Friday, Aug 23 2019 | Time 07:49 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मोदी-मेक्रों ने सीमा पार आतंकवाद को रोकने का अनुरोध किया
  • ट्रम्प ने जी-7 सम्मिट में आर्थिक मुद्दे पर बातचीत का अनुरोध किया
  • नाइजीरिया में सड़क हादसे में 17 की मौत
  • कश्मीर मामले पर तीसरे पक्ष को नहीं करनी चाहिए दखलंदाजी : मैक्रों
  • योगी कैबिनेट विस्तार के बाद मंत्रियों को उनका विभाग बांट दिया गया
  • सीमा पार आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में फ्रांस ने हमेशा साथ दिया : मोदी
  • पूर्वी कालिमैनटन में होगी इंडोनेशिया की नयी राजधानी
  • सिंधू-प्रणीत क्वार्टरफाइनल में, सायना,श्रीकांत और प्रणय हारे
  • योगी कैबिनेट विस्तार के बाद मंत्रियों को उनका विभाग बांट दिया गया
  • जोफ्रा के कहर से ऑस्ट्रेलिया 179 पर ढेर
  • पोलैंड में आकाशीय बिजली गिरने से 5 की मौत, कई घायल
  • तुषार वेलापल्ली जमानत पर रिहा
लोकरुचि


बृजभूमि में रामानन्द जयंती समारोह में प्रवाहित हो रही है आराधना की त्रिवेणी

बृजभूमि में रामानन्द जयंती समारोह में प्रवाहित हो रही है आराधना की त्रिवेणी

मथुरा, 22 जनवरी (वार्ता)जहां पर कन्हैया ने गोपियों से मक्खन और दही दान लिया था उसी स्थान पर तीन लोक की न्यारी मथुरा नगरी में 14 जनवरी से शुरू हुये रामानन्द जयंती समारोह में राम, कृष्ण और भोलेनाथ की आराधना की त्रिवेणी प्रवाहित हो रही है।


    रामानन्द जयन्ती की अध्यक्षता कर रहे पं0 राकेश चतुर्वेदी ने बताया कि 14 जनवरी से प्रारंभ हुए रामानन्द जयंती समारोह में 23 जनवरी को सुन्दरकाण्ड का सस्वर पाठ होगा। 24 जनवरी को संत ब्राह्मण भंडारे से कार्यक्रम का समापन होगा।

    मथुरा नगरी को तीन लोक से न्यारी कहा जाता है क्योंकि जिस प्रकार से 16 कलाओं के अवतार श्रीकृष्ण ने यहां ऐसी ऐसी लीलाएं की जो अकल्पनीय ही नही हैं बल्कि जो सर्वथा एक दूसरे से भिन्न हैं। उसी प्रकार  उनके भक्त भी ऐसे ही आयोजन करते हैं जो अकल्पनीय हैं। गोवर्धन में आयोजित रामानन्द जयन्ती में यही भाव दिखाई पड़ रहा है।

जिस प्रकार प्रयागराज में कुंभ के अवसर पर देश विदेश से करोड़ों लोग आकर गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती की त्रिवेणी पर स्नान कर अपने अंतर्मन को प्रसन्न कर रहे हैं। उसी प्रकार गोवर्धन में रामानन्द आश्रम में आयोजित रामानन्द जयन्ती में राम, कृष्ण और भोलेनाथ की आराधना की जो त्रिवेणी प्रवाहित हो रही है वह श्रोताओं और दर्शकों के लिए मोक्ष के द्वार खोल रही है।

ब्रज की विभूति शंकरलाल चतुर्वेदी ने बताया कि ’’रामानन्दः स्वयं रामःप्रातुर्भूतो महीतले’’ अर्थात रामानन्द जी स्वयं भगवान राम थे। उनका जन्म आज से 715 वर्ष पहले प्रयागराज में हुआ था। इन्होने धर्म एवं भक्ति का प्रचार किया था। इन्होंने 12 शिष्यों को भी धर्म के प्रचार में लगाया था।

     उन्होंने बताया कि उस समय यवनों का बडा अत्याचार था। बगदाद से आया तैमूरलंग हिंदुओं पर अत्याचार कर रहा था। रामानन्दाचार्य ने बड़े शांतिपूर्ण तरीके से उसको अपनी नीति को परिवर्तित करने की प्रेरणा दी। उनके पास एक ऐसा दाक्षिणावर्ती शंख था जिसको बजाकर उन्होंने मुसलमानों की नमाज बंद कर दी। तैमूरलंग घबड़ा गया और कबीरदास के पास गया। कबीरदास ने कहा कि उन्होंने पानी में आग लगाई है।

      रामानन्दाचार्य तो बहुत शांति प्रिय हैं उनके पास जाओ और उनसे नमाज खोलने का अनुरोध करो। इसके बाद वह स्वामी जी के पास आया और अपनी भूल स्वीकार की तो रामानन्दाचार्य ने 12 शर्तों पर मुसलमानों की नमाज खोल दी। उन 12 शर्तों में जजिया कर की समाप्ति, हिंदुओं की लड़कियों को उठाकर न ले जाना, दूल्हा मस्जिद के सामने से घोड़े पर निकलेगा तो उसे रोका नहीं जाएगा आदि प्रमुख थीं। उनका कहना था जब कोई भक्त पूर्ण अन्तर्मन से भगवत आराधना में लीन हो जाता है और चतुर्दिक अपने आराध्य की कृपा का अनुभव करने लगता है तो भगवान स्वयं प्रकट होकर या परोक्ष रूप में अपनी शक्ति का कुछ भाग उसे इसलिए दे देते हैं कि लोगों के सामने यह आदर्श उपस्थित हो कि यदि भगवान को पाना चाहते हैं तो पूर्ण समर्पण जरूरी है।

    ब्रज की विभूति शंकरलाल चतुर्वेदी ने बताया कि रामानन्द आश्रम में मनाई जा रही इस जयन्ती में चतुर्वेदी रामलीला महासभा द्वारा रामलीला की जीवन्त प्रस्तुति से जहां वातावरण राममय हो रहा है वहीं राम केवट संवाद, सीताहरण, सीता के वियोग में राम का पशु पक्षियों, भौरों से सीता के बारे में पूछना जैसे प्रसंगों के भावमय प्रस्तुतीकरण से दर्शकों के नेत्र सजल हो रहे हैं। संगीतमय श्रीरामचरित मानस 108 नवान्ह पाठ से तो ऐसा लगता है कि भक्ति कार्यक्रमस्थल पर स्वयं नृत्य कर रही है।

    उन्होेंने बताया कि नित्य आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में कान्हा की लीलाओं का प्रस्तुतीकरण, श्रीकृष्ण जन्म पर भोलेनाथ का श्रीकृष्ण से मिलने के लिए जाना और मां यशोदा द्वारा उन्हें श्रीकृष्ण से मिलाने से इंकार करना, जैसे प्रसंग द्वापर का सा वातावरण प्रस्तुत कर रहे हैं। चूंकि यह कार्यक्रम गोवर्धन में दानघाटी मंदिर के निकट ही बड़ी परिक्रमा मार्ग पर हो रहे हैं इसलिए देश के कोने कोने से आने वाले तीर्थयात्री भी इनका आनन्द ले रहे हैं।

सं भंडारी

वार्ता

More News
पुष्प तेजोमहल में दर्शन देंगे कान्हा

पुष्प तेजोमहल में दर्शन देंगे कान्हा

20 Aug 2019 | 6:43 PM

मथुरा, 20 अगस्त (वार्ता) श्रीकृष्ण जन्मस्थान के भागवत भवन में अनूठे तरीके से बनाए गए ‘पुष्प तेजोमहल’ में विराजमान होकर ठाकुर इस बार श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर भक्तेां को दर्शन देंगे।

see more..
जौनपुर में कजगांव का ऐतिहासिक कजली मेला मनाया गया

जौनपुर में कजगांव का ऐतिहासिक कजली मेला मनाया गया

20 Aug 2019 | 12:40 PM

जौनपुर , 20 अगस्त(वार्ता)उत्तर प्रदेश के जौनपुर में स्थित कजगांव और राजेपुर के कजरी का ऐतिहासिक मेला सोमवार को हर्षोल्लास से मनाया गया।

see more..
वृंदावन के चार मंदिरों में दिन में मनाया जाता है कृष्ण जन्मोत्सव

वृंदावन के चार मंदिरों में दिन में मनाया जाता है कृष्ण जन्मोत्सव

18 Aug 2019 | 4:55 PM

मथुरा, 18 अगस्त (वार्ता) देश के अन्य देव स्थानों की तरह ब्रज के अधिसंख्य मंदिरों में श्रीकृष्ण जन्माष्टमी रात में मनाई जाती है वहीं यशोदा भाव से सेवा होने के कारण वृन्दावन के चार मंदिरों में दिन में ही कान्हा का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस बार ब्रज में जन्माष्टमी 24 अगस्त को मनाई जाएगी।

see more..
एक करोड़ से ज्यादा भक्तों ने किए अती वरदार भगवान के दर्शन

एक करोड़ से ज्यादा भक्तों ने किए अती वरदार भगवान के दर्शन

17 Aug 2019 | 4:49 PM

चेन्नई, 17 अगस्त (वार्ता) चेन्नई के कांचीपुरम में चल रहे भगवान अती वरदार उत्सव के आख़िरी दिन पाँच लाख से भी ज्यादा श्रद्धालु शामिल हुए। यह त्योहार 40 सालों में एक बार 48 दिनों तक मनाया जाता है।

see more..
आजादी के आंदोलन में इटावा स्थित चंबल के डाकुओं ने भी दिखाया देशप्रेम

आजादी के आंदोलन में इटावा स्थित चंबल के डाकुओं ने भी दिखाया देशप्रेम

16 Aug 2019 | 9:53 AM

इटावा, 14 अगस्त (वार्ता) शौर्य, पराक्रम और स्वाभिमान की प्रतीक उत्तर प्रदेश में इटावा स्थित चंबल घाटी के डाकुओं के आंतक ने भले ही देश की कई सरकारों को हिलाया हो लेकिन यह बहुत ही कम लोग जानते है कि यहां के डाकुओं ने अग्रेंजी हुकूमत के दौरान आजादी के दीवानों की तरह अपनी देशप्रेमी छवि से देशवासियो के दिलों में ऐसी जगह बनाई कि हम उन्हें स्वतंत्रता दिवस के दिन याद किये बिना रह नही पाते है।

see more..
image