Monday, Sep 24 2018 | Time 21:08 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पद्मा शुक्ला ने भाजपा के साथ धोखा किया - संजय पाठक
  • बिहार की सभी लोकसभा सीट जीतने के लिए मुहिम चलाएगी भाजपा
  • दागी उम्मीदवारों के चुनाव लड़ने से रोकने संबंधी याचिका पर मंगलवार को फैसला
  • केरल के पांच जिलों में भारी बारिश की अांशका, येलाे अलर्ट जारी
  • दो एरिया कमांडर समेत चार नक्सली गिरफ्तार
  • गुजरात के गिर वन में दो और शेरों की मौत, 13 दिनों में 13 शेराें की मौत
  • डालमिया के मेंटर और पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष दत्ता का निधन
  • दो एरिया कमांडर समेत चार नक्सली गिरफ्तार
  • वंसुधरा का सूखा प्रभावित जिलों पर कोई ध्यान नहीं-गहलोत
  • राजद सांसद के पेट्रोल पंपकर्मी से पांच लाख से अधिक की लूट
  • नौसैनिक अधिकारी अभिलाष टोमी को सुरक्षित निकाला गया
  • मोदी की राफेल पर चुप्पी का अर्थ है कि आरोप सही हैं: उम्मन चांडी
  • शहजाद से फिक्सिंग के लिए किया गया था संपर्क
  • उत्तराखंड विस मानसून सत्र 19 घण्टे 29 मिनट चला
  • पूर्वोत्तर के सर्वांगीण विकास को शीर्ष प्राथमिकता दे रहा है केंद्र: गडकरी
लोकरुचि Share

तीन स्थानीय साहसी युवकों ने बचायी 40 लोगों की जान

तीन स्थानीय साहसी युवकों ने बचायी 40 लोगों की जान

शिवपुरी, 16 अगस्त (वार्ता) मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले के सुल्तानगढ़ जलप्रपात क्षेत्र में बाढ़ के पानी में फसे लगभग चालीस पर्यटकों को देर रात में सुरक्षित बचाने वाले तीन बहादुर स्थानीय युवकों को लोग देवदूत के रूप में देखकर उनके अदम्य साहस की प्रशंसा करते हुए उन्हें दुआएं दे रहे हैं।

सुभाषपुरा थाना क्षेत्र में स्थित सुल्तानगढ़ जलप्रपात क्षेत्र में कल दिन में लगभग 45 पर्यटक बाढ़ के पानी में चट्टान पर फस गए थे। तत्काल शुरू किए गए राहत एवं बचाव कार्य के तहत लगभग छह नागरिकों को हेलीकॉप्टर की मदद से बचा लिया गया, लेकिन दिन डूबने के कारण अंधकार छा गया और हेलीकॉप्टर उड़ान भरने की स्थिति में नहीं था। इस विकट स्थिति में बाढ़ में फसे पर्यटकों के परिजन और बचाव कार्य में जुटे लोगों की चिंता और बढ़ गयी।

इन स्थितियों में बलराम बाथम, रामसेवक प्रजापति और निषाद खान नाम के तीन बहादुर युवक एवं स्थानीय तैराक पहुंचे और उन्होंने प्रशासनिक अधिकारियों के समक्ष मदद करने की पेशकश रखी। उन्होंने कहा कि रस्सियां आदि उपलब्ध करा दें और वे पानी में उतरकर पर्यटकों को बचाने का प्रयास करेंगे। प्रशासन की हां भरने पर तीनों युवक तत्काल रस्सियों की मदद से अंधेरे में तेज उफनती बरसाती नदी में उतरे और फसे हुए सैलानियों तक पहुंचे। इसके बाद तीनों ने एक एक करके रस्सियों की मदद से पर्यटकों को सुरक्षित किनारे पहुंचाया।

प्रशासनिक अधिकारियों ने बताया कि यह अभियान रात्रि में लगभग दो बजे तक चला। इस बीच बाढ़ में फसे सभी 45 लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया। इनमें से लगभग छह को हेलीकॉप्टर की मदद से और शेष को तीन युवकों की मदद से बचाया गया, जो अपनी जान जाेखिम में डालकर पानी में कूदे थे। ये युवक जलप्रपात और आसपास की भौगोलिक स्थिति से अच्छी तरह से वाकिफ हैं और वे बेहतर तैराक भी हैं। अब प्रशासन उन्हें हरसंभव मदद मुहैया कराने के लिए भी प्रयास कर रहा है। वहीं सुरक्षित बच निकले पर्यटक और उनके शुभचिंतक भी इन तीन युवकों को देवदूत के रूप में देखकर उनके प्रति कृतज्ञता व्यक्त कर रहे हैं।

इस बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इन तीन युवकों को पांच पांच लाख रूपए देने की घोषणा की है। इन युवकों का अदम्य साहस स्थानीय लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है।

सुल्तानगढ़ जलप्रपात क्षेत्र में पंद्रह अगस्त के दिन सैकड़ों लोग पिकनिक मनाने गए थे। लगातार बारिश के कारण जलप्रपात के आसपास बरसाती नदी में जलस्तर अचानक तेजी से बढ़ गया और लगभग पैंतालीस पर्यटक एक चट्टान पर फस गए। इसके अलावा लगभग एक दर्जन लोग जलप्रपात के पानी में बह गए हैं, जिनका लगभग 24 घंटे बाद भी पता नहीं चल सका है।

सं प्रशांत

वार्ता

More News
पितृऋण से मुक्त होने का अवसर देता है “ पितृपक्ष”

पितृऋण से मुक्त होने का अवसर देता है “ पितृपक्ष”

24 Sep 2018 | 3:54 PM

इलाहाबाद, 24 सितम्बर (वार्ता) हिंदू संस्कृति में मनुष्य पर माने गये सबसे बड़े ऋण “ पितृ ऋण’’ से मुक्त होने के लिए निर्धारित विशेष समयकाल “ पितृपक्ष ” की शुरूआत मंगलवार से हो रही है ।

 Sharesee more..
इटावा के जीवित हनुमान के हैं सब मुरीद

इटावा के जीवित हनुमान के हैं सब मुरीद

24 Sep 2018 | 2:47 PM

इटावा, 24 सिंतबर (वार्ता) पवनपुत्र यानि बंजरगबली के चमत्कार से हर कोई युगों युगों से वाकिफ है लेकिन उत्तर प्रदेश में इटावा के बीहडों में यमुना नदी के किनारे बसे बंजरगबली के मंदिर में जो प्रतिमा स्थापित हैं उससे जुड़े चमत्कार यहां आने वाले हर श्रद्धालु को अपना मुरीद बना लेती है।

 Sharesee more..
चंबल में वनाधिकारियों ने पहली बार देखा अजगर का लाइव शिकार

चंबल में वनाधिकारियों ने पहली बार देखा अजगर का लाइव शिकार

23 Sep 2018 | 1:08 PM

इटावा , 23 सिंतबर (वार्ता)। यूं तो अजगर के किसी भी जानवर को शिकार बनाने की तस्वीरें आतीं ही रहतीं है लेकिन जैसी तस्वीरें उत्तर प्रदेश के इटावा जिले में खूंखार डाकुओं की शरण स्थली के तौर पर पहचाने जाने वाले चंबल में इस बार सामने आई हैं ऐसी तस्वीरें यहां इससे पहले कभी भी देखी नहीं गई हैं ।

 Sharesee more..
तेइस को दिन और रात होंगे बराबर

तेइस को दिन और रात होंगे बराबर

21 Sep 2018 | 8:20 PM

उज्जैन, 21 सितंबर (वार्ता) प्रतिवर्षानुसार अागामी 23 सितंबर को दिन रात बराबर होंगे। इस खगोलीय घटना को मध्यप्रदेश के उज्जैन की प्राचीन वैधशाला में देखा जा सकेगा।

 Sharesee more..

पिता से प्रेरणा लेते हैं शाहिद कपूर

20 Sep 2018 | 3:07 PM

 Sharesee more..
image