Sunday, Dec 8 2019 | Time 03:25 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • कर्नाटक में भूस्खलन, तीन श्रमिकों की मौत, एक घायल
  • फ्रांस में पुलिस ने 13 लोगों को हिरासत में लिया
  • चीन में ट्रक पलटने से सात की मौत, दो घायल
  • सर्विस मेंबर ने ईरान में तीन पुलिसकर्मिया की हत्या की
  • अमेरिका और तालिबान के बीच शांति वार्ता दोबारा शुरू
  • सेवानिवृत न्यायाधीश की सुरक्षा वापस ली गयी
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


शिक्षा ही निर्धारित करती है देश का भविष्य: चौधरी

भोपाल, 14 अगस्त (वार्ता) मध्यप्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी ने कहा है कि शिक्षा ही देश का भविष्य निर्धारित करती है। प्रदेश में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने एवं शिक्षकों का मनोबल बढ़ाने के प्रयास किये जा रहे हैं।
डॉ चौधरी ने आज यहां छात्र संघ के शपथ ग्रहण समारोह में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इसी क्रम में अध्यापकों का शिक्षा विभाग में संविलियन, शिक्षकों का रिफ्रेशर कोर्स, शिक्षकों का विदेशों में भ्रमण और लगभग 30 हजार शिक्षकों का ऑनलाईन ट्रासंफर किया गया है। उन्होंने कहा कि पहली से आठवीं कक्षा तक के बच्चों को अंकुर, तरूण एवं उमंग समूह में बाटँकर उनकी योग्यता अनुसार अध्ययन करवाया जा रहा है।
डॉ. चौधरी ने कहा कि शिक्षकों एवं बच्चों के संयुक्त प्रयास से ही शिक्षा के क्षेत्र में परिवर्तन संभव है। उन्होंने बताया कि मॉडल स्कूल की तर्ज पर अन्य स्कूलों को भी विकसित किया जाएगा। शासकीय स्कूलों के स्तर और वातावरण में व्यापक सुधार लाया जायेगा, जिससे अभिभावक अपने बच्चों को प्रायवेट स्कूलों से निकालकर शासकीय स्कूलों में एडमिशन कराने के लिये प्रेरित हों।
डॉ चौधरी ने मॉडल स्कूल टी.टी. नगर में छात्र संघ के नव-निर्वाचित सदस्यों को पद की निष्ठा एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई, पदाधिकारियों को बैच लगाये और स्लैश पहनाये। स्वामी विवेकानन्द, अब्दुल कलाम, राजा भोज एवं बोस हाउस के लिये चयनित कैप्टन और वाइस कैप्टन को भी बैच लगाये एवं स्लैश पहनाये। स्कूल शिक्षा मंत्री ने मेधावी बच्चों को के.सी. मंगवानी छात्रवृत्ति प्रदान की।
बघेल
वार्ता
More News
युवा देश में सकारात्मक बदलाव लाने की चुनौती स्वीकारें-कमलनाथ

युवा देश में सकारात्मक बदलाव लाने की चुनौती स्वीकारें-कमलनाथ

07 Dec 2019 | 10:39 PM

इन्दौर, 07 दिसम्बर (वार्ता) मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि विद्यार्थियों और युवा वर्ग के सामने आज विश्व के निरंतर बदलते परिदृश्य में नयी चुनौतियां हैं। ग्राम्य भारत उनकी ओर आशाओं भरी दृष्टि से देख रहा है। वे देश में सकारात्मक बदलाव लाने की चुनौती स्वीकार करें और इसी के अनुरूप कार्य करें।

see more..
image