Wednesday, Nov 20 2019 | Time 19:19 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • पुरुष ट्रैप स्पर्धा में चार को बढ़त
  • उप्र में यातायात नियमों का उल्लंघन कर पर दो लाख साढे 23 हजार के कटे चालान
  • मुख कैंसर से पिछले साल मौत के मुंह में समा गये 39,951 लोग
  • अफगानिस्तान: तालिबान हमले में 13 जवान मारे गये
  • पंजाब में कपूरथला से तीन बम बरामद
  • चीनी का उत्पादन 64 प्रतिशत घटा
  • पंजाब के शाहकोट से 40 किलो चूरा पोस्त बरामद, तीन गिरफ्तार
  • हिसार हवाईअड्डा परियोजना को लेकर दुष्यंत ने ली अधिकारियों की बैठक
  • महिन्द्रा ने कल्याण में महिन्द्रा हैप्पीनेस्ट परियोजना शुरू की
  • रात का तापमान पश्चिम मध्य प्रदेश में गिरा
  • जूनियर एथलेटिक्स मीट में होंगे डोप टेस्ट
  • हरियाणा विस का विशेष सत्र 26 नवम्बर को
  • अठारह साल तक के बच्चों को मिले मुफ्त शिक्षा: सत्यार्थी फ़ाउंडेशन
  • बीएमडब्ल्यू की बीएस6 कारों की कीमतों में होगी 6 फीसदी तक की बढोतरी
  • चिटफंड में सुरक्षित निवेश संबंधी विधेयक लोकसभा में पारित
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


टंडन द्वारा विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति का त्यागपत्र अस्वीकृत

भोपाल, 27 सितंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. बालकृष्ण शर्मा का त्यागपत्र अस्वीकृत कर दिया है और उन्हें पद पर कार्य करते रहने के निर्देश दिये हैं।
आधिकारिक जानकारी के अनुसार श्री टंडन ने विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति पद से प्रो. शर्मा का त्याग-पत्र मिलने पर उन्हें समक्ष में उपस्थित होकर पक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश दिये थे। श्री टंडन ने प्रो. शर्मा से त्याग-पत्र के कारणों के संबंध में जानकारी प्राप्त की। कुलपति ने बताया कि विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों के उदंडतापूर्ण व्यवहार से शैक्षणिक गतिविधियों के सुचारू संचालन में बाधा उत्पन्न हो रही हैं। छात्रों के ऐसे व्यवहार से आहत होकर वे कुलपति पद से त्याग-पत्र देने को विवश हुए हैं।
राज्यपाल श्री टंडन ने विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति के पक्ष को गंभीरता पूर्वक सुनने के बाद कहा कि विश्वविद्यालय में अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं की जायेगी। अभद्र व्यवहार और उदंडतापूर्ण आचरण करने वालों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए। श्री टंडन ने प्रो. शर्मा से कहा कि विश्वविद्यालय के कुलपति को परिसर में अनुशासन स्थापित करने के संपूर्ण अधिकार हैं। प्राप्त अधिकारों का निष्पक्ष रहकर विवेकपूर्ण उपयोग करें। उदंड तत्वों के विरूद्ध कठोर कार्रवाई की जाये। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की गरिमा और शिक्षण व्यवस्था के लिए अनुशासित व्यवहार अनिवार्य है।
राज्यपाल ने कहा कि कुलपति के वैधानिक और न्याय संगत कार्यो को राजभवन से पूरा सहयोग मिलेगा। श्री टंडन ने प्रो. बालकृष्ण शर्मा का त्याग-पत्र अस्वीकार करते हुए उन्हें पद पर कार्य करते रहने के निर्देश दिए।
व्यास
वार्ता
image