Thursday, Jan 24 2019 | Time 16:03 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • चंदा के खिलाफ सीबीआई ने किया मुकदमा दर्ज, चार जगह छापे
  • असम के तीन व्याख्याता सड़क हादसे के शिकार
  • शोपियां में दूसरे दिन भी रहा जनजीवन प्रभावित
  • सिंधू और श्रीकांत क्वार्टरफाइनल में
  • बॉलीवुड अभिनेता यशपाल शर्मा बनाएंगे कवि पं0 लख्मी चंद की बायोपिक
  • राजकोट में पुलिस ने किये दो फर्जी डॉक्टर गिरफ्तार
  • गैस सिलेंडर विस्फोट से पांच झुलसे
  • 27वां कन्वर्जेंस इंडिया एक्सपो 29जनवरी से दिल्ली में
  • कांग्रेस विधायक आनंद सिंह को नेत्र अस्पताल में कराया गया भर्ती
  • ओसाका और क्वितोवा में होगा खिताबी मुकाबला
  • आतंकियों से लौहा लेने वाले कश्मीर के लांस नायक वानी को अशोक चक्र
  • सरगोधा में पोलियो का ड्राप पिलाने गई दो महिलाओं को ताले में किया बंद
  • मतपत्रों से चुनाव कराना संभव नहीं है: चुनाव आयोग
  • कांग्रेस के प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं गौर
लोकरुचि Share

48 वर्ष की हुयी इलू इलू गर्ल मनीषा

मुंबई 16 अगस्त (वार्ता) बॉलीवुड की इलू इलू गर्ल मनीषा कोईराला आज 48 वर्ष की हो गयी । मनीषा का नाम हिंदी फिल्म जगत में एक ऐसी अभिनेत्री के रूप में लिया जाता है जिन्होंने अपनी दिलकश अदाओं से 90 के दशक में दर्शको के दिल में खास पहचान बनायी।
नेपाल के काठमांडू में 16 अगस्त 1970 को जन्मी मनीषा के दादा विशेश्वर प्रसाद कोइराला के दादा नेपाल के प्रधानमंत्री रह चुके है। मनीषा ने अपने सिने करियर की शुरूआत वर्ष 1989 में प्रदर्शित नेपाली फिल्म ..फेरी भेटुला..से की । इस फिल्म में मनीषा ने छोटी सी भूमिका निभायी थी। वर्ष 1991 में प्रदर्शित फिल्म सौदागर से मनीषा ने बतौर अभिनेत्री बॉलीवुड में पर्दापण किया। सुभाष घई निर्मित-निदेशित सौदागर में मनीषा के अपोजिट विवेक मुश्रान थे जो उनकी भी पहली फिल्म थी। इस फिल्म में मनीषा और विवेक पर इलू इलू गीत फिल्माया गया था। फिल्म का यह गीत श्रोताओं के बीच काफी लोकप्रिय हुआ था। फिल्म और गीत की सफलता के बाद मनीषा इंडस्ट्री में इलू इलू गर्ल के रूप में मशहूर हो गयी।
वर्ष 1994 में मनीषा को विदु विनोद चोपड़ा की फिल्म 1942 ए लव स्टोरी में काम करने का अवसर मिला। इस फिल्म में उनके अपोजिट अनिल कपूर थे। देशभक्ति की भावना से परिपूर्ण इस फिल्म में मनीषा ने अपने दमदार अभिनय से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस फिल्म के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार से नामांकित की गयी ।
वर्ष 1995 में प्रदर्शित फिल्म बांबे मनीषा के करियर की महत्वपूर्ण फिल्मों में शुमार की जाती है। मणिरत्नम के निर्देशन में बनी इस फिल्म में अपने दमदार अभिनय के लिये मनीषा सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर क्रिटिक्स पुरस्कार से सम्मानित की गयी। यह फिल्म तमिल में भी बनायी गयी थी जिसके लिये उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया। वर्ष 1996 में प्रदर्शित फिल्म खामोशी मनीषा के करियर की एक और उल्लेखनीय फिल्म साबित हुयी। संजय लीला भंसाली के निर्देशन में बनी इस फिल्म के लिये मनीषा को एक बार फिर से सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का फिल्म फेयर क्रिटिक्स पुरस्कार दिया गया।
वर्ष 1998 में मनीषा को एक बार फिर से मणिरत्नम के साथ दिल से में काम करने का अवसर मिला। इस फिल्म में मनीषा का किरदार ग्रे शेड्स लिये हुये थे । ‘ दिल से ’ के लिये वह सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के फिल्म फेयर पुरस्कार के लिये नामांकित की गयी। मनीषा ने अपने सिने करियर में बॉलीवुड के तमाम सुपरस्टार शाहरूख खान, आमिर खान , सलमान खान के साथ काम किया है। मनीषा ने इस वर्ष प्रदर्शित फिल्म संजू में काम किया है। फिल्म में मनीषा ने संजय दत्त की मां नरगिस दत्त का किरदार निभाया है।
प्रेम टंडन
वार्ता
More News

अनिल और माधुरी ने किये खतरनाक स्टंट

20 Jan 2019 | 12:02 PM

 Sharesee more..
वर्ष का पहला खग्रास चंद्रग्रहण 21 जनवरी

वर्ष का पहला खग्रास चंद्रग्रहण 21 जनवरी

19 Jan 2019 | 8:54 PM

मुक्तसर , 19 जनवरी (वार्ता )इस वर्ष का पहला खग्रास चंन्द्रग्रहण पौष पूर्णिमा को 21 जनवरी सोमवार को प्रात: 9: 04 बजे से दोपहर 12:21 बजे तक दिखाई देगा।

 Sharesee more..
फिल्म ‘कलंक’ में दिखेगी चंदेरी की झलक

फिल्म ‘कलंक’ में दिखेगी चंदेरी की झलक

17 Jan 2019 | 10:22 AM

अशोकनगर, 17 जनवरी (वार्ता) प्रसिद्ध बॉलीवुड अदाकारा सोनाक्षी सिन्हा और आलिया भट्ट अभिनीत फिल्म ‘कलंक’ में दर्शकों को मध्यप्रदेश के अशोकनगर जिले की ऐतिहासिक नगरी चंदेरी की झलक देखने को मिलेगी। बीते कुछ दिनों से चंदेरी में बॉलीवुड फिल्म कलंक की शूटिंग जारी है।

 Sharesee more..
असम, दार्जिलिंग की तरह चाय उत्पादन से बनेगी जशपुर की अलग पहचान

असम, दार्जिलिंग की तरह चाय उत्पादन से बनेगी जशपुर की अलग पहचान

16 Jan 2019 | 7:09 PM

पत्थलगांव, 16 जनवरी (वार्ता) छत्तीसगढ़ के जशपुर जिले की अनुकूल जलवायु के चलते यहां चाय उत्पादन का रकबा में लगातार वृद्धि हो रही है। असम और दार्जिलिंग की तरह जशपुर की चाय की भी अच्छी क्वालिटी होने से छत्तीसगढ़ सहित पड़ोस के झारखंड और उड़ीसा राज्य के लोगों को इस चाय का स्वाद खूब रास आ रहा है।

 Sharesee more..
image