Friday, Nov 22 2019 | Time 00:33 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • मिस्टर ग्रैंड इंटरनेशनल प्रतियोगिता जीतने वाले पहले एशियाई बने अश्विनी
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


झाबुआ में चरम पर पहुंचा चुनाव प्रचार शनिवार शाम को थम जाएगा

झाबुआ, 18 अक्टूबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के झाबुआ विधानसभा उपचुनाव में सत्तारूढ़ दल कांग्रेस और मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नेताओं के आरोप प्रत्यारोप के दौर के बीच चरम पर पहुंच चुका चुनाव प्रचार अभियान शनिवार शाम को थम जाएगा। इसके बाद नेता घर घर पहुंचकर जनसंपर्क कर सकेंगे।
झाबुआ में 21 अक्टूबर को मतदान होगा और नतीजे 24 अक्टूबर मतों की गिनती के बाद आएंगे।
चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस जहां अपने दस माह के शासन के दौरान प्रदेश में किए गए जनहितैषी कार्यों को लेकर जनता के बीच पहुंची, वहीं भाजपा नेताओं ने कांग्रेस के विधानसभा चुनाव के पहले किए गए वादों को पूरा नहीं किए जाने के आरोप लगाते हुए मुद्दे उठाए। इसमें किसानों की ऋणमाफी का मुद्दा भी शामिल है।
झाबुआ में मुख्य मुकाबला कांग्रेस के वरिष्ठ आदिवासी नेता एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री कांतिलाल भूरिया तथा भाजपा के युवा नेता भानु भूरिया के बीच है, हालाकि यहां से कुल पांच प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं।
कांग्रेस की ओर से मुख्यमंत्री कमलनाथ और जनसंपर्क मंत्री पी सी शर्मा के अलावा मंत्री सर्वश्री सुरेन्द्र सिंह बघेल, जयवर्धन सिंह, प्रियव्रत सिंह, बाला बच्चन, जीतू पटवारी, सुश्री विजयलक्ष्मी साधौ, कमलेश्वर पटेल, ओकार सिंह मरकाम, तुलसी सिलावट, सज्जन सिंह वर्मा और सचिन यादव ने भी इस क्षेत्र में प्रचार किया। श्री कमलनाथ चुनाव प्रचार के अंतिम दिन झाबुआ जिले के रानापुर में एक जनसभा को संबोधित कर सकते हैं।
वहीं भाजपा की ओर से पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, विधानसभा में विपक्ष के नेता गोपाल भार्गव, वरिष्ठ नेता कैलाश विजयवर्गीय और अन्य नेताओं ने भी चुनाव प्रचार अभियान की कमान संभाली।
झाबुआ विधानसभा उपचुनाव में 02 लाख 77 हजार 599 मतदाता मतदान कर सकेंगे, जिनमें एक लाख 39 हजार 330 पुरुष तथा एक लाख 36 हजार 266 महिला और तीन थर्ड जेंडर मतदाता शामिल हैं। उपचुनाव के लिए 21 अक्टूबर को मतदान होना है, जिसके लिए साढ़े तीन सौ से अधिक मतदान केंद्र बनाए गए हैं। मतों की गिनती 24 अक्टूबर को होगी।
झाबुआ में भाजपा विधायक जी एस डामाेर के रतलाम-झाबुआ संसदीय सीट से भाजपा के ही टिकट पर सांसद चुने जाने के कारण विधायक पद से त्यागपत्र देने के कारण यहां पर उपचुनाव हो रहा है।
सं बघेल प्रशांत
वार्ता
image