Tuesday, Jul 23 2019 | Time 20:57 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • उत्तर प्रदेश में अगले तीन दिन में भी कुछ जिलों में होगी भारी बारिश
  • जलवायु परिवर्तन पर लक्ष्य से बेहतर कर सकता है भारत : एल्बा
  • हिमाचल में भूकंप के हल्के झटके
  • जैसन, स्टोन आयरलैंड के खिलाफ करेंगे टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण
  • दिल्ली पुलिस ने कुंडली से बरामद की 50 किलो हेरोइन
  • वन प्रबंधन में स्थानीय लोगों की भागीदारी आवश्यक: कोविंद
  • ‘फेसबुक लाइव’ ने ली युवक की जान
  • मुझे लगा था कि मैं सीमित ओवरों में नहीं खेल पाऊंगा : प्लंकेट
  • हिमाचल में मानसून पड़ने लगा कमजोर, 39 प्रतिशत कम हुई बारिश
  • 27 प्रतिशत आरक्षण से पिछड़े वर्ग को उचित प्रतिनिधित्व और सम्मान मिलेगा: शोभा ओझा
  • नये भारत के निर्माण में मीडिया का सार्थक योगदान : लालजी
  • हरियाणा का राष्ट्रीय कोष में जीएसटी याेगदान लगभग पांच प्रतिशत
  • टीचर की छेड़छाड़ का विरोध करने पर छात्रा, उसके भाई को स्कूल से निकाला, मां-बाप को काम से
  • झांसी प्रशासन ने पॉलीथीन के खिलाफ अपनाया कड़ा रूख
  • दिव्यांगों की प्रतिभा से राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री हुए अभिभूत
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


कांग्रेस सरकार ने विश्वविद्यालय को राजनीति में घसीटने का कार्य किया - राकेश

भोपाल, 20 अप्रैल (वार्ता) राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा ने आज यहां आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य की कांग्रेस सरकार ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति बी के कुठियाला और शिक्षकों के विरुद्ध बिना जांच और अप्रमाणित आरोपों पर प्राथमिकी (एफआईआर) दर्ज कराने एवं प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान को राजनीति में घसीटने का कार्य किया है।
श्री सिन्हा यहां पत्रकारों से चर्चा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य की कांग्रेस सरकार ने तानाशाही मानसिकता से ग्रस्त होकर यह कदम उठाया है आैर शिक्षाविदों पर प्रतिशोध की भावना से कार्य किया है। उन्होंने स्पष्ट किया कि उनके ऊपर लग रहे सभी आरोप निराधार हैं और उन्होंने अपनी प्रतिनियुक्ति के दौरान उल्लेखित सभी शर्तों का पालन किया है।
उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार के कार्यकाल में विश्वविद्यालय प्रशासन के कदमों से राजनैतिक प्रतिशोध की गंध आ रही है। श्री सिन्हा ने नयी सरकार की ओर से विश्वविद्यालय के कार्यकलापों की जांच के लिए गठित की गयी जांच समिति पर भी सवाल उठाया और कहा कि इसके दो सदस्य सत्तारूढ़ दल कांग्रेस से जुड़े थे और निश्चित ही उन्होंने निष्पक्ष रिपोर्ट नहीं सौंपी होगी।
उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय से संबंधित मामलों के बारे में अवगत कराने के लिए आज यहां एक ज्ञापन भी राज्यपाल को सौंपा गया है।
विश्वविद्यालय की एक रिपोर्ट के आधार पर हाल ही में यहां आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ (ईओडब्ल्यू) ने तत्कालीन कुलपति बी के कुठियाला के अलावा एक दर्जन से अधिक शिक्षकों के खिलाफ धोखाधड़ी और अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। आरोप है कि कुलपति ने अपने पद का दुरूपयोग करते हुए नियम विरूद्ध कार्य किए और अनेक नियुक्तियां भी नियम को दरकिनार की गयीं। ये सभी मामले पिछले एक दशक के हैं।
व्यास
वार्ता
image