Tuesday, Apr 23 2019 | Time 23:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उमेश जाधव पर हमला करने वाली भीड़ पर लाठीचार्ज
  • एक ही परिवार के चार लोगों सहित छह नदी में डूबे
  • अनंतनाग में 62 फीसदी कश्मीरी पंडितों ने डाले वोट
  • गुजरात में 63 67 प्रतिशत से अधिक मतदान , मोदी, आडवाणी, शाह, जेटली ने भी की वोटिंग
  • अतीक अहमद के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश
  • पांडेय और वार्नर के अर्धशतक, हैदराबाद के 175
  • पांडेय और वार्नर के अर्धशतक, हैदराबाद के 175
  • भाजपा-एनडीए के पक्ष में प्रचंड लहर, फिर बनेगी मोदी सरकार: शाह
  • उप्र में छठे चरण के लिए नामांकन के अतिम दिन 141 पर्चे भरे, कुल नामांकन 332
  • मोदी ने आचार संहिता का उल्लंघन नहीं किया: आयोग
  • यमन में सेना, हाउतियों के बीच झड़प में कई मारे गये
  • बिहार में 60 फीसदी हुआ मतदान, शरद-पप्पू समेत 82 का भाग्य ईवीएम में बंद
  • हरियाणा में अंतिम दिन 163 नामांकन दाखिल, कुल नामांकन संख्या 305 हुई
  • युगांडा में भारी बारिश से 18 लोगों की मौत, 100 घायल
  • नामांकन के दूसरे दिन 15 नामांकन पत्र दाखिल
लोकरुचि


बृजभूमि में रामानन्द जयंती समारोह में प्रवाहित हो रही है आराधना की त्रिवेणी

बृजभूमि में रामानन्द जयंती समारोह में प्रवाहित हो रही है आराधना की त्रिवेणी

मथुरा, 22 जनवरी (वार्ता)जहां पर कन्हैया ने गोपियों से मक्खन और दही दान लिया था उसी स्थान पर तीन लोक की न्यारी मथुरा नगरी में 14 जनवरी से शुरू हुये रामानन्द जयंती समारोह में राम, कृष्ण और भोलेनाथ की आराधना की त्रिवेणी प्रवाहित हो रही है।


    रामानन्द जयन्ती की अध्यक्षता कर रहे पं0 राकेश चतुर्वेदी ने बताया कि 14 जनवरी से प्रारंभ हुए रामानन्द जयंती समारोह में 23 जनवरी को सुन्दरकाण्ड का सस्वर पाठ होगा। 24 जनवरी को संत ब्राह्मण भंडारे से कार्यक्रम का समापन होगा।

    मथुरा नगरी को तीन लोक से न्यारी कहा जाता है क्योंकि जिस प्रकार से 16 कलाओं के अवतार श्रीकृष्ण ने यहां ऐसी ऐसी लीलाएं की जो अकल्पनीय ही नही हैं बल्कि जो सर्वथा एक दूसरे से भिन्न हैं। उसी प्रकार  उनके भक्त भी ऐसे ही आयोजन करते हैं जो अकल्पनीय हैं। गोवर्धन में आयोजित रामानन्द जयन्ती में यही भाव दिखाई पड़ रहा है।

जिस प्रकार प्रयागराज में कुंभ के अवसर पर देश विदेश से करोड़ों लोग आकर गंगा, यमुना और अदृश्य सरस्वती की त्रिवेणी पर स्नान कर अपने अंतर्मन को प्रसन्न कर रहे हैं। उसी प्रकार गोवर्धन में रामानन्द आश्रम में आयोजित रामानन्द जयन्ती में राम, कृष्ण और भोलेनाथ की आराधना की जो त्रिवेणी प्रवाहित हो रही है वह श्रोताओं और दर्शकों के लिए मोक्ष के द्वार खोल रही है।

ब्रज की विभूति शंकरलाल चतुर्वेदी ने बताया कि ’’रामानन्दः स्वयं रामःप्रातुर्भूतो महीतले’’ अर्थात रामानन्द जी स्वयं भगवान राम थे। उनका जन्म आज से 715 वर्ष पहले प्रयागराज में हुआ था। इन्होने धर्म एवं भक्ति का प्रचार किया था। इन्होंने 12 शिष्यों को भी धर्म के प्रचार में लगाया था।

     उन्होंने बताया कि उस समय यवनों का बडा अत्याचार था। बगदाद से आया तैमूरलंग हिंदुओं पर अत्याचार कर रहा था। रामानन्दाचार्य ने बड़े शांतिपूर्ण तरीके से उसको अपनी नीति को परिवर्तित करने की प्रेरणा दी। उनके पास एक ऐसा दाक्षिणावर्ती शंख था जिसको बजाकर उन्होंने मुसलमानों की नमाज बंद कर दी। तैमूरलंग घबड़ा गया और कबीरदास के पास गया। कबीरदास ने कहा कि उन्होंने पानी में आग लगाई है।

      रामानन्दाचार्य तो बहुत शांति प्रिय हैं उनके पास जाओ और उनसे नमाज खोलने का अनुरोध करो। इसके बाद वह स्वामी जी के पास आया और अपनी भूल स्वीकार की तो रामानन्दाचार्य ने 12 शर्तों पर मुसलमानों की नमाज खोल दी। उन 12 शर्तों में जजिया कर की समाप्ति, हिंदुओं की लड़कियों को उठाकर न ले जाना, दूल्हा मस्जिद के सामने से घोड़े पर निकलेगा तो उसे रोका नहीं जाएगा आदि प्रमुख थीं। उनका कहना था जब कोई भक्त पूर्ण अन्तर्मन से भगवत आराधना में लीन हो जाता है और चतुर्दिक अपने आराध्य की कृपा का अनुभव करने लगता है तो भगवान स्वयं प्रकट होकर या परोक्ष रूप में अपनी शक्ति का कुछ भाग उसे इसलिए दे देते हैं कि लोगों के सामने यह आदर्श उपस्थित हो कि यदि भगवान को पाना चाहते हैं तो पूर्ण समर्पण जरूरी है।

    ब्रज की विभूति शंकरलाल चतुर्वेदी ने बताया कि रामानन्द आश्रम में मनाई जा रही इस जयन्ती में चतुर्वेदी रामलीला महासभा द्वारा रामलीला की जीवन्त प्रस्तुति से जहां वातावरण राममय हो रहा है वहीं राम केवट संवाद, सीताहरण, सीता के वियोग में राम का पशु पक्षियों, भौरों से सीता के बारे में पूछना जैसे प्रसंगों के भावमय प्रस्तुतीकरण से दर्शकों के नेत्र सजल हो रहे हैं। संगीतमय श्रीरामचरित मानस 108 नवान्ह पाठ से तो ऐसा लगता है कि भक्ति कार्यक्रमस्थल पर स्वयं नृत्य कर रही है।

    उन्होेंने बताया कि नित्य आयोजित सांस्कृतिक कार्यक्रम में कान्हा की लीलाओं का प्रस्तुतीकरण, श्रीकृष्ण जन्म पर भोलेनाथ का श्रीकृष्ण से मिलने के लिए जाना और मां यशोदा द्वारा उन्हें श्रीकृष्ण से मिलाने से इंकार करना, जैसे प्रसंग द्वापर का सा वातावरण प्रस्तुत कर रहे हैं। चूंकि यह कार्यक्रम गोवर्धन में दानघाटी मंदिर के निकट ही बड़ी परिक्रमा मार्ग पर हो रहे हैं इसलिए देश के कोने कोने से आने वाले तीर्थयात्री भी इनका आनन्द ले रहे हैं।

सं भंडारी

वार्ता

More News
विश्व प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा दल श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना

विश्व प्रसिद्ध 84 कोसी परिक्रमा दल श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना

22 Apr 2019 | 12:09 PM

बस्ती 22 अप्रैल (वार्ता)उत्तर प्रदेश में बस्ती के मखौड़ा धाम से 20 अप्रैल को शुरू हुये 84 कोसी परिक्रमा दल अपने तीसरे पड़ाव के लिए सोमवार तड़के हनुमान बाग चकोही से अयोध्या के श्रृंगी ऋषि आश्रम के लिए रवाना हो गया।

see more..
विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा पहुंची दूसरे पड़ाव पर

विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा पहुंची दूसरे पड़ाव पर

21 Apr 2019 | 12:47 PM

बस्ती 21 अप्रैल, (वार्ता) उत्तर प्रदेश में बस्ती के मखौड़ा धाम से शुरू हुए अयोध्या के विश्व प्रसिद्ध चौरासी कोसी परिक्रमा मे सामिल साधू, सन्त और धर्म प्रेमी प्रथम पड़ाव राम रेखा मंदिर छावनी से रविवार के भोर में धर्म ध्वजा फहराते भजन कीर्तन गाते हुए परिक्रमा के दूसरे पड़ाव हनुमान बाग चकोही के लिए रवाना हुये।

see more..
नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर बखिरा झील को नहीं मिल सका पर्यटन स्थल का रूतबा

नैसर्गिक सुंदरता से भरपूर बखिरा झील को नहीं मिल सका पर्यटन स्थल का रूतबा

19 Apr 2019 | 2:40 PM

संतकबीरनगर 19 अप्रैल (वार्ता) पर्यटन उद्योग की तमाम संभावनाओं को समेटे पूर्वी उत्तर प्रदेश में संतकबीरनगर जिले में स्थित बखिरा झील में प्रकृति ने चार चांद लगाये है लेकिन इसे पर्यटन केंद्र के रूप में विकसित करने के प्रयास किसी सरकार ने नहीं किये।

see more..
गीता प्रेस की पुस्तके अब आन लाइन उपलब्ध

गीता प्रेस की पुस्तके अब आन लाइन उपलब्ध

17 Apr 2019 | 12:33 PM

गोरखपुर 17 अप्रैल (वार्ता) विश्व में धार्मिक पुस्तकों के विख्यात प्रकाशक गीता प्रेस गोरखपुर की प्रमुख पुस्तकें अब आन लाइन उपलब्ध रहेगीं।

see more..
image