-कश्मीर


बारामूला में शाम पांच बजे तक रिकॉर्ड 55 फीसदी मतदान

बारामूला/सोपोर/कुपवाड़ा, 20 मई (वार्ता) जम्मू - कश्मीर का बारामूला लोकसभा क्षेत्र में सोमवार को शाम पांच बजे तक 55 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का उपयोग किया, जो 1989 के बाद से सबसे अधिक है।
बारामूला निर्वाचन क्षेत्र में नेशनल कॉन्फ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला, अलगाववादी से मुख्यधारा के नेता बने एवं पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष सज्जाद लोन और जेल में बंद नेता अब्दुल रशीद शेख ( जिन्हें इंजीनियर रशीद के नाम से जाना जाता है) के बीच कड़ा मुकाबला है।
बारामूला निर्वाचन क्षेत्र सुबह सात बजे शुरू हुआ और मतदाताओं की लंबी कतारें देखने को मिलीं।
वर्ष 1996 में जब विद्रोह की शुरुआत के बाद पहला चुनाव हुआ था, तब बारामूला लोकसभा चुनाव में 46.7 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। वहीं, 2019 के लोकसभा चुनाव में यह 38.9 प्रतिशत, 2014 में 39.1प्रतिशत, 2009 में 41.8 प्रतिशत, 2004 में 35.5 प्रतिशत, 1999 में 27.8 प्रतिशत और 1998 में 41.94 प्रतिशत रहा था। वर्ष 1984 में आतंकवाद-पूर्व युग में, बारामूला संसदीय क्षेत्र में 61.1 फीसदी वोटिंग दर्ज की गई थी।
यहां तक कि पहले अलगाववादियों के गढ़ रहे बारामूला और सोपोर कस्बों जैसे क्षेत्रों में भी मतदान में काफी वृद्धि हुई। सोपोर शहर में एक मतदान केंद्र के बाहर एक मतदाता तारिक अहमद ने कहा, “अतीत में मैंने कभी वोट नहीं दिया। मेरा मानना है कि बहिष्कार ने हमें शक्तिहीन कर दिया है और मैं जमीन तथा नौकरियां सुरक्षित करने के लिए मतदान कर रहा हूं।''
सोपोर गवर्नमेंट डिग्री कॉलेज के अंदर बने पांच मतदान केंद्रों पर शाम साढ़े चार बजे तक 4222 वोटों में से 1328 वोट पड़े। वहीं, बारामूला शहर में जावेद अहमद ने कहा कि उन्होंने अपनी इच्छा से मतदान किया। उन्होंने कहा, “पिछले तीन दशकों में मैंने कभी किसी पार्टी को वोट नहीं दिया, लेकिन आज मैं अपनी इच्छा से वोट देने आया हूं।” पीपुल्स कांफ्रेंस उम्मीदवार सज्जाद लोन के पैतृक शहर हंदवाड़ा में माहौल उत्साहित था। हंदवाड़ा के एक मतदान केंद्र पर एक महिला मतदाता खालिदा ने कहा, “हमने 2002 के चुनावों में मतदान किया था और इसके लिए हमारे साथ दुर्व्यवहार किया गया, लेकिन अब लगभग दो दशकों के बाद हर कोई पूरे कश्मीर में मतदान कर रहा है।''
कुपवाड़ा के त्रेहगाम क्षेत्र में (जो प्रतिबंधित जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के संस्थापक मोहम्मद मकबूल भट का जन्मस्थान है)लोग अच्छी संख्या में मतदान करने के लिए बाहर आए। एक सेवानिवृत्त प्रिंसिपल मोहम्मद अशरफ मीर ने कहा कि बड़ी संख्या में लोग मतदान के लिए आए। उन्होंने कहा, ''यहां के लोग अब वोट की ताकत को समझ गए हैं।'' त्रेहगाम स्कूल के चार मतदान केंद्रों पर दोपहर तक 3735 वोटों में से 1023 वोट पड़ चुके थे।
अधिकारियों ने कहा कि 2,103 मतदान केंद्रों में से किसी से भी किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है।
संतोष अशोक
वार्ता
More News
श्रीनगर की जामिया मस्जिद में ईद की नमाज की इजाजत नहीं, मीरवाइज नजरबंद'

श्रीनगर की जामिया मस्जिद में ईद की नमाज की इजाजत नहीं, मीरवाइज नजरबंद'

17 Jun 2024 | 2:37 PM

श्रीनगर, 17 जून (वार्ता) प्रशासन ने सोमवार को यहां ऐतिहासिक जामिया मस्जिद में सामूहिक ईद की नमाज़ पढ़ने की अनुमति नहीं दी और हुर्रियत नेता मीरवाइज उमर फारूक को भी ‘घर में नज़रबंद’ कर दिया।

see more..
बांदीपोरा में सुरक्षाबलों की आतंकवादियों से मुठभेड़ जारी

बांदीपोरा में सुरक्षाबलों की आतंकवादियों से मुठभेड़ जारी

17 Jun 2024 | 10:35 AM

श्रीनगर 17 जून (वार्ता) जम्मू कश्मीर में बांदीपोरा जिले में आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच रविवार देर रात मुठभेड़ हुई जो अभी जारी है।

see more..
उपराज्यपाल ने ईद-उल-जुहा पर लोगों को बधाई दी

उपराज्यपाल ने ईद-उल-जुहा पर लोगों को बधाई दी

16 Jun 2024 | 11:03 PM

श्रीनगर 16 जून (वार्ता) केन्द्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने ईद-उल-जुहा की पूर्व संध्या पर लोगों को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी हैं।

see more..
image