Thursday, Feb 21 2019 | Time 11:04 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • ढाका में इमारत में आग, 70 की मौत
  • वेनेजुएला शक्तिशाली राष्ट्र बनेगा: मादुरो
  • डेमोक्रेटिक पार्टी के सांसद लाएंगे आपातकाल खत्म करने का प्रस्ताव
  • ट्रम्प ने लगायी आईएस में शामिल महिला के स्वदेश लौटने पर रोक
  • रामपुर में दो पक्षों के बीच मारपीट एवं फायरिंग में दो की मृत्यु,एक घायल
  • ढाका में इमारत में आग, 69 की मौत
  • उन्नाव में बस पलटने से दो बच्चों समेत छह की मृत्यु, 12 घायल
  • मोदी द्विपक्षीय वार्ता के लिए दक्षिण कोरिया पहुंचे
  • आज का इतिहास (प्रकाशनार्थ 22 फरवरी)
  • बंगलादेश: ढाका में इमारत में आग, 45 की मौत
  • किम जोंग के साथ और मुलाकातों की उम्मीद : ट्रम्प
  • इराक में घुसपैठ करने वाले आईएस के 24 आतंकवादी हिरासत में
  • तुर्की में सैन्य प्रशिक्षण के दौरान विस्फोट, पांच सैनिक घायल
  • पाकिस्तान ने राजौरी में संघर्ष विराम उल्लंघन कर की गोलीबारी
  • पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से कश्मीर में शांति बाधित : डीजीपी
लोकरुचि Share

बृजभूमि में रामानन्द जयंती समारोह में प्रवाहित हो रही है आराधना की त्रिवेणी

बृजभूमि में रामानन्द जयंती समारोह में प्रवाहित हो रही है आराधना की त्रिवेणी

मथुरा, 22 जनवरी (वार्ता)जहां पर कन्हैया ने गोपियों से मक्खन और दही दान लिया था उसी स्थान पर तीन लोक की न्यारी मथुरा नगरी में 14 जनवरी से शुरू हुये रामानन्द जयंती समारोह में राम, कृष्ण और भोलेनाथ की आराधना की त्रिवेणी प्रवाहित हो रही है।


    रामानन्द जयन्ती की अध्यक्षता कर रहे पं0 राकेश चतुर्वेदी ने बताया कि 14 जनवरी से प्रारंभ हुए रामानन्द जयंती समारोह में 23 जनवरी को सुन्दरकाण्ड का सस्वर पाठ होगा। 24 जनवरी को संत ब्राह्मण भंडारे से कार्यक्रम का समापन होगा।

    मथुरा नगरी को तीन लोक से न्यारी कहा जाता है क्योंकि जिस प्रकार से 16 कलाओं के अवतार श्रीकृष्ण ने यहां ऐसी ऐसी लीलाएं की जो अकल्पनीय ही नही हैं बल्कि जो सर्वथा एक दूसरे से भिन्न हैं। उसी प्रकार  उनके भक्त भी ऐसे ही आयोजन करते हैं जो अकल्पनीय हैं। गोवर्धन में आयोजित रामानन्द जयन्ती में यही भाव दिखाई पड़ रहा है।

जिस प्रकार प्रयागराज में कुंभ के अवसर पर देश विदेश से करोड़ों लोग आकर गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती की त्रिवेणी पर स्नान कर अपने अंतर्मन को प्रसन्न कर रहे हैं। उसी प्रकार गोवर्धन में रामानन्द आश्रम में आयोजित रामानन्द जयन्ती में राम, कृष्ण और भोलेनाथ की आराधना की जो त्रिवेणी प्रवाहित हो रही है वह श्रोताओं और दर्शकों के लिए मोक्ष के द्वार खोल रही है।

ब्रज की विभूति शंकरलाल चतुर्वेदी ने बताया कि ’’रामानन्दः स्वयं रामःप्रातुर्भूतो महीतले’’ अर्थात रामानन्द जी स्वयं भगवान राम थे। उनका जन्म आज से 715 वर्ष पहले प्रयागराज में हुआ था। इन्होने धर्म एवं भक्ति का प्रचार किया था। इन्होंने 12 शिष्यों को भी धर्म के प्रचार में लगाया था।

     उन्होंने बताया कि उस समय यवनों का बडा अत्याचार था। बगदाद से आया तैमूरलंग हिंदुओं पर अत्याचार कर रहा था। रामानन्दाचार्य ने बड़े शांतिपूर्ण तरीके से उसको अपनी नीति को परिवर्तित करने की प्रेरणा दी। उनके पास एक ऐसा दाक्षिणावर्ती शंख था जिसको बजाकर उन्होंने मुसलमानों की नमाज बंद कर दी। तैमूरलंग घबड़ा गया और कबीरदास के पास गया। कबीरदास ने कहा कि उन्होंने पानी में आग लगाई है।

      रामानन्दाचार्य तो बहुत शांति प्रिय हैं उनके पास जाओ और उनसे नमाज खोलने का अनुरोध करो। इसके बाद वह स्वामी जी के पास आया और अपनी भूल स्वीकार की तो रामानन्दाचार्य ने 12 शर्तों पर मुसलमानों की नमाज खोल दी। उन 12 शर्तों में जजिया कर की समाप्ति, हिंदुओं की लड़कियों को उठाकर न ले जाना, दूल्हा मस्जिद के सामने से घोड़े पर निकलेगा तो उसे रोका नहीं जाएगा आदि प्रमुख थीं। उनका कहना था जब कोई भक्त पूर्ण अन्तर्मन से भगवत आराधना में लीन हो जाता है और चतुर्दिक अपने आराध्य की कृपा का अनुभव करने लगता है तो भगवान स्वयं प्रकट होकर या परोक्ष रूप में अपनी शक्ति का कुछ भाग उसे इसलिए दे देते हैं कि लोगों के सामने यह आदर्श उपस्थित हो कि यदि भगवान को पाना चाहते हैं तो पूर्ण समर्पण जरूरी है।

    ब्रज की विभूति शंकरलाल चतुर्वेदी ने बताया कि रामानन्द आश्रम में मनाई जा रही इस जयन्ती में चतुर्वेदी रामलीला महासभा द्वारा रामलीला की जीवन्त प्रस्तुति से जहां वातावरण राममय हो रहा है वहीं राम केवट संवाद, सीताहरण, सीता के वियोग में राम का पशु पक्षियों, भौरों से सीता के बारे में पूछना जैसे प्रसंगों के भावमय प्रस्तुतीकरण से दर्शकों के नेत्र सजल हो रहे हैं। संगीतमय श्रीरामचरित मानस 108 नवान्ह पाठ से तो ऐसा लगता है कि भक्ति कार्यक्रमस्थल पर स्वयं नृत्य कर रही है।

    उन्होेंने बताया कि नित्य आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में कान्हा की लीलाओं का प्रस्तुतीकरण, श्रीकृष्ण जन्म पर भोलेनाथ का श्रीकृष्ण से मिलने के लिए जाना और मां यशोदा द्वारा उन्हें श्रीकृष्ण से मिलाने से इंकार करना, जैसे प्रसंग द्वापर का सा वातावरण प्रस्तुत कर रहे हैं। चूंकि यह कार्यक्रम गोवर्धन में दानघाटी मंदिर के निकट ही बड़ी परिक्रमा मार्ग पर हो रहे हैं इसलिए देश के कोने कोने से आने वाले तीर्थयात्री भी इनका आनन्द ले रहे हैं।

सं भंडारी

वार्ता

More News
राजधानी पटना में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त राकबैंड करेंगे परफाॅर्म

राजधानी पटना में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त राकबैंड करेंगे परफाॅर्म

12 Feb 2019 | 10:47 AM

पटना 12 फरवरी (वार्ता) राजधानी पटना में अंतर्राष्ट्रीय स्तर के रॉकबैंड पाटिलीपुत्रा ओपन एयर तले परफाॅर्म करने जा रहे हैं।

 Sharesee more..
आकर्षक तरीके से दे रही है टीकाकरण कराने संदेश

आकर्षक तरीके से दे रही है टीकाकरण कराने संदेश

12 Feb 2019 | 10:08 AM

बड़वानी, 12 फरवरी (वार्ता) मध्यप्रदेश के बड़वानी से कुछ दूर बड़वानी खुर्द की ए एन एम चंद्रलता सोलंकी निराले अंदाज में टीकाकरण का संदेश देकर आकर्षण का केंद्र बिंदु बनी हुई है।

 Sharesee more..
औरंगाबाद में देव सूर्य महोत्सव का आयोजन कल से

औरंगाबाद में देव सूर्य महोत्सव का आयोजन कल से

11 Feb 2019 | 4:44 PM

औरंगाबाद 11 फरवरी (वार्ता) बिहार में औरंगाबाद जिले के ऐतिहासिक पौराणिक और धार्मिक स्थल देव को पर्यटन के राष्ट्रीय मानचित्र पर सुस्थापित करने तथा देसी-विदेशी सैलानियों को आकर्षित करने के उद्देश्य से दो दिवसीय देव सूर्य महोत्सव का आयोजन कल से शुरू होगा।

 Sharesee more..
तितलियों ने चंबल घाटी में बिखेरी इंद्रधनुषी छटा

तितलियों ने चंबल घाटी में बिखेरी इंद्रधनुषी छटा

05 Feb 2019 | 4:43 PM

इटावा, 05 फरवरी (वार्ता) शहरीकरण की अंधाधुंध रफ्तार के बीच लगभग गायब हो चुकी रंग बिरंगी तितलियों ने चंबल घाटी को सतरंगी बना रखा है।

 Sharesee more..
image