Sunday, Jan 19 2020 | Time 18:18 Hrs(IST)
image
BREAKING NEWS:
  • यशस्वी, प्रियम और ध्रुव के अर्धशतक
  • आरिफ खान ने केरल सरकार से सीएए को लेकर रिपोर्ट मांगी
  • मुजफ्फरनगर के छात्र की लखनऊ सड़क दुर्घटना में मृत्यु
  • निर्भया: पवन के एक और दाव पर सोमवार को सुनवाई
  • हलवा रस्म के साथ कल से बजट की छपाई होगी शुरू
  • नागरिकता (संशोधन) कानून की आवश्यकता नहीं : शेख हसीना
  • नैनीताल में धुंए से दम घुटने से मां, बेटे की मौत
  • बुलंदशहर में अवैध वूसली के आरोप में दो पुलिसकर्मी निलंबित
  • मुख्यमंत्री से कोई विवाद नहीं है : विज
  • शास्त्रीय संगीत गायिका सुनंदा पटनायक का निधन
  • पेरियार से संबंधित बयान को लेकर रजनीकांत के खिलाफ मामला दर्ज
  • जागृत लोकतंत्र के लिए जन-आंदोलन जरूरी: गंगेश मिश्र
राज्य » मध्य प्रदेश / छत्तीसगढ़


मध्यप्रदेश सरकार जल्द लाएगी लैंड पूलिंग पॉलिसी: जयवर्धन

भोपाल, 19 नवंबर (वार्ता) मध्यप्रदेश के नगरीय विकास मंत्री जयवर्धन सिंह ने आज कहा कि राज्य सरकार जल्द ‘लैंड पूलिंग पॉलिसी’ लाएगी, जिसमें भू धारकों को ‘स्टेक होल्डर’ बनाकर भूमि का विकास किया जाएगा।
श्री सिंह ने यहां पत्रकारों से चर्चा में अपनी सरकार की 11 महीने को उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि इस पॉलिसी में हाउसिंग बोर्ड, एम पी टूरिज्म डिपार्टमेंट एवं स्थानीय निकाय भी सम्मिलित किये जायेंगे। ताकि आवश्यकता के अनुरूप भूमि को चिन्हित कर ‘स्टेक होल्डर’ के साथ सांझे स्वरूप में नियोजित विकास किया जा सके।
उन्होंने कहा कि आज रियल स्टेट कारोबार को सकारात्मक रूप से महत्व देने की आवश्यकता है। हम रियल स्टेट की एक पृथक से पॉलिसी बनाकर वन-स्टेट, वन-रजिस्टेशन का फार्मूला लाने जा रहे हैं, जिसका लाभ संबंधितों को होगा।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री आवास मिशन अंतर्गत एक लाख पंद्रह हजार आठ सौ बयानवें आवासीय इकाईयों के निर्माण की योजना स्वीकृत की जा चुकी है। प्रदेश के डेढ़ लाख भूमिहीन परिवारों को अब तक निवास योग्य पट्टे वितरण की कार्यवाही प्रचलित है। प्रदेश और शहरों को प्रदूषण से बचाने की दिशा में हमने एक बड़ा कदम उठाया है। मध्यप्रदेश के 5 नगरीय निकायों में 380 इलेक्ट्रिक बसें संचालित जाएंगी।
श्री सिंह ने बताया कि इसके अलावा सभी 378 नगरीय निकायों में 80 हजार से अधिक रूफ वॉटर हार्वेस्टिंग स्ट्रक्चर स्थापित किये गये तथा 10 लाख पौधों का रोपण किया गया। नगरीय निकायों में 11 लाख पारंपरिक लाईटों को एलईडी से परिवर्तित किये जाने का लक्ष्य है, जिससे विद्युत खपत में कमी आएगी। सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग को रोकने चार लाख से अधिक कपड़े के झोले बांटे गए हैं।
उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश के शहरों का नियोजन विश्वस्तरीय हो, इसके दृष्टिगत हमनें टोक्यो, शंघई, हॉगकांग, जोहांसबर्ग, म्यूनिख, लंदन, न्यूयार्क अर्थात विश्व प्रसिद्ध सात मास्टर प्लानों का अध्ययन किया है और मध्यप्रदेश के 34 शहरों का मास्टर प्लान हूबहू उसी तर्ज पर जीआईएस बेस्ड बनाने जा रहे हैं।
बघेल
वार्ता
image